Home बड़ी खबरें भारत सुदीक्षा भाटी की मौत से जुड़े दावों में उलझी पुलिस, परिजन बोले...

सुदीक्षा भाटी की मौत से जुड़े दावों में उलझी पुलिस, परिजन बोले – छेड़छाड़ हुई


इमेज कॉपीरइट
Saurabh Sharma

अमरीका के बॉब्सन कॉलेज से क़रीब चार करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप पाने वाली सुदीक्षा भाटी की सोमवार को बुलंदशहर में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई.

परिजनों का आरोप है कि कुछ बाइक सवार युवकों ने सुदीक्षा के साथ छेड़छाड़ की कोशिश की और उसी दौरान दोनों बाइक की टक्कर में उनकी मौत हो गई.

हालांकि, पुलिस छेड़छाड़ के मामले से इनकार कर रही है, लेकिन सुदीक्षा भाटी के साथ जा रहे उनके चाचा सतेंद्र भाटी का कहना है कि ‘बुलेट सवार कुछ युवकों ने काफ़ी देर तक उनका पीछा किया और बाद में आगे बढ़कर अचानक ब्रेक लगा दिये.’

मीडिया से बातचीत में सतेंद्र भाटी ने बताया कि “सुदीक्षा छुट्टियों में घर आई थी और उसके स्कूल से कुछ कागज़ लेने थे. मेरे साथ बाइक पर वो पीछे बैठी थी. दादरी के बाद से ही कुछ लड़के हमारे पीछे लग गये. इधर-उधर की बातें भी कर रहे थे, परेशान कर रहे थे. पर हम चुपचाप चले आ रहे थे.”

उन्होंने कहा, “औरंगाबाद के क़रीब आगे बढ़कर बुलेट वाले लड़के ने अचानक ब्रेक लगा दिये. हमारी बाइक की स्पीड काफ़ी कम थी लेकिन अचानक ब्रेक लगने से हमारी बाइक बुलेट से टकरा गई और बेटी नीचे गिर गई.”

सतेंद्र के अनुसार, सुदीक्षा भाटी के सिर में चोट आई थी और अस्पताल पहुँचने से पहले उनकी मौत हो चुकी थी.

अभी तक सुदीक्षा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट नहीं मिली है. पर पुलिस का दावा है कि ‘सुदीक्षा अपने नाबालिग भाई के साथ बाइक से जा रही थी और आमने-सामने की टक्कर से हुई दुर्घटना में सुदीक्षा की मौत हुई.’

इमेज कॉपीरइट
Saurabh Sharma

Image caption

डीएम रवींद्र कुमार

बुलंदशहर के डीएम रवींद्र कुमार ने बीबीसी को बताया कि “आरंभिक जाँच में जो बात सामने आयी है वो यह है कि बाइक सुदीक्षा भाटी का भाई चला रहा था. चाचा के बाइक चलाने की बात ठीक नहीं है. छेड़छाड़ की बात अभी तक सामने नहीं आयी है लेकिन मामले की पूरी जाँच की जा रही है, जल्द ही सही तथ्य सामने आ जाएंगे.”

परिजनों के मुताबिक़, गौतम बुद्धनगर ज़िले में दादरी तहसील के गाँव धूम मानिकपुर की रहने वाली सुदीक्षा अपने मामा से मिलने के लिए बाइक से बुलंदशहर जा रही थीं.

बाइक कौन चला रहा था, इसे लेकर ना सिर्फ़ पुलिस की ओर से बल्कि परिजनों की ओर से भी विरोधाभासी बयान सामने आ रहे हैं.

सुदीक्षा के भाई ने घटना के बाद कुछ मीडियाकर्मियों को जानकारी दी थी कि सुदीक्षा उसी के साथ जा रही थीं, जबकि सुदीक्षा के चाचा का दावा है कि सुदीक्षा उनके साथ जा रही थीं.

वहीं, घटनास्थल पर मौजूद एक पुलिसकर्मी ने मीडियाकर्मियों से कहा था कि ‘बाइक सुदीक्षा ख़ुद चला रही थीं.’

इमेज कॉपीरइट
Saurabh Sharma

Image caption

सुदीक्षा के चाचा सतेंद्र भाटी

स्थानीय पत्रकार सौरभ शर्मा बताते हैं कि दुर्घटना में ना तो सुदीक्षा के भाई को और ना ही उनके चाचा सतेंद्र भाटी को कोई ख़ास चोट आई है.

