Home बड़ी खबरें भारत 9 साल बाद पद्मनाभस्वामी मंदिर मामले में आया फैसला, SC ने राजघराने...

9 साल बाद पद्मनाभस्वामी मंदिर मामले में आया फैसला, SC ने राजघराने के अधिकार को दी मान्यता

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने पद्मनाभस्वामी मन्दिर (Padmanabhaswamy Temple) के प्रबंधन में त्रावणकोर के राजपरिवार के अधिकार को मान्यता दे दी है. सोमवार को केस पर सुनवाई के बाद कोर्ट ने फैसला देते हुए तिरुअनंतपुरम के जिला जज की अध्यक्षता वाली कमेटी को मंदिर की व्यवस्था और देखरेख की जिम्मेदारी सौंपी है.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में केरल के तिरुअनंतपुरम स्थित श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर में वित्तीय गड़बड़ी को लेकर प्रबंधन और प्रशासन का विवाद पिछले नौ सालों से लंबित था. केरल हाईकोर्ट के फैसले को त्रावणकोर के पूर्व शाही परिवार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. मंदिर के पास करीब दो लाख करोड़ रुपये की संपत्ति है.

ये भी पढ़ें:- संजय निरुपम की कांग्रेस को सलाह- ‘बेहतर होगा अगर पार्टी पायलट को समझाए और रोके’

भगवान पद्मनाभ (विष्णु) के इस भव्य मंदिर का पुनíनर्माण 18वीं सदी में इसके मौजूदा स्वरूप में त्रावणकोर शाही परिवार ने कराया था. इसी शाही परिवार ने 1947 में भारतीय संघ में विलय से पहले दक्षिणी केरल और उससे लगे तमिलनाडु के कुछ भागों पर शासन किया था. स्वतंत्रता के बाद भी मंदिर का संचालन पूर्ववर्ती राजपरिवार ही नियंत्रित ट्रस्ट करता रहा जिसके कुलदेवता भगवान पद्मनाभ हैं.

सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस यूयू ललित और जस्टिस इंदु मल्होत्रा की बेंच ने पिछले साल 10 अप्रैल को मामले में केरल हाईकोर्ट के 31 जनवरी, 2011 के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर अपना फैसला सुरक्षित रखा था. हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को मंदिर, उसकी संपत्तियों का प्रबंधन संभालने तथा परिपाटियों के अनुरूप मंदिर का संचालन करने के लिए एक निकाय या ट्रस्ट बनाने को कहा था.

ये भी पढ़ें:- पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे खुले हैं, कोई शिकायत है तो पार्टी बैठक में बोलें: सुरजेवाला

सुप्रीम कोर्ट ने तय करना था कि देश के सबसे अमीर मंदिर का मैनेजमेंट राज्य सरकार देखेगी या त्रावणकोर का पूर्व शाही परिवार. सुप्रीम कोर्ट में इस मुद्दे पर सुनवाई करते हुए सवाल किया- क्या यह मंदिर सार्वजनिक संपत्ति है और इसके लिए तिरुपति तिरुमला, गुरुवयूर और सबरीमला मंदिरों की तरह ही देवस्थानम बोर्ड की स्थापना की जरूरत है या नहीं? बेंच इस बात पर भी निर्णय दे सकती है कि त्रावणकोर के पूर्ववर्ती शाही परिवार का मंदिर पर किस हद तक अधिकार होगा और क्या मंदिर के सातवें तहखाने को खोला जाए या नहीं.

ये भी देखें-

सुप्रीम कोर्ट ने मई 2011 में मंदिर के प्रबंधन और संपत्तियों पर नियंत्रण से संबंधित हाईकोर्ट के निर्देश पर रोक लगा दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मंदिर के खजाने में मूल्यवान वस्तुओं, आभूषणों का भी विस्तृत विवरण तैयार किया जाएगा. सुप्रीम कोर्ट ने 8 जुलाई 2011 को कहा था कि मंदिर के तहखाने-बी के खुलने की प्रक्रिया पर अगले आदेश तक रोक रहेगी, जुलाई 2017 में कोर्ट ने कहा था कि वह इन दावों का अध्ययन करेगा कि मंदिर के एक तहखाने में रहस्यमयी ऊर्जा वाला अपार खजाना है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

तुर्की ने किया रूसी S-400 का टेस्‍ट, भड़के अमेरिका ने रेचप तैय्यप एर्दोगान को दी गंभीर चेतावनी

वॉशिंगटन रूस के S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम को लेकर अमेरिका और तुर्की के बीच विवाद गंभीर रूप लेता जा रहा है। तुर्की के S-400...

हत्या के दो अलग-अलग मामलों में पांच आरोपित गिरफ्तार

संवाद सहयोगी, मेदिनीनगर (पलामू) : पलामू पुलिस ने जिले के पाटन व छतरपुर थाना क्षेत्र में हुई हत्या के दो अलग-अलग मामलों का फर्दाफाश...

बिहार चुनाव: यहां देखें सभी 71 सीटों के अहम उम्मीदवार और उनकी पार्टी के नाम

SR असेंबली हल्के का नाम उम्मीदवारों के नाम पार्टी का नाम 01 कहलगांव   पवन कुमार यादव शुभानंद मुकेश भाजपा कांग्रेस 02 सुल्तानगंज ललित मंडल ललन यादव जेडीयू कांग्रेस 03 अमरपुर जयंत राज जितेंद्र सिंह जेडीयू कांग्रेस 04 धोरैया (एससी) मनीष कुमार भूदेव चौधरी  जेडीयू आरजेडी 05 बांका रामनारायण मंडल  जावेद इकबाल अंसारी  भाजपा आरजेडी 06 कटोरिया (एसटी)- निक्की हेम्ब्रम स्वीटी हेम्ब्रम भाजपा आरजेडी 07 बेलहर मनोज...

ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम का ऐलान, रोहित का नाम गायब; पंत वनडे और टी20 टीम से बाहर

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने अगले महीने से शुरू होने वाली ऑस्ट्रेलिया सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान कर दिया है। टीम...