Home बड़ी खबरें भारत जगन्नाथ पुरी रथयात्रा पर सुप्रीम कोर्ट ने पलटा अपना फैसला, अब शर्तों...

जगन्नाथ पुरी रथयात्रा पर सुप्रीम कोर्ट ने पलटा अपना फैसला, अब शर्तों के साथ दी इजाजत

सुप्रीम कोर्ट ने पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकालने की अनुमति दे दी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि स्वास्थ्य मुद्दों के साथ बिना समझौता किए और मंदिर समिति, राज्य और केंद्र सरकार के समन्वय के साथ रथ यात्रा आयोजित की जाएगी। बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने 18 जून को हुई सुनवाई में पुरी में 23 जून को होने वाली रथयात्रा को कोरोना महामारी के कारण रोक लगा दी थी। 

लेकिन कोर्ट के फैसले को लेकर कई पुनर्विचार याचिकाएं लगाई गई थी। जिसपर आज सुनवाई करते हुए कोर्ट ने अपने पुराने फैसले को पलटते हुए जगन्नाथ रथ यात्रा को कुछ शर्तों के साथ निकालने की अनुमति दे दी है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने नए आदेश में कहा कि अगर ओडिशा सरकार को लगता है कि कुछ चीजें हाथ से निकल रही हैं तो वो यात्रा को रोक सकती है।

इससे पहले 18 जून को सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ने कहा था, ”यदि हमने इस साल हमने रथ यात्रा की इजाजत दी तो भगवान जगन्नाथ हमें माफ नहीं करेंगे। महामारी के दौरान इतना बड़ा समागम नहीं हो सकता है।” बेंच ने ओडिशा सरकार से यह भी कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए राज्य में कहीं भी यात्रा, तीर्थ या इससे जुड़े गतिविधियों की इजाजत ना दें।  

इधर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस साल पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा को लेकर अनिश्चितता के बीच सोमवार को जगन्नाथ मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष गजपति महाराजा दिव्यसिंह देव से बात की। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष समीर मोहंती ने बताया कि शाह ने वर्ष 1736 से अनवरत चल रही रथ यात्रा के साथ जुड़ी परंपरा पर चर्चा की।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, भगवान जगन्नाथ के अनन्य भक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गजपति महाराज से बात की। मोहंती ने बताया, मुझे आशा है कि उच्चतम न्यायालय इस साल पुरी में रथ यात्रा आयोजित करने की मंजूरी दे देगा। उन्होंने कहा कि शाह ने उत्सव के साथ जुड़ी धार्मिक भावनाओं को लेकर भी देव के साथ बातचीत की। पुरी की रथ यात्रा में हर साल दुनियाभर से लाखों श्रद्धालु आते हैं। 

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को कहा कि प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे ने पुरी रथ यात्रा के आयोजन को लेकर दायर याचिकाओं पर सोमवार को सुनवाई के लिए तीन न्यायाधीशों की पीठ का गठन किया है। शीर्ष अदालत ने अपने 18 जून के फैसले में कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के मद्देनजर पुरी में इस साल की ऐतिहासिक भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा पर रोक लगा दी थी। वहीं, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक रथ यात्रा की तैयारियों को लेकर आज शाम पांज बजे एक बैठक करेंगे।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

बदलते मौसम के साथ बढ़ रही है आँखों की समस्याऐं, बरते ये सावधानियां

दुनियाभर अभी कोरोना महामारी फैली हुई है. इसके चलते बहुत सी ऐसी चीज़े है जिनका ध्यान हमें रखना होगा. जैसे- प्रत्येक वर्ष जुलाई में...

सावधान! एम्स के आसपास घूम रहे हैं ठग

मनीष अग्रवाल नई दिल्ली: एम्स आने-जाने वाले लोग जरा सावधान रहें। क्योंकि, एम्स के आसपास ठग घूम रहे हैं। जो कभी सीबीआई अफसर बनकर तो...

संजीव बालियान की योगी सरकार से अपील- दो से ज्यादा बच्चे वाले लोग ना लड़ पाएं पंचायत चुनाव

world population day: बीजेपी सांसद संजीव बालियान (Sanjeev balyan) ने योगी सरकार (Yogi sarkar) से कहा है कि यूपी के आगामी पंचायत चुनाव में...

बिहार चुनाव स्थगित करवाने के लिए जायेंगे सुप्रीम कोर्ट पप्पू यादव.

-sponsored-सिटी पोस्ट लाइव :  कोरोना संकट की महामारी के बीच चुनाव कराने का विरोध RJD तो कर ही रही है.अब सभी विपक्षी पार्टियाँ भी...