Home राज्यवार दिल्ली भारतीय भारोत्तोलन महासंघ ने चीनी उपकरणों के इस्तेमाल पर रोक लगाई

भारतीय भारोत्तोलन महासंघ ने चीनी उपकरणों के इस्तेमाल पर रोक लगाई

Edited By Tarun Vats | एजेंसियां | Updated:

फाइल फोटो

नई दिल्ली

पूर्वी लद्दाख में हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने के एक सप्ताह बाद चीन से आने वाले उपकरणों को खराब बताते हुए भारतीय भारोत्तोलन महासंघ ने सोमवार को चीनी खेल उपकरणों के बहिष्कार की मांग की। महासंघ ने चीनी कंपनी ‘ जेडकेसी’ से पिछले साल चार भारोत्तोलन सेट मंगवाए थे। महासंघ ने कहा कि उपकरण खराब निकले और भारोत्तोलक उनका इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं।

महासंघ के महासचिव सहदेव यादव ने कहा, ‘हमें चीनी उपकरणों का बहिष्कार करना चाहिए। महासंघ ने फैसला लिया है कि हम चीन में बने किसी उपकरण का इस्तेमाल नहीं करेंगे।’ महासंघ ने भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) को लिखे पत्र में इसकी सूचना दे दी है।

पढ़ें, माफी के बाद बैडमिंटन संघ ने खेल रत्न के लिए श्रीकांत का नाम भेजा

यादव ने कहा, ‘भविष्य में भी हम चीनी सेटों का इस्तेमाल नहीं करेंगे। हम भारतीय या अन्य कंपनियों के सेटों का प्रयोग करेंगे लेकिन चीन के नहीं।’

राष्ट्रीय कोच विजय शर्मा ने बताया कि ये सेट खराब निकले। उन्होंने कहा, ‘कोरोना वायरस लॉकडाउन में रियायत मिलने के बाद भारोत्तोलकों ने इनका प्रयोग शुरू किया लेकिन ये खराब निकले। हम इनका इस्तेमाल नहीं कर सकते। कैंप में शामिल सभी वेटलिफ्टर चीन के खिलाफ हैं। उन्होंने टिकटॉक जैसे चीनी ऐप का इस्तेमाल भी बंद कर दिया है। ऑनलाइन सामान खरीदते समय भी देख रहे हैं कि कहीं वह चीनी तो नहीं है।’

गलवान घाटी पर चीन के दावे को भारत ने किया खारिजगलवान घाटी पर चीन के दावे को भारत ने किया खारिजभारत ने गलवान घाटी में चीन की नापाक हरकतों के बारे में विस्तृत बयान जारी किया है। विदेश मंत्रालय ने गलवान घाटी पर चीन के दावे को खारिज करते हुए कहा कि चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के बारे में बढ़ाचढ़ाकर दावा कर रहा है जो भारत को कतई मंजूर नहीं है।

यह पूछने पर कि ये सेट ऑर्डर ही क्यों किये गए थे, शर्मा ने कहा कि कोई और विकल्प नहीं था क्योंकि तोक्यो ओलिंपिक में चीनी उपकरण ही इस्तेमाल किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि चीन से पहली बार उपकरण खरीदे गए थे। भारतीय टीम फिलहाल स्वीडन में बने उपकरणों के साथ अभ्यास कर रही है। यादव ने कहा कि चीनी उपकरणों के विकल्प मौजूद है।

उन्होंने कहा, ‘हमारे पास कई ऑप्शन हैं। हम अच्छे भारतीय सेटों का इस्तेमाल कर रहे हैं। स्वीडन से भी उपकरण मंगवाए हैं जिनका इस्तेमाल किया जाएगा।’ सोमवार को गलवान वैली में हुई हिंसक झड़प के बाद चीनी उत्पादों के इस्तेमाल के बहिष्कार की मांग की जा रही है। भारतीय ओलिंपिक संघ ने भी कहा है कि वह चीनी उपकरणों का बहिष्कार करने को तैयार हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

चीन विवाद पर सोनिया-राहुल ने पूछा केंद्र से सवाल, कहा- सच बताएं प्रधानमंत्री मोदी

राहुल गांधी (फाइल फोटो) - फोटो : पीटीआई पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद ख़बर सुनें ख़बर...

Bihar Vidhan Sabha Chunav 2020: विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बिहार में यशवंत सिन्हा करेंगे नए मोर्चे का एलान?

हाइलाइट्सयशवंत सिन्हा आगे की रणनीति के बारे में पटना में एलान करेंगेसिन्हा ने मोर्चे का स्वरूप क्या होगा इस बारे में अधिक बताने से...

UP Board Result Lucknow 2020 Toppers: अलीशा व केशव ने बढ़ाया लखनऊ का मान, बाराबंकी के अभिमन्यु व योगेश टॉप थ्री

Publish Date:Sat, 27 Jun 2020 02:48 PM (IST) लखनऊ, जेएनएन। UP Board Result Lucknow 2020 Toppers:  राजधानी से यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं की परीक्षा...

रेलवे लाइन पर दो बेटियों के साथ महिला ने की खुदकशी

Publish Date:Thu, 02 Jul 2020 08:43 PM (IST) जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली : मंडावली रेलवे लाइन पर बृहस्पतिवार तड़के एक महिला ने अपनी दो मासूम...