उनके मुताबिक़, “ऐसे में यह दुर्घटना और भी ज़्यादा संदेह के घेरे में आ जाती है. अब पुलिस की जाँच में ही पता चल सकेगा कि आख़िर हुआ क्या था?”

फ़िलहाल इस बारे में पुलिस को कुछ सीसीटीवी फ़ुटेज मिले हैं जिनके आधार पर दुर्घटना और छेड़छाड़ की जाँच की जा रही है.

सुदीक्षा के परिजनों का कहना है कि पुलिस जानबूझकर इसे दुर्घटना बता रही है, जबकि सुदीक्षा की हत्या की गई है.

परिजनों का आरोप है कि उनकी शिकायत के बावजूद अब तक एफ़आईआर नहीं लिखी गई है, जबकि पुलिस के अधिकारी इस बारे में साफ़तौर पर कुछ भी नहीं बता रहे हैं.

बुलंदशहर के पुलिस के अधिकारी इस बात की पुष्टि नहीं कर रहे हैं कि एफ़आईआर दर्ज हुई है या नहीं.

इमेज कॉपीरइट
Saurabh Sharma

Image caption

बुलंदशहर के एसपी सिटी अतुल कुमार श्रीवास्तव

घटना के बाद बुलंदशहर के एसपी सिटी अतुल कुमार श्रीवास्तव ने प्रेस से बातचीत में कहा कि “परिजनों की शिकायत के आधार पर जाँच शुरू कर दी गई थी. अब परिजनों ने छेड़छाड़ की बात है जिसके आधार पर भी जाँच शुरू कर दी गई है. जल्द ही अभियुक्तों का पता लगाकर उनके ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाएगी.”

दादरी की रहने वाली होनहार छात्रा सुदीक्षा भाटी दो साल पहले तब चर्चा में आई थीं, जब अमरीका के मशहूर बॉब्सन कॉलेज से उन्हें क़रीब 3.8 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप दी गई थी.

गाँव में ही चाय का ढाबा चलाने वाले सुदीक्षा के पिता जितेंद्र भाटी बेहद कम पढ़े-लिखे हैं और सुदीक्षा की माँ गीता भाटी घरेलू महिला हैं.

इमेज कॉपीरइट
Saurabh Sharma

Image caption

सुदीक्षा को चार वर्ष तक अमरीका में पढ़ने की स्कॉलरशिप मिली थी

सुदीक्षा ने उसी साल बारहवीं की परीक्षा भी 98 फ़ीसद अंकों के साथ पास की थी.

परिजनों के मुताबिक़, कोरोना संक्रमण की वजह से सुदीक्षा गाँव आई थीं और अगले कुछ दिनों में ही उन्हें वापस अमरीका जाना था. अमरीका से उन्हें चार साल की स्कॉलरशिप मिली थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

दिल्ली मेट्रो में आप भी तो नहीं कर रहे ये गलतियां, 5000 से अधिक यात्रियों का हो चुका है चालान

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। दिल्ली मेट्रो में यात्रा करते हैं और जुर्माने से बचना चाहते हैं तो यह खबर आपके बेहद काम की...

ईमानदारी व सजगता के साथ कार्य करने की ली शपथ

संवाद सूत्र, जयनगर (कोडरमा) : कोडरमा थर्मल पावर प्लांट में 27 अक्टूबर से 2 नवंबर तक चलने वाले सतर्कता जागरूकता सप्ताह मंगलवार...

Bihar Elections 2020 से पहले BJP को झटका! कैंपेन इंचार्ज देवेंद्र फडणवीस को हुआ कोरोना

मैं लॉकडाउन के बाद से हर एक दिन काम कर रहा हूं, लेकिन अब ऐसा लगता है कि भगवान चाहते हैं कि मैं थोड़ी...

Micromax In सीरीज की लॉन्चिंग से पहले डिटेल हुई लीक, जानिए संभावित कीमत और स्पेसिफिकेशन्स

नई दिल्ली, टेक डेस्क. Micromax In सीरीज की लॉन्चिंग 3 नवंबर दोपहर 12 बजे होगी। इस नई सीरीज में दो नए स्मार्टफोन Micromax...