Home बड़ी खबरें भारत गुजरात में बढ़ी एशियाई शेरों की आबादी, 674 पहुंची तादाद, PM ने...

गुजरात में बढ़ी एशियाई शेरों की आबादी, 674 पहुंची तादाद, PM ने दी बधाई

  • एशियाई शेर की आबादी 29 प्रतिशत तक बढ़ी
  • भौगोलिक रूप से इनका फैलाव 36% तक बढ़ा

गुजरात के गिर वन इलाके में एशियाई शेर की आबादी बढ़ गई है. इसकी जानकारी खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ट्वीट में दी. ट्वीट में प्रधानमंत्री ने लिखा, दो बहुत अच्छी खबरें हैं, गुजरात के गिर वन में रहने वाले एशियाई शेर की आबादी लगभग 29 फीसद तक बढ़ गई है. भौगोलिक रूप से, वितरण क्षेत्र (फैलाव) 36 फीसद तक बढ़ गया है.

दरअसल शेर की तादाद जहां पहले 523 थी, वहीं अब बढ़कर 674 हो गई है. 2015 में हुई आखिरी गिनती के वक्त गिर के जगंलों में शेर की तादाद 523 थी. यह गिनती हर पांच साल पर की जाती है.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ट्वीट में आगे लिखा है, “गुजरात के लोगों और उन सभी लोगों के लिए बधाई जिनके प्रयासों से यह बड़ी उपलब्धि हासिल हुई है.”

प्रधानमंत्री ने एक और ट्वीट में लिखा, पिछले कई वर्षों से गुजरात में शेरों की आबादी लगातार बढ़ रही है. यह सामुदायिक भागीदारी, प्रौद्योगिकी पर जोर, वन्यजीव स्वास्थ्य सेवा, उचित आवास प्रबंधन और मानव व शेरों के बीच संघर्ष को कम करने के कदमों का नतीजा है. आशा है कि यह सकारात्मक प्रवृत्ति आगे भी जारी रहेगी.

बता दें गुजरात के जूनागढ़ में स्थित गिर वन ‘बाघ संरक्षित क्षेत्र’ है. यह क्षेत्र पूरी दुनिया में ‘एशियाई बब्बर शेरों’ के लिए चर्चित है. जूनागढ़ नगर से 60 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित इस उद्यान का क्षेत्रफल लगभग 1,295 वर्ग किलोमीटर है. गिर वन संरक्षित क्षेत्र की स्थापना 1913 में एशियाई शेरों को संरक्षण प्रदान करने के लिए की गई थी.

पूर्णिमा की रात होती है गिनती

शेर की तादाद जहां पहले 523 थी, जो बढ़कर 674 हो गई है. 2015 में हुई आखिरी गिनती के वक्त गिर के जगंलों में शेर की तादाद 523 थी. यह गिनती हर पांच साल पर की जाती है. वनविभाग के मुताबिक, 15वीं एशियाई शेरों की गणना मई के महीने में होने वाली थी, लेकिन कोरोना की वजह से मई में नहीं हो पाई. यह गणना इसी महीने की 5 और 6 तारीख की पूर्णीमा को की गई. शेरों की गणना पूर्णिमा की रात को होती है. जिसे ब्लॉक काउंट मेथड कहा जाता है. इस डेटा में टाइम, जीपीएस लोकेशन, शेर के ग्रुप और उनकी तादाद, रेडियो कॉलर नंबर्स, ई-गुजरात फॉरेस्ट डेटा के आधार पर पूरी गिनती की जाती है.

केंद्र सरकार की मदद

बीते पांच साल में यहां 151 शेर बढ़े हैं और अब इनकी तादाद 674 हो गई है. इससे पर्यावरण प्रेमी काफी खुश हैं. शेर पहले जहां एक ही जिले यानी जूनागढ़ तक सीमित थे, अब उनका रेंज बढ़ गया है. शेरों का रेंज अब 30,000 स्कॉयर किलोमीटर हो गया है, जो 30 फीसद ज्यादा है. यह क्षेत्र 2015 में 22000 स्कॉयर किलोमीटर था. अधिकारियों की मानें तो शेरों की तादाद 2001 की तुलना में अब दोगुनी हो गई है. वन एवं पर्यावरण विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी राजीव गुप्ता ने शेरों की तादाद बताते हुए कहा कि इस संख्या में अच्छी बढ़ोतरी हुई है जिसमें केंद्र की मोदी सरकार की बहुत मदद मिली है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android IOS



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

DC vs SRH: लगातार 2 मैच हार चुकी है दिल्ली, आज ‘प्ले ऑफ’ कर पाएगी पक्का?

स्टोरी हाइलाइट्स प्ले ऑफ में जगह पक्की करने उतरेगी दिल्ली दिल्ली कैपिटल्स 14 अंकों के साथ...

सिसोदिया ने तीर चलाकर किया कोरोना व वायु प्रदूषण का वध

जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : इस बार कोरोना महामारी के चलते दिल्ली की ऐतिहासिक रामलीलाओं का न मंचन हुआ और न ही विजय...

द्वारका में महिला सुरक्षा को लेकर छिड़ी बहस

जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली : द्वारका में सड़क पर एक युवती का पीछा कर अश्लील हरकत करने वाला कोई और नहीं दिल्ली...

पाटलिपुत्र की लड़ाई एकतरफा समझ रहे चौंक सकते हैं- बिहार चुनाव पर बोले कुमार विश्वास

सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने वाले मशहूर कवि कुमार विश्वास ने बिहार चुनाव में चौंकाने वाले नतीजों की बात कही है। कुमार विश्वास ने...

वजन घटाने का आसान फॉर्मूला, करें भारी नाश्‍ता और हल्‍का डिनर, मिलेगा परफेक्‍ट रिजल्‍ट

ब्रेकफास्ट राजा की तरह, लंच राजकुमार की तरह और डिनर गरीब की तरह करना चाहिए, हम सभी ने यह कहावत सुनी है। जब वजन...

अमेजन को अंतरिम राहत, रिलायंस-फ्यूचर सौदे पर लगी रोक

फ्यूचर समूह ने रिलायंस के साथ 24,713 करोड़ रुपये का सौदा कर रखा हैनई दिल्ली: अमेजन को अपने भारतीय साझेदार फ्यूचर ग्रुप के खिलाफ...