Home राज्यवार दिल्ली सुनवाई में देर, जेल जाने के बाद मिली अग्रिम जमानत, सुप्रीम कोर्ट में...

सुनवाई में देर, जेल जाने के बाद मिली अग्रिम जमानत, सुप्रीम कोर्ट में 45 दिन बाद सूचीबद्ध हुई याचिका

अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली।

Updated Sun, 18 Oct 2020 01:45 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सुनने में यह भले अटपटा लगे, लेकिन सच है कि सुनवाई में देरी होने से एक व्यक्ति को अग्रिम जमानत तब मिली जब वह जेल जा चुका था। तमिलनाडु के इस शख्स की अग्रिम जमानत याचिका सुप्रीम कोर्ट में 45 दिन बाद सूचीबद्ध हुई तो कोर्ट ने कहा कि उसे गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए। हालांकि तब तक वह जेल जा चुका था।

जस्टिस एएम खानविलकर की पीठ के समक्ष शुक्रवार को याचिका सूचीबद्ध थी। केस फाइल देखकर पीठ ने कहा कि अगर एक व्यक्ति पत्नी से विवाद नहीं सुलझा सका तो क्या उसे गिरफ्तार होन चाहिए? उस व्यक्ति के वकील को सुनने से पहले पीठ मान चुकी थी कि गिरफ्तारी से राहत मिलनी चाहिए। पीठ ने न केवल उसे गिरफ्तारी से राहत दी बल्कि उसकी पत्नी और तमिलनाडु पुलिस को नोटिस जारी किया।

इस पर याची के वकील ने मुवक्किल के जेल में होने की जानकारी दी। उन्होंने बताया, 27 अगस्त को दाखिल अग्रिम जमानत याचिका 16 अक्तूबर को सूचीबद्ध हुई। वकील ने पीठ से यह निर्देश देने की गुजारिश की कि रजिस्ट्री अग्रिम जमानत याचिका जल्द सूचीबद्ध करे। प्रयास होना चाहिए कि आगे अग्रिम जमानत याचिका दायर करने वालों के साथ ऐसा न हो। इस पर पीठ ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि ‘अब इस याचिका को मतलब ही नहीं रह गया है।’ इसके बाद पीठ ने याची को गिरफ्तारी से संरक्षण देने का आदेश डिलीट करवाया। पीठ ने कहा कि ‘याची चाहे तो अब नियमित जमानत के लिए ट्रायल कोर्ट का दरवाजा खटखटाया सकता है।’

सुनने में यह भले अटपटा लगे, लेकिन सच है कि सुनवाई में देरी होने से एक व्यक्ति को अग्रिम जमानत तब मिली जब वह जेल जा चुका था। तमिलनाडु के इस शख्स की अग्रिम जमानत याचिका सुप्रीम कोर्ट में 45 दिन बाद सूचीबद्ध हुई तो कोर्ट ने कहा कि उसे गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए। हालांकि तब तक वह जेल जा चुका था।

जस्टिस एएम खानविलकर की पीठ के समक्ष शुक्रवार को याचिका सूचीबद्ध थी। केस फाइल देखकर पीठ ने कहा कि अगर एक व्यक्ति पत्नी से विवाद नहीं सुलझा सका तो क्या उसे गिरफ्तार होन चाहिए? उस व्यक्ति के वकील को सुनने से पहले पीठ मान चुकी थी कि गिरफ्तारी से राहत मिलनी चाहिए। पीठ ने न केवल उसे गिरफ्तारी से राहत दी बल्कि उसकी पत्नी और तमिलनाडु पुलिस को नोटिस जारी किया।

इस पर याची के वकील ने मुवक्किल के जेल में होने की जानकारी दी। उन्होंने बताया, 27 अगस्त को दाखिल अग्रिम जमानत याचिका 16 अक्तूबर को सूचीबद्ध हुई। वकील ने पीठ से यह निर्देश देने की गुजारिश की कि रजिस्ट्री अग्रिम जमानत याचिका जल्द सूचीबद्ध करे। प्रयास होना चाहिए कि आगे अग्रिम जमानत याचिका दायर करने वालों के साथ ऐसा न हो। इस पर पीठ ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि ‘अब इस याचिका को मतलब ही नहीं रह गया है।’ इसके बाद पीठ ने याची को गिरफ्तारी से संरक्षण देने का आदेश डिलीट करवाया। पीठ ने कहा कि ‘याची चाहे तो अब नियमित जमानत के लिए ट्रायल कोर्ट का दरवाजा खटखटाया सकता है।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

मेरी लाइफ तनिष्क के एड की तरह, अली के परिवार से मिला बहुत प्यार: ऋचा चड्ढा

कुछ दिन पहले तनिष्क के एक एड ने पूरे देश में बवाल खड़ा कर दिया था. हिंदू-मुस्लिम की एकता दिखा रहा वो एड सोशल...

पटना में मिले कोरोना के 301 नए मरीज, 5 संक्रमितों की मौत, राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर हुई 199548

Hindi NewsLocalBiharPatna301 New Corona Patients Found In Patna, Death Of 5 Infected, Number Of Infected In The State Increased 199548पटना5 घंटे पहलेकॉपी लिंकपटना में...

प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर सपाइयों ने किया प्रदर्शन

{"_id":"5f8dd2138ebc3ea372521653","slug":"sp-workers-took-to-the-street-to-protest-against-the-increase-in-crime-sonbhadra-news-vns5538257174","type":"story","status":"publish","title_hn":"u092au094du0930u0926u0947u0936 u092eu0947u0902 u092cu093fu0917u0921u093cu0924u0940 u0915u093eu0928u0942u0928 u0935u094du092fu0935u0938u094du0925u093e u092au0930 u0938u092au093eu0907u092fu094bu0902 u0928u0947...

बिहार चुनाव: बीजेपी बनेगी सबसे बड़ी पार्टी? हर बार बढ़ा वोट प्रतिशत, 2015 में 24% वोट लाकर भी रही पीछे

पिछले चार बिहार विधानसभा चुनावों में राष्ट्रीय पार्टियों के वोट शेयर में लगातार बढ़ोतरी हुई है। इसमें राष्ट्रीय पार्टी भाजपा के मत प्रतिशत में...