Home क्राइम फैक्ट चेक: इजरायली सैनिक द्वारा ​फिलीस्तीनी लड़के की हत्या की नहीं है...

फैक्ट चेक: इजरायली सैनिक द्वारा ​फिलीस्तीनी लड़के की हत्या की नहीं है ये तस्वीर

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें दिख रहा है कि एक बच्चा जमीन पर औंधे मुंह पड़ा है और उसके मुंह से खून बह रहा है. एक सुरक्षा अधिकारी उसकी गर्दन पर घुटने टेक कर बैठा है. इस तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि कैसे एक इजरायली सैनिक ने एक फिलिस्तीनी लड़के को मार डाला. यह तस्वीर इसे ध्यान में रखकर शेयर​ की जा रही है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में अफ्रीकी-अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की मौत इसी तरह से हुई थी.

फेसबुक यूजर “Sabiha Mir ” ने यह तस्वीर शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा है, “ऊपर एक इजरायली सैनिक और उसके घुटने के नीचे एक निर्दोष फिलिस्तीनी बच्चे की गर्दन. इजरायली सैनिक ने बच्चे को मौत के घाट उतार दिया, जबकि वह सांस लेने की भीख मांगता रहा, जैसा जॉर्ज फ्लॉयड ने किया था. दुर्भाग्य से फिलिस्तीन में इजरायली सैनिकों द्वारा यह करतूत आम है.”

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि तस्वीर के साथ किया जा रहा दावा गलत है. यह घटना चार साल पुरानी है और लैटिन अमेरिकी देश चिली की है, जिसमें दीवारों पर पेंटिंग बनाने के लिए एक लड़के को गिरफ्तार किया गया था.

यह भ्रामक पोस्ट सोशल मीडिया पर खूब शेयर​ की जा रही है. पोस्ट का आर्काइव यहां देखा जा सकता है. कुछ हिंदी वेबसाइट्स ने भी इस वायरल पोस्ट को सच मानते हुए इस पर लेख प्रकाशित किए हैं.

AFWA की पड़ताल

इनविड टूल की मदद से हमें इस घटना से सं​बंधित स्पेनिश भाषा में एक आर्टिकल मिला. यह आर्टिकल 2 अक्टूबर, 2016 को प्रकाशित हुआ है. इस आर्टिकल में इस घटना के वीडियो का इस्तेमाल करते हुए बताया गया है कि यह चिली के वालपराइसो शहर की घटना है.

हमें इस घटना का एक वीडियो फेसबुक पर भी मिला.

(चेतावनी: हिंसक/ग्राफिक वीडियो)

स्पेनिश में कुछ कीवर्ड्स के इस्तेमाल से हमें इसी घटना की एक रिपोर्ट मिली जो चिली के रेडियो​ स्टेशन ADN की है. इस रिपोर्ट में भी कहा गया है कि यह वीडियो वालपारासो का है और चिली के तस्वीर में दिख रहे सुरक्षा अधिकारी की पहचान चिली के पुलिस अधिकारी एफ वेनेगास के रूप में की गई है.

चिली की एक न्यूज वे​बसाइट “24 horas” ने भी अक्टूबर, 2016 में इस घटना के बारे में रिपोर्ट प्रकाशित की थी. पुलिस वाले ने एक दीवार पर पेंटिंग बनाते हुए एक लड़के को पकड़ा और उसे हिरासत में ले लिया.

वीडियो को बारीकी से जांचने पर हमने पाया कि पुलिस अधिकारी की बांह पर एक हरे रंग का प्रतीक चिन्ह है. यह प्रतीक चिन्ह चिली के राष्ट्रीय पुलिस बल ‘काराबिनेरोस डी चिली’ के लोगो से मिलता है.

thumbnail_2_061020040228.png

ये सभी सबूत साबित करते हैं कि वायरल तस्वीर इजरायल-फिलिस्तीन संघर्ष से संबंधित नहीं है, बल्कि चिली की है. इसके अलावा किसी न्यूज रिपोर्ट में यह नहीं कहा गया है कि इस लड़के की मौत हो गई.

हालांकि वायरल तस्वीर चिली की है, लेकिन इजरायली सैनिकों द्वारा फिलिस्तीनियों को ऐसे तरीके से हिरासत में लेने की कई खबरें मौजूद हैं, जहां गर्दन को घुटने से दबाकर लोगों को काबू में किया जाता है. जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद कई कार्यकर्ताओं ने अमेरिकी और इजरायली सुरक्षा बलों को इस मामले में एक जैसा बताया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

सूरत : हेमा मालिनी ने एकल ऑनलाइन लाइफस्टाइल एग्जीबिशन की शुरुआत की – लोकतेज

पहले दिन हज़ारों लोगों ने ऑनलाइन खरीदी की वनबंधु परिषद – राष्ट्रीय महिला समिति की ओर से आयोजित एकल ऑनलाइन लाइफ़स्टाइल एग्जीबिशन की शुरुआत...

मुंबई हवाईअड्डे पर अब प्रस्थान करने वाले यात्रियों को भी कोविड-19 की जांच सुविधा

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।भाषा | Updated: 17 Oct 2020,...

‘कुमकुम भाग्य’ एक्ट्रेस जरीना रोशन खान का हुआ निधन, 54 वर्ष की उम्र में कहा अलविदा

जरीना रोशन खान (Zarina Roshan Khan) ने कहा दुनिया को अलविदाखास बातें'कुमकुम भाग्य' एक्ट्रेस जरीना रोशन खान का हुआ निधन एक्ट्रेस ने 54 वर्ष की...