Home राज्यवार मुंबई मुंबई की पहचान थे डब्बावाले, कोरोना वायरस से खड़ा हुआ अस्तित्व पर...

मुंबई की पहचान थे डब्बावाले, कोरोना वायरस से खड़ा हुआ अस्तित्व पर खतरा

जो डब्बावाले मुंबई शहर की पहचान हुआ करते थे, कोरोना वायरस के चलते आज उनके अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है। कुछ ने अपने-अपने गांव लौटकर खेती का रास्ता अपनाया, लेकिन चक्रवाती तूफान निसर्ग उनके घरों के साथ-साथ खेतों को भी नुकसान पहुंचाया है।

Edited By Shivam Bhatt | भाषा | Updated:

मुंबई

जो डब्बावाले मुंबई शहर की पहचान हुआ करते थे, कोरोना वायरस ने एक झटके में उनकी और उनके परिवारवालों की दुनिया उजाड़ दी है। मुंबई में डब्बावालों का काम बंद हुए करीब 3 महीने हुए जा रहे हैं और आगे भी उनका काम शुरू होगा, इसका खुद उन्हें ही कोई भरोसा नहीं। कई डब्बावाले अपने-अपने गांव लौट गए हैं और वहीं काम तलाश रहे हैं। कुछ ने खेती का रास्ता अपनाया, लेकिन चक्रवाती तूफान निसर्ग उनके घरों के साथ-साथ खेतों को भी नुकसान पहुंचाया है।

मुंबई डब्बावाला असोसिएशन के प्रवक्ता सुभाष तालेकर ने कहा कि अन्य असंगठित क्षेत्रों की तरह ही डब्बावालों को भी सरकार से मदद की जरूरत है। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए डब्बावालों ने 19 मार्च को ही अपनी सेवाएं बंद कर दी थीं। सरकार अब मुंबई में कार्यालयों और कारोबार को खोलने की अनुमति दे रही है, लेकिन डब्बावाले अपनी सेवा के साथ कब लौटेंगे, इसको लेकर अनिश्चितता बरकरार है।

‘लोकल ट्रेनों पर निर्भर हमारा काम, जाने कब चलेंगी ट्रेनें’

तालेकर ने कहा, ‘हमारी सेवाएं पूरी तरह से लोकल ट्रेनों पर निर्भर हैं। हम लोकल ट्रेनों के शुरू होने तक अपनी सेवाएं भी शुरू नहीं कर सकते हैं। कौन जानता है कि ट्रेन सेवा कब शुरू होगी, जुलाई या अगस्त में?’ तालेकर ने कहा कि ग्राहकों की प्रतिक्रिया कैसी होगी, यह भी अनिश्चित है।



‘जिन लोगों ने रिश्तेदारों पर बैन लगाया, वे हमें घुसने देंगे?’


तालेकर ने यह भी कहा कि शहर की ज्यादातर इमारतों, हाउसिंग सोसाइटीज ने रिश्तेदारों तक की एंट्री पर बैन लगाया हुआ है। क्या वे हमें खाना पहुंचाने और डब्बे ले जाने की मंजूरी देंगे, भले ही हम कितना भी मास्क और सेनिटाइजर के इस्तेमाल का ख्याल रखें। मुंबई में किसी भी आम दिन में 5,000 डब्बावाले कार्यालय जाने वालों को खाना पहुंचाते रहे हैं। ये सभी समय के पाबंद और तेजी के लिए जाने जाते हैं। 1998 में फॉर्ब्स पत्रिका ने इन्हें ‘सिक्स सिग्मा’ रेटिंग से नवाजा था।

Web Title for dabbawalas of mumbai, future is uncertain due to corona virus outbreak in the city(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

बिहार में शराबबंदी पर एलजेपी vs जेडीयू: चिराग के आरोपों पर नीतीश का पलटवार- ‘मुझे सत्‍ता से हटाना चाहते हैंं धंधेबाज’

बिहार में पहले चरण के मतदान के लिए आज शाम प्रचार थम जाएगा। इसके पहले सभी दलों के नेताओं ने अपनी पूरी ताकत...

BJP की बढ़ती मुश्किलें… चले थे बिहार संभालने, महाराष्ट्र में लग गया झटका

हाइलाइट्स:बिहार चुनाव के प्रभारी बनाये जाने के बाद से फडणवीस बिहार में बिजी थे यहां महाराष्ट्र में पार्टी में अलग बवाल शुरू थाखडसे ने...

जल्दी से फुल करा लें अपनी गाड़ी की टंकी, 6 रुपये तक महंगा हो सकता है पेट्रोल-डीजल!

नई दिल्लीः अपनी गाड़ी की टंकी को जल्द से फुल करा लें, क्योंकि केंद्र सरकार जल्द ही फेस्टिव सीजन (Festive Season) में महंगाई का...

वोकल नहीं लोकल- ईमानदार ग्राउंड रिपोर्ट/SHAMBHU'S GROUND REPORT FROM BIHAR ELECTION

बहुजन पोस्ट डॉट कॉम Amazon Website Link: यदि आप ऊपर दिए गए लिंक से कोई भी सामान खरीदते है तो Amazon से हमें कुछ आर्थिक...

मजेदार! तेजस्वी यादव जिसके लिए वोट मांगने पहुंचे, उसी का नाम भूल गए

कैमूर: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election 2020) को लेकर महागठबंधन नीतीश सरकार पर तीखे हमले कर रहा है. उसके नेता DNA विवाद से लेकर...