Home बड़ी खबरें भारत रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बयान पर कांग्रेस हमलावर, राहुल ने पूछा-...

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बयान पर कांग्रेस हमलावर, राहुल ने पूछा- चीन का नाम क्यों नहीं लिया

Edited By Naveen Kumar Pandey | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

लद्दाख: चीन को मोदी का जवाब- उकसाया तो मिलेगा जवाब
हाइलाइट्स

  • रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के ट्वीट पर कांग्रेस पार्टी हमलावर है
  • पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कई सवाल उठाए
  • राहुल ने पूछा कि राजनाथ ने ट्वीट में चीन का नाम क्यों नहीं लिया
  • वहीं, सुरजेवाला ने गलवान घाटी में हुई घटना के लिए सरकार की सुस्ती को जिम्मेदार ठहराया

नई दिल्ली

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से लेकर पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ-साथ प्रवक्ताओं तक, पूरी पार्टी पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की शहादत को लेकर केंद्र सरकार पर तीखे हमले कर रही है। राहुल ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बयान में ‘चीन का उल्लेख नहीं होने’ को लेकर निशाना साधा और कहा कि ‘गुमराह करने’ के बजाय उन्हें सामने आकर जवाब देना चाहिए। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने यह सवाल भी किया कि जवानों की शहादत पर दुख प्रकट करने में राजनाथ सिंह को दो दिन का समय क्यों लगा? उधर, सोनिया गांधी ने भी एक वीडियो मेसेज जारी कर केंद्र सरकार से पूछा कि आखिर चीन ने हमारी जमीन हड़प कैसे ली?

सरकार से लेकर मीडिया तक, राहुल ने सबको बनाया निशाना

राहुल ने रक्षा मंत्री के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए कहा, ‘अगर यह (शहादत) बहुत पीड़ादायक था तो फिर आपने अपने ट्वीट में चीन का नाम क्यों नहीं लिया? दुख जताने में दो दिन का समय क्यों लगा? जब हमारे जवान शहीद हो रहे थे तो आपने रैलियां क्यों संबोधित कीं? आप क्यों छिप गए और ‘क्रोनी मीडिया’ द्वारा सेना को जिम्मेदार ठहराने दिया?’

आर्मी चीफ बोले- शहादत नहीं जाएगी खाली

कांग्रेस प्रवक्ता के निशाने पर भी राजनाथ

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने राजनाथ सिंह के ट्वीट पर कहा, ‘काश, जन संवाद रैलियों और विपक्षी सरकारें गिराने से समय निकाल मोदी जी व आप ने देश की सुरक्षा की सुध ली होती तो चीन कभी यह दुस्साहस नही कर सकता था। अब तो ट्विटर से बाहर आ चुप्पी तोड़िए। और प्रधानमंत्री जी कब कुछ कहेंगे?’

लद्दाख में मारते-मारते शहीद हुए जवान: मोदी

सुरजेवाला ने राजनाथ पर लगाया, गुमराह करने का आरोप

सुरजेवाला ने सवाल किया, ‘राजनाथ सिंहजी, चीन का नाम तक लिखने से भी क्या डर है? हमारे कितने सैनिक शहीद हुए हैं? आप ये क्यों नही बता रहे? क्या चीन ने हमारे सैनिक अगवा किए हैं?’ उन्होंने कहा, ‘गुमराह मत करें, सामने आकर जवाब दें।’

कोई भ्रम न पाले, उकसाया तो देंगे जवाब: मोदी

शहीद के परिवारों के प्रति जताई संवेदना

रक्षा मंत्री ने चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए बुधवार को कहा कि गलवान घाटी में सैनिकों को गंवाना बहुत परेशान करने वाला और दु:खद है। सिंह ने कहा कि भारतीय जवानों ने कर्तव्य का पालन करते हुए अदम्य साहस एवं वीरता का प्रदर्शन किया और अपनी जान न्यौछावर कर दी। उन्होंने ट्वीट किया, ‘देश अपने सैनिकों की बहादुरी और बलिदान को कभी नहीं भूलेगा। शहीद सैनिकों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। देश इस मुश्किल समय में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। हमें भारत के वीरों की बहादुरी और साहस पर गर्व है।’

वो 5 थे और भारतीय जांबाज 1 फिर भी डबल मारे

सोनिया ने किए कई गंभीर सवाल

ध्यान रहे कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी केंद्र सरकार पर चीन के हाथों भारत की जमीन खोने का आरोप लगाया और कई गंभीर सवाल किए। सोनिया ने पूछा कि क्या अब भी हमारे सैनिक या अधिकारी लापता हैं और गंभीर रूप से घायल सैनिकों/अधिकारियों की संख्या कितनी है?

