Home अर्थव्यवस्था HDFC बैंक में भी गड़बड़! गलत तरीके से लोन देने के आरोप...

HDFC बैंक में भी गड़बड़! गलत तरीके से लोन देने के आरोप की हुई जांच

  • बैंक के व्हीकल लोन यूनिट में गड़बड़ी के लगे हैं आरोप
  • HDFC बैंक की एक आंतरिक कमेटी ने इसकी जांच की

देश में मार्केट कैपिटल के लिहाज से निजी क्षेत्र के सबसे बड़े HDFC बैंक में भी अब लोन देने के मामले में गड़बड़ी की बात सामने आई है. बैंक के वाहन लोन देने वाली यूनिट में ‘अनुचित तरीके से’ लोन देने की शिकायत आई है और बैंक की आंतरिक समिति ने जांच की है.

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, बैंक के व्हीकल फाइनेंशिंग शाखा में ‘अनुचित तरीके से लोन देने’ और ‘हितों के टकराव’ का आरोप लगा है जिसकी बैंक की ही एक आंतरिक समिति ने जांच की है..

इसे भी पढ़ें: चमत्कारिक है पतंजलि की सफलता की कहानी, 8 हजार करोड़ से ज्यादा का कारोबार

इस खबर के आने के बाद सोमवार को एचडीएफसी बैंक के शेयर 2.26 फीसदी टूट कर 1080.40 रुपये पर पहुंच गए. शुक्रवार को एचडीएफसी बैंक के शेयर 1105 रुपये पर बंद हुए थे. गौरतलब है कि इसके पहले पीएनबी, येस बैंक जैसे कई बैंकों में लोन के घोटाले सामने आ चुके हैं. इसलिए ऐसी कोई भी खबर निवेशकों, ग्राहकों को काफी सचेत करती है.

नहीं बढ़ा यूनिट हेड अशोक खन्ना का कार्यकाल

इस जांच में क्या प्रगति हुई है, इसके बारे में बैंक ने अभी कोई जानकारी सार्वजनिक नहीं की है. इस यूनिट के करीब 18 साल तक प्रमुख रहे अशोक खन्ना का कार्यकाल नहीं बढ़ाया गया, जबकि पहले ऐसा प्रस्ताव था. इस यूनिट के द्वारा एचडीएफसी के कुल लोन का करीब 10 फीसदी हिस्सा वितरित किया जाता है.

इसे भी पढ़ें: TikTok जैसे बैन चीनी ऐप्स को भारी नुकसान, भारत में करोड़ों डाउनलोड, अरबों की कमाई

कुल 1.2 लाख करोड़ का ऑटो लोन

ब्लूमबर्ग के मुताबिक एचडीएफसी बैंक की वाहन लोन यूनिट ने 31 मार्च, 2020 तक करीब 1.2 लाख करोड़ रुपये का लोन दे रखा था.

पहले यह प्रस्ताव था कि खन्ना का कार्यकाल अक्टूबर तक कम से कम छह माह के लिए बढ़ाया जाएगा. लेकिन 63 वर्षीय खन्ना कॉन्ट्रेक्ट के मुताबिक मार्च में ही बैंक से रिटायर हो गए. इसके पहले खन्ना 2017 में ही रिटायर होने वाले थे, लेकिन तब उन्हें सेवा विस्तार दे दिया गया था, क्योंकि बैंक के लिए वाहन लोन यूनिट काफी महत्वपूर्ण है. खन्ना ने इस जांच पर कोई टिप्पणी न करते हुए कहा कि वह अपने कॉन्ट्रेक्ट के मुताबिक रिटायर हुए हैं.

एचडीएफसी बैंक के मौजूदा मैनेजिंग डायरेक्टर आदित्य पुरी रिटायर होने वाले हैं और यह जांच शायद इसीलिए की गई है कि उनके रिटायर होने से पहले किसी तरह से बैंक की छवि पर बट्टा न लगे.

एचडीएफसी बैंक के एमडी और सीईओ आदित्य पुरी भारत में सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले बैंकर हैं. वह अक्टूबर में रिटायर हो रहे हैं. पुरी ने ही नब्बे के दशक में भारत में निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक की स्थापना की थी. वे मलेशिया से सिटीबैंक की बढ़िया नौकरी छोड़कर आए थे. करीब दो दशकों में पुरी ने बैंक को काफी आगे बढ़ाया और इसे मुनाफे में रखते हुए सबसे कम एनपीए वाला बैंक बना दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android IOS



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

कंगना रनौत ने मुंबई पुलिस के समन का दिया जवाब, कहा- कोई बात नहीं, जल्द आ जाऊंगी

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने मुंबई पुलिस द्वारा नोटिस जारी किए जाने के मामले में रिएक्शन दिया है। कंगना रनौत जल्द ही मुंबई...

Bihar Election 2020: प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष पद से बेबी कुमारी का इस्तीफा, लोजपा से लड़ेंगी चुनाव

एनडीए से टिकट कटने से नाराज बेबी कुमारी ने भाजपा के प्रदेश उपाध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा दे दिया है। पहले उन्‍होंने निर्दलीय चुनाव...

Pollution & Eye Infection: प्रदूषण से हो रही है आंखों में जलन या ड्राइनेस, तो न करें इग्‍नोर

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Pollution & Eye Infection: लॉकडाउन खुलने के बाद दिल्‍ली समेत उत्‍तर भारत एक बार फिर बढ़ते वायु प्रदूषण का...