Home राज्यवार मुंबई मुंबई में कोरोना मौतो की संख्या छिपाई जा रही है - देवेंद्र...

मुंबई में कोरोना मौतो की संख्या छिपाई जा रही है – देवेंद्र फड़णवीस

मुंबई सहित महाराष्ट्र में कोरोना पीड़ितों की संख्या बढ़ रही है। मुंबई में कोरोना पीड़ितों की संख्या अभी भी दबी हुई है। इसके अलावा, ऑक्सीजन की खराबी के कारण केईएम और ट्रॉमा केयर हॉस्पिटल्स में कई की मौत हो गई है। भाजपा नेता और विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर स्वास्थ्य प्रणाली में इन गंभीर दोषों को तुरंत ठीक करने की मांग की है।

अपने पत्र में फडणवीस कहते हैं कि महाराष्ट्र और मुंबई में कोरोना की हालत दिन-प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है। 19 जून को, महाराष्ट्र में अब तक सबसे अधिक 3827 मरीजों का पता चला है। उसी दिन, मुंबई में सबसे अधिक मौतोकी संख्या 114 दर्ज की गई थी। 18 जून तक, मुंबई में अकेले राज्य के कुल कोरोना रोगियों का 52.18 प्रतिशत था। मुंबई और एमएमआर क्षेत्र को देखते हुए, शेयर 73.85 प्रतिशत है। मुंबई में मृत्यु दर 5.27 फीसदी तक पहुंच गई है।

जून के पिछलें 18 दिनों को देखते हुए, इन 18 दिनों में राज्य में अब तक कुल रोगियों की संख्या में 43.86 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। मुंबई में, इन 18 दिनों में 36.88 प्रतिशत रोगी बढ़े हैं। पिछले 3 महीनों से कोरोना पीड़ितों की संख्या छिपाई गई है। इसके बारे में आपको सूचित करने के बाद, उसी दिन राज्य में मौतो की संख्या 1328 बढ़ गई। हालांकि, यह एक दिन की वृद्धि नहीं है, मुंबई में 35.16 प्रतिशत की तुलना में जून के पहले 18 दिनों में महाराष्ट्र में नए पीड़ितों की संख्या में 36.16 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, देवेंद्र फड़नवीस ने कहा।

एक तरफ, इस स्थिति के बावजूद, मैंने लगातार संकेत दिया है कि मुंबई में अभी भी कोरोना पीड़ितों की संख्या को दबाया जा रहा है। अब ये मामले एक उदाहरण के साथ सामने आ रहे हैं। आंकड़ों को राज्य के लोगों को बहुत पारदर्शी तरीके से प्रस्तुत किया जाना चाहिए। जैसा कि आप कहते हैं कि यह युद्ध या लड़ाई कोरोना के खिलाफ होनी चाहिए, न कि आंकड़ों के खिलाफ। देवेंद्र फडणवीस ने मांग की कि मुंबई के बारे में स्पष्ट और पारदर्शी जानकारी को मुंबई नगर निगम के आंकड़ों पर तत्काल ध्यान देकर जनता के ध्यान में लाया जाना चाहिए।

इसी तरह, मुंबई में केईएम अस्पताल की गहन देखभाल इकाई में, यह पता चला है कि कम ऑक्सीजन के स्तर के कारण लगभग 10 रोगियों की मृत्यु हो गई। कोरोना में ऑक्सीजन की आपूर्ति का ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण है। इससे पहले मई में, ऑक्सीजन की खराबी के कारण जोगेश्वरी के ट्रॉमा केयर अस्पताल में 12 लोगों की मौत हो गई थी। देवेंद्र फड़नवीस ने अनुरोध किया कि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति स्वास्थ्य प्रणाली में गंभीर दोष दिखाती है और इन दोषों को ठीक किया जाना चाहिए।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

अब तक 5.09 लाख केस: लगातार दूसरे दिन 18 हजार से ज्यादा संक्रमित बढ़े; महाराष्ट्र में रिकॉर्ड 5024 पॉजिटिव मिले, यहां डेढ़ लाख से ज्यादा मरीज

देश में कोरोना से अब तक 15 हजार 689 संक्रमितों की मौत, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 7106 की जान गईझारखंड में 31 जुलाई और...

CA छात्रों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, परीक्षा में शमिल होने पर मिलेगा Opt Out स्कीम का लाभ

चार्टेड अकाउंटैंसी की पढ़ाई कर रहे छात्रों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट...

पीएम मोदी के भाषण पर ओवैसी का धार्मिक कार्ड, कहा- त्योहारों के बीच बकरीद भूल गए

asaduddin owaisi ओवैसी ने अपने चिर परचित अंदाज में ट्वीट करते हुआ लिखा कि आज चाइना पर बोलना था, बोल गए चना पर। इसके...

प्रधानमंत्री के ‘घुसपैठ नहीं’ वाले बयान से वह चीन में लोकप्रिय हो गए हैं : चव्हाण

मुंबई, 26 जून (भाषा) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर प्रहार करते हुए कहा कि वह अपने...