Home बड़ी खबरें भारत कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सस्ते स्टेरॉयड के इस्तेमाल को मंजूरी

कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सस्ते स्टेरॉयड के इस्तेमाल को मंजूरी

Edited By Dil Prakash | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

दिल्ली में कोरोना से लड़ाई के केरजीवाल ने बताए पांच हथियार
हाइलाइट्स

  • कोरोना के इलाज की खातिर सस्‍ते स्टेरॉयड ड्रग डेक्सामेथासोन को मंजूरी, गंभीर लक्षणों वाले मरीजों पर होगी इस्‍तेमाल
  • डॉक्‍टर्स के लिए रिवाइज्‍ड प्रोटोकॉल जारी, अभी ऑक्‍सीजन सपोर्ट और जलन वाले मरीजों पर यूज
  • रिसर्च में वेंटिलेटर पर इलाज करा रहे मरीजों में 35 फीसदी कम मौतें हुईं
  • देशभर में कोरोना के 5 लाख से ज्‍यादा केस, 15 हजार से ज्‍यादा लोगों की मौत

नई दिल्ली

कोरोना वायरस मरीजों के लिए इलाज के लिए एक नई दवा को मंजूरी दी गई है। स्टेरॉयड ड्रग डेक्सामेथासोन (Dexamethasone) असल में मिथाइलप्रेड्निसोलोन (Methylprednisolone) की विकल्‍प होगी। इस दवा को मॉडरेट तथा गंभीर लक्षणों वाले मरीजों के इलाज में इस्तेमाल किया जाएगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए एक संशोधित प्रोटोकॉल जारी किया है। यह कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों के लिए है। इसी महीने मंत्रालय ने कोरोना के लक्षणों की सूची को संशोधित किया था। गंध और स्वाद महसूस नहीं होने को भी कोरोना के लक्षणों में शामिल किया गया था।

डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल गठिया जैसी बीमारियों में जलन कम करने के लिए किया जाता है। इसका इस्तेमाल कोरोना के उन मरीजों में किया जाएगा जो ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं और जिन्हें बहुत ज्यादा जलन महसूस हो रही है। यह दवा 60 साल से भी अधिक समय से बाजार में है। हाल में यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफर्ड के शोधकर्ताओं की एक टीम ने कोरोना संक्रमण से जूझ रहे 2000 से अधिक मरीजों पर इस दवा का प्रयोग किया था। इससे वेंटिलेटर पर इलाज करा रहे मरीजों में 35 फीसदी कम मौतें हुईं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि इस दवा का इस्तेमाल गंभीर मरीजों में डॉक्टरों की देखरेख में ही होना चाहिए।

Dexamethasone: जानिए कोरोना की चमत्कारी दवा डेक्सामेथासोन के बारे में सबकुछ

क्या है डेक्सामेथासोन

डेक्सामेथासोन दवा WHO की आवश्यक दवाओं की सूची में साल 1977 से लिस्टेड है। डेक्सामेथासोन एक स्टेरॉयड है जिसका उपयोग सांस की समस्या, एलर्जिक रिएक्शन, ऑर्थराइटिस, हार्मोन या इम्यूनिटी सिस्टम डिसऑर्डर और सूजन के इलाज के लिए किया जाता है। यह दवा शरीर के नैचुरल डिफेंसिव रिस्पॉन्स को भी कम करती है। वैज्ञानिकों ने कहा कि इस दवा को 2104 मरीजों को दिया गया और उनकी तुलना साधारण तरीकों से इलाज किए जा रहे 4321 दूसरे मरीजों से की गई। दवा के इस्तेमाल के बाद वेंटिलेटर के साथ उपचार करा रहे मरीजों की मृत्यु दर 35 फीसदी तक घट गई। वहीं, जिन मरीजों को ऑक्सीजन दिया जा रहा था उनमें भी मृत्यु दर 20 प्रतिशत कम हो गयी।

कोरोना का बढ़ता कहर

देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के आज सुबह तक के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना संक्रमण के रेकॉर्ड 18,552 मामले सामने आए। इस दौरान 384 लोगों ने इस महामारी के कारण दम तोड़ा और 10,244 मरीज रिकवर हुए। देश में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 5,08,953 पहुंच चुकी है। इनमें से 2,95,881 मरीज रिकवर हो चुके हैं जबकि 15,685 लोगों की मौत हो चुकी है। भारत दुनिया में कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित देशों की सूची में चौथे स्थान पर है।

कोरोना के इलाज के लिए डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल होगा।

कोरोना के इलाज के लिए डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल होगा।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Gold Rate Weekly Review: जानिए पिछले सप्ताह सोने-चांदी के भाव में कितने की हुई घट-बढ़

Publish Date:Sun, 12 Jul 2020 08:24 PM (IST) नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। कोरोना संकट के इस काल में सेफ एसेट समझे जाने वाले सोने...

राजस्थान: विधायक दल की बैठक से पहले कांग्रेस ने जारी किया व्हिप, पार्टी का दावा- 10 विधायकों का है समर्थन

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर रविवार (12 जुलाई) रात हुई बैठक में मंत्रियों सहित लगभग 75 विधायक मौजूद थे। उधर,...

संजना सांघी बोलीं- डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा ने मुझे 13 की उम्र में स्कूल में देख रॉकस्टार के लिए कास्ट किया था

दैनिक भास्करJul 10, 2020, 07:53 PM ISTसुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म 'दिल बेचारा' का टाइटल ट्रैक शुक्रवार को रिलीज हो गया। इस मौके...

यूपी में कोरोना का कहर, पिछले 24 घंटे में 27 लोगों की मौत, 1347 नए केस मिले, सोमवार तक लॉकडाउन

Corona in UP: यूपी में कोरोना महामारी से पिछले 24 घंटे में 27 लोगों की मौत हुई है, वहीं संक्रमण के 1347 नए मामले...