Home अर्थव्यवस्था 100 साल पुराना लक्ष्मी विलास बैंक 1,000 करोड़ की पूंजी जुटाने के...

100 साल पुराना लक्ष्मी विलास बैंक 1,000 करोड़ की पूंजी जुटाने के लिए निवेशकों से कर रहा बातचीत

100 साल पुराना निजी क्षेत्र का लक्ष्मी विलास बैंक (एलवीबी) करीब एक महीना पहले ही क्लिक्स कैपिटल के साथ विलय समझौता करने के बाद अब 1,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त पूंजी जुटाने के लिए अन्य निवेशकों से बातचीत कर रहा है। बैंक के सीईओ एस सुंदर ने यह जानकारी दी है। बैंक अपने पूंजी पर्याप्तता अनुपात को मजबूत बनाने के लिए विभिन्न विकल्पों को देख रहा है। बैंक का आईओन कैपिटल के समर्थन वाली गैर- बैंकिंग वित्तीय कंपनी क्लिक्स कैपिटल के साथ विलय समझौते से बैंक में 1,900 करोड़ रुपये की पूंजी प्राप्त होगी। 

यह भी पढ़ें: रिलायंस इंडस्ट्रीज ने रचा नया इतिहास, कंपनी का मार्केट कैप 12 लाख करोड़ के पार

एलवीबी के प्रबंध निदेशक और सीईओ एस. सुदर ने पीटीआई- भाषा के साथ खास बातचीत में कहा कि बैंक को वृद्धि और मुनाफा कमाने के लिए पूंजी की आवश्यकता है। ”हमें क्लिक्स मिला है, उन्होंने बैंक के साथ विलय में रुचि दिखाई। इसमें फायदा यह है कि वह पूंजी के मामले में अधिशेष स्थिति में हैं जबकि हमारे पास पूंजी की कमी है।

45 दिन की अधिकतम समय सीमा तय

उन्होंने कहा, ”हमें पूंजी की जरूरत है और उनके पास अधिशेष पूंजी है। इसलिए मुझे यह बेहतर गठबंधन लगा। यह इस लिहाज से बेहतर है कि उनके पास करीब 1,900 करोड़ रुपये की अधिशेष पूंजी है। क्लिक्स अपने साथ करीब 4,500- 4,600 करोड़ रुपये की संपत्ति ला रही है जिसमें से 1,900 करोड़ रुपये शेयरधारकों का कोष है।सुंदर ने कहा इस समझौते को पूरा करने के लिए 45 दिन की अधिकतम समयसीमा तय की गई है। 

यह भी पढ़ें: सोने-चांदी की कीमतों में बदलाव, फटाफट चेक करें 13 जुलाई का रेट

एलवीबी का कुल पूंजी पयार्प्तता अनुपात बेसल-तीन दिशानिर्देशों के मुताबिक 31 मार्च 2020 को 1.12 प्रतिशत पर था जबकि 31 दिसंबर 2019 को यह 3.46 प्रतिशत पर था। वर्ष 1926 में स्थापित इस बैंक ने पिछले पांच साल के दौरान केवल 2,002 करोड़ रुपये की इक्विटी पूंजी जुटाई है।

लगातार दस तिमाहियों में घाटे के बाद मुनाफा

बैंक को मार्च 2020 को समाप्त तिमाही में 92.86 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ है। इससे पहले लगातार दस तिमाहियों में बैंक को घाटा हो रहा था। रिजर्व बैंक ने उसे सितंबर 2019 में त्वरित सुधारात्मक कार्रवाई (पीसीए) के तहत डाल दिया था। इस कार्रवाई के तहत बैंक को अतिरिक्त पूंजी लाने, कंपनियों को आगे और कर्ज नहीं देने और गैर-निष्पादित राशि (एनपीए) में कमी लाने तथा प्रावधान कवरेज अनुपात को बढ़ाकर 70 प्रतिशत करने को कहा है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

आर्मेनिया और अजरबैजान में 29 दिन बाद लौटेगी शांति, इस देश ने कराया संघर्ष विराम

नागोर्नो-काराबाख: आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच 29 दिनों से चल रही जंग के शांत होने की उम्मीद है.दोनों देशों ने आधी रात से युद्ध विराम...

विम्स के 40 मेडिकल छात्र मिले कोरोना पॉजिटिव, आठ आइसोलेशन वार्ड में भर्ती

बिहारशरीफ/गिरियक5 घंटे पहलेकॉपी लिंकपावापुरी मेडिकल कॉलेज स्थित इमरजेंसी वार्ड।एमबीबीएस सेकेंड इयर की परीक्षा के दौरान बिगड़ी थी तबीयत19 अक्टूबर को तबीयत खराब होने के...

KBC 12: फरहत नाज ने किया 50 लाख के सवाल पर गेम क्विट, यह था प्रश्न

टीवी शो ‘कौन बनेगा करोड़पति 12’ बुधवार के एपिसोड की शुरुआत हॉट सीट पर मौजूद कंटेस्टेंट फरहत नाज से हुई। दरअसल, फरहत ने...

सफाई सेवाओं का नहीं होगा निजीकरण

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम में सफाई सेवाओं के निजीकरण की चर्चा पिछले काफी समय से चल रही है। इन चर्चाओं के बीच सफाई व्यवस्था...