Home स्वास्थ्य चमगादड़ से बन सकती है कोरोना की दवा, जानिए चौंकाने वाला खुलासा

चमगादड़ से बन सकती है कोरोना की दवा, जानिए चौंकाने वाला खुलासा

न्यूयॉर्क: कई अध्ययनों की एक समीक्षा के मुताबिक कोरोना वायरस (Coronavirus) जैसे विषाणुओं को बर्दाश्त करने की चमगादड़ों की क्षमता सूजन नियंत्रित करने की उनकी शक्ति से विकसित होती है. इसके मुताबिक उनके रोग प्रतिरोधक तंत्र को समझ कर इंसानों में कोविड-19 के इलाज के लिए नये दवा लक्ष्यों की पहचान की जा सकती है.

अमेरिका के रोचेस्टर विश्विद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं समेत कई ने कहा कि भले ही चमगादड़ मनुष्यों को प्रभावित करने वाले कई घातक विषाणुओं जैसे इबोला, रेबीज और सार्स-सीओवी-2 के जनक रहे हैं लेकिन इन उड़ने वाले स्तनधारी जीवों में बिना किसी बुरे प्रभाव के इन रोगाणुओं को बर्दाश्त करने की क्षमता होती है.

ये भी पढ़ें: कोरोना तोड़ रहा रिकॉर्ड, 24 घंटे में पूरी दुनिया में 2.3 लाख से ज्यादा केस: WHO

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘भले ही इंसान इन विषाणुओं से संक्रमित होने के बाद प्रतिकूल लक्षणों का अनुभव करते हैं लेकिन तुलनात्मक रूप से चमगादड़ इन रोगाणुओं को बर्दाश्त करने में समर्थ होते हैं और साथ ही में वे समान आकार के अन्य स्तनपायी जीवों से ज्यादा वक्त तक जिंदा रहते हैं.’

समीक्षा अनुसंधान में वैज्ञानिकों ने इस बात का आकलन करने की कोशिश की कि चमगादड़ों की सूजन को नियंत्रित करने की प्राकृतिक क्षमता कैसे बीमारियों से लड़ने की प्रवृत्ति और उनके लंबे जीवनकाल में योगदान देती है.

अध्ययन की सह-लेखिका वेरी गोर्बूनोवा ने कहा, ‘कोविड-19 से सूजन बहुत बढ़ जाती है और संभवत: विषाणु से अधिक सूजन के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया ही मरीजों की जान लेती हो.’ उन्होंने कहा, ‘मनुष्य का प्रतिरक्षा तंत्र इसी तरह से काम करता है- एक बार हम संक्रमित हो जाएं तो हमारा शरीर सक्रिय हो जाता है और हमें बुखार एवं सूजन हो जाती है.’

गोर्बूनोवा ने कहा कि इंसानों में प्रतिरक्षा तंत्र की प्रतिक्रिया का मकसद वायरस को मारना और संक्रमण को खत्म करना है लेकिन यह हानिकारिक प्रतिक्रिया हो सकती है क्योंकि मरीज का शरीर खतरे के प्रति अत्यधिक प्रतिक्रिया देने लगता है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि चमगादड़ों में विशेष तंत्र होता है जो उनके शरीर में वायरस की संख्या को बढ़ने नहीं देता और उनके प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को भी हल्का कर देता है. यह अनुसंधान ‘सेल मेटाबोलिज्म’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.

(इनपुट: एजेंसी भाषा)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

बिहार : तेजस्वी यादव ने CM नीतीश को किया खुला चैलेंज, कहा- एक भी थाने का नाम बताएं, जहां…

तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को दी सीधी व खुली चुनौती (फाइल फोटो)पटना: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) की तारीख नजदीक आने...

बैंक लूट में शामिल दूसरे बदमाश को भी लगी गोली

जागरण संवाददाता ग्रेटर नोएडा : बीटा दो कोतवाली क्षेत्र स्थित इंडियन बैंक में बीते छह अक्टूबर को लूट की घटना को अंजाम देने वाले...

Video: हेल्मेट लगाने को कहा तो महिला ने कर दी पुलिसकर्मी की ‘पिटाई’, संजय राउत को आया गुस्सा

मुम्बई: दक्षिण मुम्बई के कल्बादेवी क्षेत्र में बिना हेल्मेट लगाए...

Coronavirus: कहीं आपको भी तो नहीं हो चुका है कोरोना? इन हल्के संकेतों से लगाएं पता…

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Coronavirus: कोविड-19 एक ख़तरनाक बीमारी है, हालांकि इससे उबर कर ठीक होना इस बात पर निर्भर करता है कि...

जेलकर्मियों व कैदियों के बीच सांठगांठ तोड़ने की कोशिश में जुटा प्रशासन

जेलों में फैली अव्यवस्था को लेकर प्रशासन की लगातार किरकिरी के बाद अब बड़े पैमाने पर जेलों में प्रशासनिक फेरबदल किया जा रहा है।...

क्‍या तेजस्‍वी दे रहे नीतीश को तगड़ी टक्‍कर? जानें क्‍या कह रहा ये सर्वे

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) ने लिए मतदान के दिन करीब आ रहे हैं. जैसे-जैसे ये दिन करीब आ रहे...