Home राज्यवार उत्तर प्रदेश कोरोना से जंग : दिल्ली और इससे सटे जिलों के लिए एक...

कोरोना से जंग : दिल्ली और इससे सटे जिलों के लिए एक समग्र नीति बनाई जाए – योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दिल्ली और इससे सटे जिलों के लिए एक समग्र नीति बनाने का अनुरोध किया है। इसमें इन क्षेत्रों में संदिग्ध व लक्षणरहित मरीजों की स्क्रीनिंग की व्यवस्था हो। इसके साथ ही कोविड-19 से संक्रमित लक्षणरहित मरीजों को कोविड अस्पतालों में रखने की अनुमति भी दी जानी चाहिए।

मुख्यमंत्री बुधवार को अपने सरकारी आवास पर प्रधानमंत्री से मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग संवाद में यह बातें कहीं। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री द्वारा प्रदान किए जा रहे मार्गदर्शन के लिए उनके प्रति आभार व्यक्त किया है। केंद्र सरकार के सहयोग से राज्य में चिकित्सा इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने में बहुत मदद मिली है। प्रधानमंत्री को बताया कि यूपी में कोविड-19 के संक्रमण के पांच लाख से अधिक जांच हो चुके हैं। रोजाना लगभग 16,000 जांच हो रही हैं।

सीएम ने कहा कि कोविड-19 से संक्रमित लक्षणरहित मामलों को होम क्वारंटाइन में रखने पर जरूरी अनुशासन का पालन संभव नहीं हो पा रहा है। इससे संक्रमित के परिजनों को संक्रमण के जोखिम के साथ ही, परिवार के संपर्क में आए अन्य व्यक्तियों के माध्यम से इन्फेक्शन का खतरा रहता है। इसलिए संक्रमण की चेन तोड़ने व इसके प्रसार पर नियंत्रण के लिए लक्षणरहित कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों को कोविड अस्पतालों में रखने की अनुमति देने का अनुरोध किया।

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को यह भी बताया कि 1,21,746 टीमों द्वारा 92.1 लाख घरों का भ्रमण करके 4.70 करोड़ लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। यह भी बताया कि प्रदेश में लगभग 35 लाख श्रमिक, कामगार यूपी वापस लौटे हैं। इनकी स्क्रीनिंग कर उन्हें राशन किट उपलब्ध कराते हुए होम क्वारंटाइन के लिए घर भेजा गया। होम क्वारंटाइन में इनकी निगरानी के लिए 70,000 निगरानी समितियों का गठन किया गया हैं। श्रमिक स्पेशल रेलगाड़ियों की व्यवस्था के लिए प्रधानमंत्री व रेल मंत्री का आभार जताया। यह भी बताया कि वापस लौटे कामगारों, श्रमिकों की 80 ट्रेंड में स्किल मैपिंग कराई गई है। इनके लिए ‘उत्तर प्रदेश कामगार और श्रमिक (सेवायोजन एवं रोजगार) आयोग’ का गठन किया गया है। इसने काम भी शुरू कर दिया है।

प्रधानमंत्री को यह भी बताया कि अब तक प्रदेश में रह रहे और वापस लौटे श्रमिकों में 95 लाख को रोजगार, नौकरी अथवा स्वरोजगार से जोड़ने में सफलता मिली है। कृषि और उससे जुड़े क्षेत्रों में यह संख्या लगभग 60 लाख है। इसके अलावा लगभग 35 लाख को एमएसएमई व अन्य बड़े उद्योगों से जोड़ा गया है। 34 लाख को 1000-1000 रुपये का भरण-पोषण भत्ता दिया गया है। 57 हजार एमएसएमई उद्यमियों को कर्ज दिए गए। 1.10 लाख को कर्ज देने की कार्यवाही प्रगति पर है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

मानव तस्करी रोकने विषय पर चर्चा

{"_id":"5f678d808ebc3e0df41a5ba0","slug":"discussion-on-stopping-human-trafficking-maharajganj-news-gkp3663138167","type":"story","status":"publish","title_hn":"u092eu093eu0928u0935 u0924u0938u094du0915u0930u0940 u0930u094bu0915u0928u0947 u0935u093fu0937u092f u092au0930 u091au0930u094du091au093e","category":{"title":"City & states","title_hn":"u0936u0939u0930...

IPL 2020: गौतम गंभीर बोले- Dhoni का नंबर सात पर बैटिंग करने आना समझ से परे

 नई दिल्ली, जेएनएन। इंडियन प्रीमियर लीग 2020 (IPL 2020) का चौथा मुकाबला मंगलवार को चेन्नई सुपरकिंग्स (CSK) और राजस्थान रॉयल्स (RR) के बीच खेला...

हत्यारों का ‘मददगार’ एसओ! जिंदा जला दी गई किशोरी, पुलिस नहीं जानती- कहां हैं हत्यारे?

सुलतानपुरउत्तर प्रदेश के सुलतानपुर में पत्रकार प्रदीप सिंह की बेटी को सोमवार को जिंदा जलाकर मार डाला गया। इस घटना के बाद अबतक हत्या...

हॉलीवुड फिल्म का एक्शन सीन चुराया, चीन ने जारी किया हमले का नकली वीडियो

बीजिंग: चीन की वायु सेना (air force of China) ने एक वीडियो जारी किया है. इस वीडियो में दिखाया जा रहा है कि परमाणु...