Home बड़ी खबरें भारत जगन्नाथ रथायात्रा पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई LIVE अपडेट्स

जगन्नाथ रथायात्रा पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई LIVE अपडेट्स

फाइल फोटो

नई दिल्ली

सुप्रीम कोर्ट ने जगन्नाथ पुरी में 23 जून को होने वाली रथयात्रा को कोरोना महामारी के कारण 18 जून को ही रोक लगा दी थी। लेकिन शीर्ष अदालत के इस फैसले के खिलाफ कई पुनर्विचार याचिकाएं दाखल हो गईं और कोर्ट से अपने पूर्व के आदेश पर रोक लगाने की मांग की गई है। कोर्ट पुनर्विचार याचिकाओं पर में सुनवाई के लिए शीर्ष अदालत सहमत हो गई है चीफ जस्टिस एसएस बोबडे के नेतृत्व में 3 जजों की बेंच इसपर सुनवाई करेगी। इस बीच, कोर्ट में केंद्र सरकार ने रथयात्रा का समर्थन किया है।

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र की दलील

केंद्र की ओर से SG तुषार मेहता ने कहा कि सदियों की परंपरा को रोका नहीं जा सकता। उन्होंने कहा यह करोड़ों के आस्था की बात है। यदि भगवान जगन्नाथ कल नहीं आएंगे, तो वे परंपराओं के अनुसार 12 साल तक नहीं आ सकते हैं। उन्होंने दलील दी कि यह सुनिश्चित करने के लिए की महामारी ना फैले, सावधानी बरतते हुए राज्य सरकार एक दिन के लिए कर्फ्यू लगा सकती है। श्री शंकराचार्य द्वारा तय किए गए अनुष्ठानों में वो सभी सेवायत भाग ले सकते हैं जिनका कोरोना टेस्ट नेगेटिव है। लोग टीवी पर लाइव टेलीकास्ट देख सकते हैं और आशीर्वाद ले सकते हैं। पुरी के राजा और मंदिर समिति इन अनुष्ठानों की व्यवस्था की देखरेख कर सकते हैं।



चीफ जस्टिस के नेतृत्व में कुछ देर में 3 जज करेंगे सुनवाई


जगन्नाथ रथयात्रा पर रोक लगाने के आदेश में संशोधन की मांग की याचिकाओं पर सुनवाई के लिए चीफ जस्टिस एस ए बोबडे, जस्टिस बोपन्ना और जस्टिस माहेश्वरी की बेंच थोड़ी देर में बैठेगी। दरअसल, रथयात्रा पर रोक का आदेश 18 जून को चीफ जस्टिस की तीन जजों की बेंच ने दिया था।



सुप्रीम कोर्ट में यहां फंसा पेच


इस आदेश में संशोधन की मांग को लेकर दर्जनभर याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर हुई है जो सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई के लिए एक जज की बेंच जस्टिस एस रविन्द्र भट के सामने लगी थी। यह कानूनी पेच है कि एक जज तीन जजों की बेंच के आदेश में संशोधन नहीं कर सकते। इसलिए केन्द्र सरकार ने आज ये मामला सुप्रीम कोर्ट में बैठे दो जजों वाली जस्टिस अरुण मिश्रा की बेंच के सामने रखा है, उन्होंने कहा कि 18 जून को रथयात्रा पर रोक लगाने का आदेश चीफ जस्टिस की बेंच ने दिया था। अब चीफ जस्टिस इस पर विचार करेंगे फिर सुनवाई होगी।

याचिका में सुप्रीम कोर्ट से रथयात्रा को बदले स्वरूप में निकालने की अनुमति देने पर विचार करने की अपील की गई है। पुरी शहर को टोटल शटडाउन करके और जिले में बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक लगाकर रथयात्रा निकालने का प्रस्ताव दिया गया है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

किंग्स इलेवन पंजाब के सह मालिक नेस वाडिया ने कहा- देश हित में चीन के स्पाॅन्सर की जगह पर इंडियन स्पॉन्सर खोजना चाहिए

बीसीसीआई ने इस हफ्ते लीग की स्पॉन्सरशिप डील के रिव्यू के लिए जरूरी मीटिंग बुलाईआईपीएल की टाईटल स्पॉन्सर वीवो बोर्ड को हर साल 440...

CoronaVirus Bihar LIVE Update: कोरोना का नया रिकॉर्ड, एक दिन में मिले 394 मरीज, आंकड़ा 9618

Publish Date:Tue, 30 Jun 2020 08:28 AM (IST) पटना, जेएनएन। राज्य में पहली बार एक दिन में कोरोना के रिकार्ड 394 केस मिले हैं।...

अयोध्या में बुद्ध विरासत बचाने की मांग को लेकर धरने पर बैठे भिक्खु सुमितरत्न थेरा | #Ayodhya #Saket

बहुजन पोस्ट डॉट कॉम Join On Telegram Join On Facebook buddha vandana, buddha song, buddha hoga tera baap full movie, buddham saranam gacchami, buddha badri, buddha purnima, buddha buddha, buddha badrinath, buddha cartoon, buddha amritwani, buddha aur...

बिहार में आंधी-तूफान से 92 लोगों की मौत, यूपी में आकाशीय बिजली ने ली 24 की जान

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Fri, 26 Jun 2020 09:47 AM IST आंधी-तूफान और बिजली गिरने से 92 लोगों की मौत हो गई है।...

J&K: 50 से अधिक दलित-गोरखा बने स्थायी निवासी, बिहारी IAS को ​डोमिसाइल पर भड़की महबूबा-अब्दुल्ला की पार्टी

50 से अधिक दलित और गोरखा जम्मू-कश्मीर के स्थायी निवासी बन गए हैं। इन्हें शनिवार को डोमिसाइल सर्टिफिकेट दिया गया। दूसरी ओर, बिहार से...