Home राज्यवार दिल्ली नोएडा के पूर्व मुख्य इंजीनियर यादव सिंह को ठेके देने में तरफदारी...

नोएडा के पूर्व मुख्य इंजीनियर यादव सिंह को ठेके देने में तरफदारी करने के लिए एमयूवी मिली थी :सीबीआई

नयी दिल्ली, 10 जून (भाषा) सीबीआई ने एक विशेष अदालत में दाखिल आरोप पत्र में कहा है कि नोएडा के तत्कालीन मुख्य अभियंता यादव सिंह को 2007-11 के दौरान एक ठेकेदार को बढ़ी हुई दरों पर विद्युत कार्यों के सात ठेके देने में तरफदारी के लिये कथित रूप से मल्टी-यूटिलिटी व्हीकल (एमयूवी) मिली थी। अधिकारियों ने बुधवार को यह बात कही। उन्होंने कहा कि इससे नोएडा प्राधिकरण को 1.76 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था। एजेंसी ने नवीन ओखला औद्योगिक विकास प्राधिकरण (नोएडा) में यादव सिंह के कार्यकाल के दौरान ठेके देने में उनके कथित भाई-भतीजावाद और भ्रष्टाचार से जुड़ी प्राथमिकी

डिसक्लेमर: यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

भाषा | Updated:

नयी दिल्ली, 10 जून (भाषा) सीबीआई ने एक विशेष अदालत में दाखिल आरोप पत्र में कहा है कि नोएडा के तत्कालीन मुख्य अभियंता यादव सिंह को 2007-11 के दौरान एक ठेकेदार को बढ़ी हुई दरों पर विद्युत कार्यों के सात ठेके देने में तरफदारी के लिये कथित रूप से मल्टी-यूटिलिटी व्हीकल (एमयूवी) मिली थी। अधिकारियों ने बुधवार को यह बात कही। उन्होंने कहा कि इससे नोएडा प्राधिकरण को 1.76 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था। एजेंसी ने नवीन ओखला औद्योगिक विकास प्राधिकरण (नोएडा) में यादव सिंह के कार्यकाल के दौरान ठेके देने में उनके कथित भाई-भतीजावाद और भ्रष्टाचार से जुड़ी प्राथमिकी से संबंधित तीन अलग-अलग आरोपपत्र दाखिल किये। जांच एजेंसी ने सिंह के अलावा लाभार्थी कंपनी गुल इंजीनियर्स के जावेद अहमद, सहायक परियोजना इंजीनियरों रमिंदर और विमल कुमार मांगलिक के साथ नोएडा के अन्य अधिकारियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किये हैं। सीबीआई प्रवक्ता आर के गौड़ ने कहा कि एजेंसी ने सिंह और अन्य के खिलाफ गाजियाबाद की एक विशेष अदालत में भारतीय दंड संहिता की धारा 120बी (आपराधिक षड्यंत्र) के साथ 420 (धोखाधड़ी) और भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम के संबंधित प्रावधानों के तहत तीन आरोप पत्र दाखिल किये हैं। सीबीआई ने आरोप लगाया कि अधिक क्षमता वाली बिजली की लाइन के तार डालने से जुड़े ठेके अहमद को अत्यधिक दरों पर दिये गये थे जबकि उनकी कंपनी गुल इंजीनियर्स को पर्याप्त अनुभव भी नहीं था। एजेंसी ने आरोप पत्रों में कहा कि सिंह समेत निविदा समिति के सदस्यों ने कथित तौर पर वास्तविक बाजार मूल्यों को देखे बिना बढ़ी हुई दरों को सही ठहराया था। एजेंसी ने 2007-08, 2008-09 और 2010-11 के लिए तीन अलग-अलग आरोप पत्र दाखिल किये हैं जिनमें संबंधित वर्षों में ठेके देने में कथित आपराधिकता का ब्योरा है।(यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।)

Web Title former chief engineer of noida yadav singh got cuv for favoring in awarding contracts(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

फ़्रांस: चाकू से हमले में तीन लोगों की मौत, एक महिला का सिर काटा गया – BBC News हिंदी

29 अक्टूबर 2020, 16:10 ISTअपडेटेड 45 मिनट पहलेइमेज स्रोत, EPAइमेज कैप्शन, हमले वाली जगह पर पुलिसफ़्रांस के नीस शहर में एक संदिग्ध हमलावर ने...

ससुराल में ढोल-नगाड़ों के बीच नेहा कक्कड़ का जोरदार स्वागत, वेडिंग रिसेप्शन में नई नवेली दुल्हन ने किया जमकर डांस

2 घंटे पहलेकॉपी लिंकपॉपुलर सिंगर नेहा कक्कड़ ने 24 अक्टूबर को राइजिंग स्टार फेम सिंगर रोहन प्रीत सिंह से शादी कर ली है। दोनों...

डॉक्टरों के वेतन मुद्दे पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री बोले, समय लेकर भी मिलने नहीं आए MCD के तीनों मेयर

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली में डॉक्टरों के वेतनमान का मुद्दा गरमाने लगा है और इस पर जमकर राजनीति भी हो रही है।...