Home स्वास्थ्य सेक्सॉल्व: ‘मेरी गर्लफ्रेंड अपने करियर पर ज्यादा ध्यान दे रही है’

सेक्सॉल्व: ‘मेरी गर्लफ्रेंड अपने करियर पर ज्यादा ध्यान दे रही है’

जवाब

डियर संकटग्रस्त प्यार

मुझे लिखने के लिए शुक्रिया. मैं आपको बताना चाहता हूं कि मैंने आपकी बात सुनी, मैंने आपकी बात समझी, और मैं समझता हूं कि यह आसान नहीं है. अपने जज्बात और हताशा को शब्दों में बयान कर पाना कभी आसान नहीं होता. मुझे खुशी है कि आप मुझसे बात कर रही हैं. मेरी ख्वाहिश है कि आप ऐसा कई बार करें. मैं चाहता हूं कि आप खुद से एक बुनियादी सवाल पूछें.

जैसे मैं दूसरों का ख्याल रखती हूं, क्या मैं वैसे खुद का भी रखती हूं? मुझे लगता है कि यह खुद को सबसे पहले रखने का समय है, न कि सबसे अंत में.

मुझे लगता है कि यह समय है कि आप खुद के लिए कदम उठाएं, कोई और नहीं आएगा. मुझे लगता है कि इस रिलेशनशिप में आपकी जरूरतों को समझने का वक्त आ गया है. मैं चाहता हूं कि आप जानें कि इस रिलेशनशिप में कौन सी शर्तें हैं, जिन पर समझौता नहीं किया जा सकता. मेरी ख्वाहिश है कि आप “परस्पर सम्मान” को समझौता न किए जाने वाले शर्त के तौर पर रखें.

प्यार अच्छा है, लेकिन सिर्फ तभी अगर यह परस्पर, निरंतर और संवेदना से भरा है.

अगर परिस्थितिजन्य है, तो यह कैसा प्यार है- यह किसी भी कारोबारी लेन-देन के लिए तो अच्छा है, प्रेम संबंधों के लिए नहीं. अगर यह कहते हैं कि, प्यार गंभीर व्यवसाय भी है, तो आपको प्रेम में अर्जित पॉइंट्स के तौर पर लाभ भी हासिल होना चाहिए. ऐसे में यहां एक हाथ से देना और दूसरे हाथ से लेना होना चाहिए. आपने उसे भरपूर आजादी और आत्म-सम्मान दिया है, लेकिन कहीं न कहीं आपको समझने की जरूरत है- आप हमेशा देते नहीं रह सकते, और वह हमेशा लेता नहीं रह सकता.

मुझे लगता है कि मैं भी आपकी तरह एक देने वाला शख्स हूं. उदाहरण के तौर पर, मेरे मनोवैज्ञानिक ने मुझे एक मुहावरा बोला था, जो कि आपके लिए भी काम कर सकता है…“आपके पास जो है नहीं, वो किसी को कैसे दे सकते हैं.”

अब उसकी मेंटल हेल्थ पर बात करते हैं, मुझे खुशी है कि वह एक मनोवैज्ञानिक से मिला. वह जो कुछ कर रहा है वह सामान्य नहीं है और उसे सामान्य नहीं माना जाना चाहिए. जरूरी है कि बुरे बर्ताव को शुरुआत में ही निपटा दिया जाए. और उसके लिए आपको बिना लाग-लपेट के बात को कहना चाहिए.

आपके प्रेमी का आपके साथ जबरन सेक्स करना बलात्कार है. यह प्रेम नहीं है.

अगर आपके साथ फिर ऐसा करता है तो कृपया पुलिस को कॉल करने में संकोच न करें. कृपया एक मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल की मदद लें, जो आपको खुद के वास्ते खड़े होने के लिए अपनी ताकत जुटाने में मदद कर सके.

मैं जानता हूं कि अगर आप दूसरों के लिए खड़ी हैं तो खुद के लिए खड़ा होना मुश्किल है. लेकिन अभी नहीं तो कब? लॉकडाउन किसी के लिए भी बुरा बर्ताव करने का लाइसेंस नहीं है. आपके ब्वॉयफ्रेंड के नजरिये से भी- जब लोगों को उनके खराब बर्ताव पर टोका नहीं जाता है, तो वे यह मान लेते हैं कि वे गलत नहीं हैं और वे और ज्यादा खराब बर्ताव करते जाते हैं. मेंटल हेल्थ समस्या का इस्तेमाल किसी के साथ बुरा बर्ताव करने को सही ठहराने केलिए नहीं किया जाना चाहिए.

उसके बुरे व्यवहार के बहाने बनाना बंद करें. मैं जोर देकर आग्रह करता हूं कि जब वह आपसे जबरदस्ती करता है या आपको पीटता है तो पुलिस को कॉल करने में संकोच न करें. मुझे पता है कि हमें कभी-कभी केवल वह चीज देखने के लिए भी मदद की जरूरत होती है जो दूसरों को नंगी आंखों से भी साफ दिखता है. मदद लेने में हिचकिचाएं मत.

कभी-कभी हम मदद नहीं लेते हैं क्योंकि हम जानते हैं कि विशेषज्ञ हमें सलाह देंगे कि हम उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करें, जिन्हें हम बचाने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन मन की गहराई से हम यह भी जानते हैं कि विशेषज्ञ सही हैं, और किसी बाहरी शख्स से उन शब्दों को सुनना अजीब लगता है. हो सकता है कि आपको यह सुनने की जरूरत हो- आप अकेली नहीं हैं. जब आप खुद के साथ हैं, तो ये आपका सबसे अच्छा साथ है.

खुद से प्यार करें और अपना ख्याल रखें. उन दोस्तों से बात करें जो आपके लिए खास हैं. अपने लिए काउंसलिंग लें. इस लॉकडाउन के दौरान कई लोग फोन पर काउंसलिंग दे रहे हैं.

प्यार की झप्पी

रेनबोमैन

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

चीन की दादागिरी का आया अंत? हांगकांग पर अमेरिका ने दी ड्रैगन को कड़ी चेतावनी

पिछले लंबे समय से लगातार विवादों में रहने वाला चीन अब दुनियाभर में घिरता जा रहा है। दादागिरी दिखाने की कोशिश कर रहे...

जियो प्लेटफॉर्म्स को मिला 12वां निवेशक, 1894 करोड़ रुपये का निवेश करेगी इंटेल कैपिटल

Edited By Anuj Maurya | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 03 Jul 2020, 09:19:00 AM IST हाइलाइट्सइंटेल कैपिटल जियो प्लेटफॉर्म्स में 1,894.50 करोड़ रुपये...

विरोध प्रदर्शन आया काम, आज फिर नहीं बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए आज क्या है भाव

लगातार 21 दिनों तक पेट्रोल-डीजल की कीमतें (Diesel Petrol Price) बढ़ती रहीं। उसके बाद सोमवार को इसके विरोध में हुए विरोध प्रदर्शन के बाद...

31 जुलाई तक बंद रहेंगे शिक्षण संस्थान, शिक्षा विभाग ने जारी किए निर्देश

अमर उजाला नेटवर्क, शिमला Updated Wed, 01 Jul 2020 06:47 PM IST पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की...

नेपाल के बहाने पाकिस्तान की नई ‘चाल’? अपना देश संभल नहीं रहा, दे रहा ऐसा बयान

इस्लामाबाद: चीन (China)से मोहब्बत में अपनी कुर्सी दांव पर लगाने वाले नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (KP Sharma Oli) को पाकिस्तान (Pakistan) ने...