भारत की खरी-खरी, गलवान में जो हुआ सब चीन की साजिश थी

गलवान घाटी में झड़प के बाद विदेश मंत्रियों की बात

गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में सोमवार रात चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैन्यकर्मी शहीद हो गए। इस घटना के बाद भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर की चीनी विदेश मंत्री वांग यी से फोन पर बात हुई। जयशंक ने बातचीत के दौरान कड़े शब्दों का इस्तेमाल करते हुए स्पष्ट कर दिया कि भारत इसे स्थानीय स्तर पर अचानक पैदा हुई परिस्थिति नहीं मानता है, बल्कि इसके पीछे चीन की सोची-समझी साजिश साफ झलक रही है।

समुद्री सीमाओं पर नौसेना की पैनी नजर

  • समुद्री सीमाओं पर नौसेना की पैनी नजर

    LAC पर चीन के साथ बढ़ते संघर्ष के मद्देनजर केंद्र सरकार ने सशस्त्र बलों को पूरी तरह से तैयार रहने के लिए कहा है। इकोनॉमिक टाइम्स को मिली जानकारी के मुताबिक, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने तीनों सेनाओं को तालमेल बिठाने और जरूरत के मुताबिक प्राथमिकताएं तय करने के निर्देश दिए हैं। इसी के मद्देनजर नौसेना को चीन से मुकाबले के लिए मलक्का स्ट्रेट के पास, या फिर जरुरत के मुताबिक काउंटर के लिए इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में कहीं भी तैनाती को लेकर आगे बढ़ने के निर्देश दिए गए हैं। नौसेना ने युद्धपोत और जहाजों के साथ समुद्री सीमाओं पर अपनी पैनी नजर बना ली है।

  • बॉर्डर पर तनाव के बीच वायुसेना भी अलर्ट

    नेवी के साथ-साथ वायु सेना ने भी जरूरी कदम उठाए हैं। चीन सीमा पर गंभीर स्थिति को देखते हुए फाइटर प्लेन की तैनाती को और आगे बढ़ाया गया है। वहीं सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सेना ने भी अपने जवानों की छुट्टियां कैंसिल कर दी है। केंद्र सरकार ने किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए तीनों सेनाओं को हथियारों की खरीद करने की छूट दी है। लद्दाख में चल रहे विवाद को पीछे छोड़ने के लिए भारत ने बातचीत की पेशकश की थी लेकिन सूत्रों के मुताबिक, सोमवार रात हुई हिंसा के बाद सरकार इसमें कोई ढिलाई नहीं बरतना चाहती है। यही वजह है कि चीन को लेकर सरकार ने नई रणनीति तैयार की है।

  • पीएम मोदी ने कहा- उकसावे पर दिया जाएगा जवाब

    लद्दाख में भारत-चीन सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उकसाए जाने पर भारत की ओर से जवाब जरूर दिया जाएगा। पीएम मोदी ने साफ कहा कि भारत शांतिपूर्ण देश है। इतिहास भी इस बात का गवाह है कि हमने विश्व में शांति फैलाई। पड़ोसियों के साथ दोस्ताना तरीके से काम किया। मतभेद हुए भी तो कोशिश की है कि विवाद न हो। हम कभी किसी को भी उकसाते नहीं हैं लेकिन अपने देश की अखंडता के साथ समझौता भी नहीं करते।

  • लद्दाख में खूनी झड़प में 20 जवान हुए शहीद

    इस बातचीत में दोनों पक्षों ने खूनी संघर्ष से पैदा हुई गंभीर परिस्थिति से पार पाने के लिए मिलिट्री कमांडरों के बीच हुई बातचीत में बनी सहमति के मुताबिक आगे का रास्ता तय करने पर हामी भरी। ध्यान रहे कि सोमवार को हुई खूनी झड़प में कर्नल संतोष बाबू समेत भारतीय सेना के 20 सैनिक शहीद हो गए। वहीं, चीन के 43 सैनिकों को मारे जाने की खबर आ रही है। यह हालत तब रही जब भारतीय सैनिकों के मुकाबले चीनी सैनिकों की संख्या पांच गुना थी।

(भाषा से इनपुट के साथ)

राहुल गांधी, राजनाथ सिंह, रणदीप सुरजेवाल।

राहुल गांधी, राजनाथ सिंह, रणदीप सुरजेवाल।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Delhi Nizamuddin Markaz: अभी नहीं खुलेगा निजामुद्दीन का मरकज, प्रबंधन ने बताई इसकी वजह

Publish Date:Fri, 18 Sep 2020 12:03 PM (IST) नई दिल्ली । Nizamuddin Markaz Delhi: केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अनलॉक-4 में 21 सितंबर से धार्मिक आयोजनों की...

BPSC ने सहायक अभियोजन पदाधिकारी APO पद के दो सौ परीक्षार्थियों का आवेदन इन वजहों से किया रद्द 

बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने सहायक अभियोजन पदाधिकारी परीक्षा के लिए आवेदन आमंत्रित किये थे। इसमें लगभग पौने दो सौ परीक्षार्थियों ने...

Bihar Election: फिल्‍म ‘नायक’ याद है आपको? …वो एक दिन का CM; बिहार में भी रहे हैं पांच दिन के मुख्‍यमंत्री

पटना, कुमार रजत। Bihar Assembly Election 2020: बॉलीवुड फिल्‍म 'नायक' (Nayak) याद है आपको? उसमें अनिल कपूर मुख्‍य किरदार में एक दिन के...

Amrapali Case: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, 30 अक्टूबर तक बकाया जमा करें होम बायर्स, नहीं तो फ्लैट कैंसल

हाइलाइट्स:आम्रपाली मामले में सुप्रीम कोर्ट ने डिफाल्टर होम बायर्स को चेतावनी दी हैकोर्ट ने कहा कि अगर होम बायर्स 30 अक्टूबर तक बकाया...