Home स्वास्थ्य 'कोरोना की दूसरी लहर में मारे जा सकते हैं लाखों लोग', WHO...

‘कोरोना की दूसरी लहर में मारे जा सकते हैं लाखों लोग’, WHO ने दी चेतावनी

जेनेवा: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को कहा है कि यदि कोरोना वायरस की दूसरी लहर आई तो लाखों लोगों की जान जा सकती है. WHO के असिस्टेंट डायरेक्टर जनरल रनीरी गुएरा ने स्पेनिश फ्लू का उल्लेख करते हुए कहा कि तब महामारी सितंबर-अक्टूबर के ठंडे मौसम में बढ़ गई थी. इटली के RAI टीवी से बात करते हुए रनीरी गुएरा ने कहा कि लगभग 100 वर्ष पूर्व आए स्पेनिश फ्लू की दूसरी लहर में करोड़ों लोगों की जान गई थी. 

उन्होंने कहा कि स्पेनिश फ्लू भी कोरोना वायरस की तरह ही बर्ताव कर रहा था. तब भी गर्मियों में मामले घट गए थे, किन्तु बाद में बढ़ गए.

इससे पहले यूरोपियन सेंट्रल बैंक के चीफ क्रिस्टीन लगार्डे ने शुक्रवार को कहा था कि यदि हमने 1918-19 के स्पेनिश फ्लू से कुछ भी सीखा है तो निश्चित रूप से कोरोना की दूसरी लहर आ सकती है. इससे पहले कुछ अध्ययन में ये बात सामने आई थी कि ज्यादा गर्मी में कोरोना वायरस का प्रसार धीमा हो जाता है, किन्तु ये इतना कम नहीं होता कि संक्रमण रुक जाए. 

वहीं, महामारी रोग विशेषज्ञों का कहना है कि महामारी की दूसरी लहर को लेकर कोई निर्धारित परिभाषा नहीं है. आपको बता दें कि अब तक पूरी दुनिया में कोरोना के 97.7 लाख मामलों की पुष्टि हो चुकी है. जबकि दुनियाभर में 4.9 लाख लोग कोरोना वायरस की वजह से जान गँवा चुके हैं.

जेनेवा: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को कहा है कि यदि कोरोना वायरस की दूसरी लहर आई तो लाखों लोगों की जान जा सकती है. WHO के असिस्टेंट डायरेक्टर जनरल रनीरी गुएरा ने स्पेनिश फ्लू का उल्लेख करते हुए कहा कि तब महामारी सितंबर-अक्टूबर के ठंडे मौसम में बढ़ गई थी. इटली के RAI टीवी से बात करते हुए रनीरी गुएरा ने कहा कि लगभग 100 वर्ष पूर्व आए स्पेनिश फ्लू की दूसरी लहर में करोड़ों लोगों की जान गई थी. 

उन्होंने कहा कि स्पेनिश फ्लू भी कोरोना वायरस की तरह ही बर्ताव कर रहा था. तब भी गर्मियों में मामले घट गए थे, किन्तु बाद में बढ़ गए.

इससे पहले यूरोपियन सेंट्रल बैंक के चीफ क्रिस्टीन लगार्डे ने शुक्रवार को कहा था कि यदि हमने 1918-19 के स्पेनिश फ्लू से कुछ भी सीखा है तो निश्चित रूप से कोरोना की दूसरी लहर आ सकती है. इससे पहले कुछ अध्ययन में ये बात सामने आई थी कि ज्यादा गर्मी में कोरोना वायरस का प्रसार धीमा हो जाता है, किन्तु ये इतना कम नहीं होता कि संक्रमण रुक जाए. 

वहीं, महामारी रोग विशेषज्ञों का कहना है कि महामारी की दूसरी लहर को लेकर कोई निर्धारित परिभाषा नहीं है. आपको बता दें कि अब तक पूरी दुनिया में कोरोना के 97.7 लाख मामलों की पुष्टि हो चुकी है. जबकि दुनियाभर में 4.9 लाख लोग कोरोना वायरस की वजह से जान गँवा चुके हैं.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

बिहार: नेपाल से सटे इलाके में सुरक्षाबल और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, चार नक्सली मार गिराए गए

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना Updated Fri, 10 Jul 2020 04:27 PM IST नक्सली मुठभेड़ (फाइल फोटो) - फोटो : ANI पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं...

पुलिस अधिकारी की हत्या : आईएसआईएस के आतंकी सहित छह लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल

नयी दिल्ली, 10 जुलाई (भाषा) राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने तमिलनाडु के कन्याकुमारी जिले में हिंसक जिहाद के तहत एक पुलिस अधिकारी की हत्या...

अमेरिका ने ताइवान को दी पैट्रियॉट मिसाइल, चीन बोला- आग से मत खेलो

Edited By Priyesh Mishra | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 10 Jul 2020, 10:54:00 PM IST ट्रंप, जिनपिंग और ताइवानी राष्ट्रपतिहाइलाइट्सताइवान को आधुनिक पैट्रियॉट...

BMC का मुंबई के 113 फीसदी नाले सफाई का दावा झूठा : आशीष शेलार

नाला सफाई को लेकर BJP नेता आशीष शेलार (ashish shelar) ने BMC पर निशाना साधा है। आशीष शेलार ने कहा, मानसून के पहले BMC...