Home राज्यवार बिहार लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्था की गाड़ी अब धीरे-धीरे पटरी पर: सुशील मोदी

लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्था की गाड़ी अब धीरे-धीरे पटरी पर: सुशील मोदी

पटना, 10 जून (भाषा) बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बुधवार को कहा कि दो महीने से ज्यादा के लॉकडाउन के बाद अब अर्थव्यवस्था की गाड़ी धीरे-धीरे पटरी पर आने लगी है। सुशील ने कहा कि अप्रैल में जहां रोजाना औसतन 135.80 करोड़ रूपये का, मई में दोगुना से ज्यादा 310.63 करोड़ रूपये का तो जून के मात्र 9 दिनों में 427.69 करोड़ रूपये का माल बाहर से बिहार में बिकने के लिए आया। इसी प्रकार कर संग्रह में भी अप्रैल के मुकाबले मई में तीन गुना से ज्यादा की वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा

डिसक्लेमर: यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

भाषा | Updated:

पटना, 10 जून (भाषा) बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बुधवार को कहा कि दो महीने से ज्यादा के लॉकडाउन के बाद अब अर्थव्यवस्था की गाड़ी धीरे-धीरे पटरी पर आने लगी है। सुशील ने कहा कि अप्रैल में जहां रोजाना औसतन 135.80 करोड़ रूपये का, मई में दोगुना से ज्यादा 310.63 करोड़ रूपये का तो जून के मात्र 9 दिनों में 427.69 करोड़ रूपये का माल बाहर से बिहार में बिकने के लिए आया। इसी प्रकार कर संग्रह में भी अप्रैल के मुकाबले मई में तीन गुना से ज्यादा की वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि अप्रैल में बाहर से 4,074 करोड़ रूपये का माल बिकने के लिए आया जिनमें मुख्य रूप से खाद्य सामग्री, दवा, चिकित्सा उपकरण व उर्वरक आदि थे तो मई में दुगुना से ज्यादा 9,630 करोड़ रूपये का माल आया जिनमें आयरन एंड स्टील, इलेक्ट्रिकल सामान, सीमेंट, कपड़ा और वाहन आदि 6568 करोड़ रूपये के थे। इस सेक्टर को निर्माण कार्य शुरू होने का लाभ मिला। वित्त मंत्रालय का जिम्मा भी संभाल रहे सुशील मोदी ने कहा कि पिछले साल के अप्रैल की तुलना में इस साल अप्रैल में कर संग्रह में 81.61 फीसदी की कमी थी वहीं मई में काफी सुधार के साथ यह कमी मात्र 42.14 प्रतिशत की रही। उन्होंने कहा कि अप्रैल 2020-21 में वाणिज्य कर, ट्रांसपोर्ट, निबंधन, खनन और भू-राजस्व से जहां 467.61 करोड़ रूपये का कर संग्रह हुआ था वहीं मई में यह करीब तीनगुना बढ़ कर 1317.72 करोड़ रूपये रहा। सुशील ने कहा कि अप्रैल में निबंधन से मात्र 4 करोड़ रूपये तो मई में 60.78 करोड़ रूपये, ट्रांसपोर्ट में 31 करोड़ रूपये तो मई में 60 करोड़ रूपये और वाणिज्य कर में 256.21 करोड़ रूपये की जगह मई में 693.90 करोड़ रूपये का संग्रह हुआ है, जो यह दर्शा रहा है कि अब अर्थव्यवस्था गति पकड़ रही है।

Web Title after the lockdown, the train of economy is now slowly on track sushil modi(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Delhi Metro News: दिल्ली मेट्रो के यात्रियों से जुड़ी अहम खबर, सफर के दौरान न करें ये गलती; 98 लोगों पर लगा फाइन

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। Delhi Metro News: राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के बीच लोगों में इस महामारी को लेकर...

देश में धीमी हुई कोरोना की रफ्तार, लगातार तीसरे दिन नए केस इतने हजार से कम

नई दिल्ली: देश में कोरोना की रफ्तार धीमी हो गई है. पिछले 24 घंटे में 54,044 नए मामले सामने आए हैं. कुल मामले बढ़कर...

क्या TRP केस सुशांत सिंह केस की राह पर है!

मुंबईफर्जी टीआरपी केस में छह अक्टूबर को मुंबई के कांदिवली पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज हुई। उसी दिन केस मुंबई की क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट...

भारत में 2025 तक होंगे 10 करोड़ बुद्धिस्ट, दिल्ली के मंत्री Rajendra Pal Gautam का संकल्प

बहुजन पोस्ट डॉट कॉम On the occasion of 14 October Dhammaksha Day, reaching Deekshabhumi, it was resolved that on 14 October 2025, 10 crore people...

यूपी: अब आजमगढ़ में पुजारी की हत्या, शराब के लिए पैसे ना देने पर लाठी-डंडे से पीटा

अब उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में एक पुजारी की हत्या कर दी गई। घटना के संबंध में मिली जानकारी के मुताबिक बुजुर्ग पुजारी ने...