Home बड़ी खबरें भारत कश्मीर में आतंकियों के हाथ मारे गए सरपंच अजय पंडित की बेटी...

कश्मीर में आतंकियों के हाथ मारे गए सरपंच अजय पंडित की बेटी की ललकार- ना मेरे पिता डरे, ना मैं

Edited By Nilesh Mishra | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

जम्मू-कश्मीर: अजय पंडिता की हत्या के खिलाफ गांदरबल में सरपंचों ने किया मौन विरोध प्रदर्शन
हाइलाइट्स

  • कश्मीर में आतंकियों ने गोली मारकर ले ली थी सरपंच अजय पंडित की जान
  • अजय पंडित की बेटी शीन ने कहा है कि ना उनके पिता डरे, ना वह किसी से डरती हैं
  • शीन ने कहा कि उनके पिता की मौत का बदला देश और सरकार को लेना ही होगा
  • शीन पंडित ने कहा कि वह किसी से डरती नहीं हैं और कश्मीर जरूर जाएंगी

अनंतनाग

जम्मू-कश्मीर के शोपियों में आतंकियों के ताबड़तोड़ एनकाउंटर से हिजबुल मुजाहिदीन बौखला गया है। इसी बौखलाहट में उसने अनंतनाग जिले के लारकीपुरा इलाके के सरपंच अजय पंडित (Ajay pandita) को गोली मारकर उनकी हत्या कर दी। अब अजय पंडित की बेटी ने एक निजी न्यूज चैनल से बातचीत में कहा है कि ना तो उनके पिता किसी से डरे, ना ही वह किसी से डरती हैं। अजय पंडित की बेटी ने जोर देकर कहा है कि हम कश्मीर वापस जरूर जाएंगे।

अजय पंडित ने अपने लिए सुरक्षा की मांग की थी। इसपर उनकी बेटी ने कहा, ‘कोई इंसान तभी सुरक्षा मांगता है, जब उसे खतरा हो। जब वह सरपंच चुने गए तब तो सरकार की जिम्मेदारी थी, सुरक्षा देने की। देश के लिए काम करने वालों का भी ध्यान नहीं रखा जाता। अगर आज पापा का बदला नहीं लिया गया तो क्या असर पड़ेगा देशपर? उन्होंने अपने नाम के आगे ‘भारती’ लगा दिया, इतना प्यार करते थे वह अपने देश से। वह कोई सैनिक नहीं थे लेकिन वह देश के लिए जीते थे।’

अजय पंडित की बेटी ने कहा- देश कब करेगा पापा की सेवा

उनकी बेटी ने आगे कहा, ‘मेरे पापा ने सिर्फ अपने गांव से नहीं बल्कि पूरे इंडिया से प्यार किया। जैसे उनके कर्म थे, वह बहुत आगे जाते। वह कभी अपने काम से पीछे नहीं हटते। वह देश की सेवा कर रहे थे, देश उनकी सेवा कब करेगा? मैं मानती हूं आर्मी वाले और पुलिस वाले भी यही करते हैं, मेरे पापा ने भी बहुत कुछ किया। उन्होंने बहुत प्लानिंग की थी कि देश के लिए बहुत कुछ करना है। उन्हें इसीलिए मारा गया कि वह एक कश्मीर पंडित थे।’

अजय पंडित की बेटी ने आगे कहा, ‘अब इस देश की जिम्मेदारी है कि वह मेरे पिता के हत्यारों को खोजे। हमारे देश के पास मैनपावर है और हम निडर हैं। मैं कह रही हूं कि मैं किसी से नहीं डरती। मेरे पापा ने भी कभी अनुच्छेद 370 हटने का कभी इंतजार नहीं किया। वह कभी डरते नहीं थे। वह निडरता से वहां गए और वहां सर्व किया। हम भी नहीं डरते हैं, वहां वापस जरूर जाएंगे।’

‘बदला मुझे नहीं, देश को लेना है’

शीन पंडिता ने आगे कहा, ‘मेरे पापा के लिए मुझे नहीं देश का बदला लेना है क्योंकि वह देश की सेवा कर रहे थे। मेरे पापा तिरंगे में लिपटकर गए। मैं भी देश की सेवा करते हुए तिरंगे में लिपटकर जाने को अपनी खुशनसीबी समझूंगी लेकिन उनकी हत्या का बदला लिया जाना बेहद जरूरी है। यहां तो मारने वाले खुलेआम कह रहे हैं कि हां हमने मारा है। यह कैसे बर्दाश्त किया जा सकता है।’

सरपंच अजय पंडित (तस्वीर साभार: सोशल मीडिया)

सरपंच अजय पंडित (तस्वीर साभार: सोशल मीडिया)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

नागोर्नो-काराबाख में आर्मीनिया और अजरबैजान में फिर भड़की जंग, रूस ने तैनात की सेना

हाइलाइट्स:आर्मीनिया और अजरबैजान के हुआ मानवीय युद्धव‍िराम अब खत्‍म होता नजर आ रहा हैआर्मीनिया और अजरबैजान दोनों ने एक-दूसरे पर भीषण हमले करने का...

दिल्ली के सभी वार्डों में जन औषधि केंद्र खोले जाने की योजना : आदेश गुप्ता

जागरण संवाददाता, बाहरी दिल्ली : आदर्श नगर वार्ड 17 में प्रधानमंत्री जन औषधि योजना के अंतर्गत जन औषधि केंद्र का शुभारंभ किया...

मेट्रो फेज-4 के एक्सटेंशन के बाद मजेंटा लाइन पर होंगे सबसे ज्यादा इंटरचेंज स्टेशन

नई दिल्लीDelhi Metro News In Hindi मेट्रो फेज-3 में बनाई गई मजेंटा लाइन में जनकपुरी वेस्ट से बॉटनिकल गार्डन तक मेट्रो ट्रेन का संचालन...

Delhi NCR Pollution 2020: दो दिन की राहत के बाद फिर बिगड़ी हवा, 400 के पार पहुंचा AQI

नई दिल्ली, जेएनएन। Delhi NCR Pollution 2020:  पंजाब और हरिय़ाणा के साथ उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में भी किसानों द्वारा जलाई जा रही...