Home बड़ी खबरें भारत केरल हथिनी हत्याकांड: तीन गिरफ्तार आरोपियों ने कहा- हाथी नहीं, जंगली सुअर...

केरल हथिनी हत्याकांड: तीन गिरफ्तार आरोपियों ने कहा- हाथी नहीं, जंगली सुअर के लिए लगाए पटाखे

Edited By Nilesh Mishra | पीटीआई | Updated:

पटाखे खा लेने से हुई थी हथिनी की मौत
हाइलाइट्स

  • केरल हथिनी हत्याकांड में पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, तीन आरोपी हुए गिरफ्तार
  • आरोपियों ने कहा- हाथियों के लिए नहीं, जंगली सुअर के लिए फल में रखे थे पटाखे
  • अभी पलक्कड़ वाली घटना के दो मुख्य आरोपियों की तलाश जारी है
  • पटाखे वाले फल खाने के कारण बीते दो महीने के अंदर दो गर्भवती हथिनियों की मौत

कोल्लम/ पलक्कड़

केरल के कोल्लम जिले में गर्भवती हथिनी की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं, पलक्कड़ जिले में पिछले महीने हुई हथिनी की मौत के मामले में दो मुख्य आरोपियों की तलाश जारी है। इन दोनों ही हथिनियों ने फलों में रखे हुए पटाखे खा लिए थे, जिनके धमाके से उनके मुंह में घाव हो गए थे। कुछ खा-पी ना पाने के कारण दोनों हथिनियों की मौत हो गई थी। आरोपियों ने कहा है कि उन्होंने हाथियों के लिए नहीं बल्कि जंगली सुअरों के लिए फल में पटाखे रखे थे।

कोल्लम जिले के वन अधिकारी ने बताया, ‘पथनमपुरम में हुई हथिनी की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। मामले में कुल पांच आरोपी हैं, जिसमें से दो अभी भी फरार चल रहे हैं। फरार आरोपियों की तलाश जारी है।’ गिरफ्तार किए गए आरोपियों ने कहा है कि हाथी उनका शिकार नहीं थे। उन्होंने तो जंगली सुअर और भालुओं के लिए पटाखे वाले फल रखे थे लेकिन गलती से हाथियों ने इन्हें खा लिया।



मरने से पहले 14 दिन तक भूख-प्यास से तड़पती रही हथिनी, पोस्टमॉर्टम में सामने आई बात

केंद्र सरकार ने दी थी आरोपियों को ना छोड़ने की चेतावनी

दूसरी तरफ पलक्कड़ जिले के केस में आरोपियों की तलाश जारी है। इस मामले में 5 जून को एक आरोपी गिरफ्तार किया जा चुका है। राज्य सरकार की ओर से गठित की गई एसआईटी इस मामले की जांच कर रही है। इस घटना ने पूरे देश में आक्रोश की लहर पैदा कर दी थी और केंद्र सरकार ने भी दोषियों को ना छोड़ने का ऐलान किया था।

बता दें कि बीते दिनों पलक्कड़ में विस्फोटक से भरे फल खिलाए जाने के बाद 15 साल की एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई थी। हथिनी पानी में तीन दिनों तक बिना खाए-पिए खड़ी रही थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पता चला कि पानी में सांस लेने के कारण हथिनी के फेफड़े खराब हो गए थे। साथ ही दो हफ्तों से उसने कुछ भी नहीं खाया था।

केरल में हथिनी की हत्या पर केंद्र सख्त, जावडेकर बोले- दोषियों को पकड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या आया?

हथिनी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने जो कहा है वह काफी दर्दनाक है। हथिनी मुंह में विस्फोट और जबड़े क्षतिग्रस्त होने के कारण काफी तकलीफ में तो थी ही, साथ ही अपनी मौत से पहले उसने 14 दिनों से कुछ भी नहीं खाया था। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में बताया गया कि इस दौरान वह कुछ भी खा-पी नहीं सकती थी। पानी में जाने से पहले भूख-प्यास से परेशान होकर उसने गांव के कई चक्कर लगाए थे। एक अधिकारी ने बताया कि घायल होने और बहुत ज्यादा तकलीफ में होने के बाद भी उसने किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया। किसी घर को कुचला नहीं। इससे पता चलता है कि वह अच्छाइयों से भरी हुई थी।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

मोदी-राहुल आज बिहार में, मध्यप्रदेश में फिर आइटम वाला बयान; इंश्योरेंस में कुछ छुपाया तो नुकसान आपका

Hindi NewsNationalModi Rahul In Bihar Today Madhya Pradesh Elections SC Decision On Life Insurance37 मिनट पहलेनमस्कार!बिहार चुनाव में रोजगार का मुद्दा कड़ाही में है।...

फुटओवर ब्रिज पर काम ने सोने नहीं दिया तो फुटपाथ पर सोने वाले शख्स ने रेलवे से ऐसे लिया बदला, RPF अधिकारियों के उड़े होश

मुंबईमहाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में तमाम दिहाड़ी मजदूर फुटपाथ पर रात गुजारते हैं। अनिल वाघेला उनमें से एक हैं। चरनी रोड रेलवे स्टेशन के...

आप तक कैसे पहुंचेगा कोरोना वायरस का टीका, जानिए सरकार की प्लानिंग

कोरोना वायरस का टीका उपलब्ध हो जाने पर इसे एक विशेष कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत वितरित किया जाएगा। साथ ही, केंद्र सरकार...

रूसी टीके का ट्रायल कर रही डॉ. रेड्डीज पर साइबर अटैक! रोके दुनिया में सभी कारखानों के काम 

स्टोरी हाइलाइट्स डॉ. रेड्डीज को कोविड-19 के रूसी टीके के ट्रायल की इजाजत मिली है ...