Home बहुजन विशेष ‘भारत बंद के दौरान दर्ज मुकदमे अविलम्ब वापस ले सरकार, दलित हितैषी...

‘भारत बंद के दौरान दर्ज मुकदमे अविलम्ब वापस ले सरकार, दलित हितैषी का दे सन्देश’: हरीश मीना

अप्रैल 2018 को ‘भारत बंद आन्दोलन’ का मामला, विधायक हरीश मीना ने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र, एससी- एसटी युवाओं पर दर्ज मुकदमें वापस लेने की उठाई मांग

By: nakul

Published: 22 Jun 2020, 09:47 AM IST

जयपुर।

देवली-उनियारा विधायक हरीश चन्द्र मीना ( MLA Harish Chandra Meena ) ने राज्य सरकार से वर्ष 2018 में भारत बंद आन्दोलन के दौरान दर्ज किए गए मुकदमों को वापस लेने की मांग की है। इस सिलसिले में उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Ashok Gehlot ) को पत्र लिखकर आग्रह भी किया है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति एक्ट पर दिए गए फैसले के विरोध में दलित संगठनों ने 2 अप्रैल 2018 को भारत बंद किया था। प्रदेश में कई जगहों पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झडपें हुई थी। जिसके बाद आन्दोलनकारियों के खिलाफ पुलिस ने मुकदमें दर्ज किये थे। विधायक मीना दौसा से पूर्व विधायक और प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक भी हैं।

ये लिखा विधायक मीना ने
मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक हरीश चन्द्र मीना ने लिखा, ‘’2 अप्रैल 2018 को भारत बंद आंदोलन के दौरान अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के युवाओं द्वारा अपने संवैधानिक अधिकारों की रक्षा के लिए देश भर में आन्दोलन किया गया था। राजस्थान में भी इस वर्ग के युवाओं ने प्रशासन से अनुमति लेकर शांतिपूर्ण तरीके से आन्दोलन किया था। लेकिन प्रशासन ने in आन्दोलनकारियों पर ब्बर्बर्ता की और तत्कालीन सरकार ने दुर्भावनापूर्वक इन बेगुनाहों के विरुद्ध मुक़दमे दर्ज किए। सरकार से निवेदन है कि इन सभी मुकदमों को अविलम्ब वापस लिया जाए, ताकि प्रदेश की जनता को महसूस हो कि आपके नेतृत्व में प्रदेश में एक दलित हितैषी जन कल्याणकारी सरकार कार्य कर रही है।‘’

विधायक मीना ने मुख्यमंत्री को इस बात को लेकर भी अवगत करवाया कि इसी मांग को लेकर वे पहले भी आग्रह कर चुके हैं। साथ ही विधानसभा सत्र के दौरान भी इस मुद्ददे को उठा चुके हैं। वहीँ कई सामाजिक संगठनों ने भी उस आन्दोलन के दौरान दर्ज मुकदमों को वापस लेने की आवाज़ उठाई है।

इसलिए हुआ था आन्दोलन, दर्ज हुए थे मुकदमे
अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में दलित संगठनों ने 2 अप्रैल 2018 को भारत बंद किया था। भारत बंद के दौरान राजस्थान सहित देश के कई हिस्सों में हिंसा भड़क गई थी, जिसमें कई लोगों की जान तक चली गई थी जबकि कई लोगों पर एफआईआर दर्ज हुई थी। प्रदेश में कई जगहों पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झडपें हुई थी।









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Rajmahal Misdeed Case: मुकदमा वापसी के लिए आधी रात को पीड़िता के घर पर हमला, पिता को पीटा; ताबड़तोड़ फायरिंग

Publish Date:Sat, 27 Jun 2020 10:45 AM (IST) राजमहल, जेएनएन। बहुचर्चित राजमहल दुष्कर्म पीड़िता और उसके परिवार की जान खतरे में है। जेल में...

दिल्ली में कोरोना से क्रिकेटर की मौत, सुरेश रैना और आकाश चोपड़ा समेत कई खिलाड़ियों ने जताया शोक

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Tue, 30 Jun 2020 12:03 AM IST पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से करोड़ों...

लॉन्च हुए दो नए बजट स्मार्टफोन्स, कम कीमत में मिलेंगे दमदार फीचर्स

Redmi 9A Price, Redmi 9C Price, new smartphones 2020: हैंडसेट निर्माता कंपनी Xiaomi के सब-ब्रांड रेडमी ने अपने दो latest smartphones रेडमी 9ए और...

PM मोदी बोले- भारत कई देशों से बेहतर हालत में, बढ़ रही रिकवरी रेट, ‘दो गज की दूरी’ अभी जरूरी

Publish Date:Sat, 27 Jun 2020 12:02 PM (IST) नई दिल्ली, एजेंसियां। डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन के 90वीं जयंती समारोह के मौके पर हो रहे...

IAS सुलेमान की हत्या के 6 आरोपियों को दी गई क्लीन चिट – Siasat Daily

इंडियन एक्सप्रेस ने बुधवार को बताया कि एक विशेष जांच दल (SIT) ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के विरोध प्रदर्शन के दौरान IAS-आकांक्षी की...