Home बड़ी खबरें भारत अयोध्या में मस्जिद की जगह राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बने...

अयोध्या में मस्जिद की जगह राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बने : मुनव्वर राना

मशहूर शायर मुनव्वर राना ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर कई मांगे की हैं.

नई दिल्ली :

मशहूर शायर मुनव्वर राना ने उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को अयोध्या के धन्नीपुर गांव में दी गई पांच एकड़ जमीन पर मस्जिद की जगह राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बनाये जाने की मांग की है. साथ ही, उन्होंने इस सिलसिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है.  सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मस्जिद बनाने के लिये यह जमीन दी गई है.  राना ने मंगलवार को ”भाषा” से बातचीत में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आठ अगस्त को लिखे पत्र में उन्होंने कहा है कि धन्नीपुर गांव में वक्फ बोर्ड को मिली जमीन पर राजा दशरथ के नाम से अस्पताल बनवा दिया जाए. उन्होंने कहा, “यूं भी सरकार द्वारा दी गई या जबरदस्ती हासिल की गई जमीनों पर मस्जिदों का निर्माण नहीं होता.” राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल का निर्माण क्यों होना चाहिए, इस बारे में पूछे जाने पर राना ने कहा, ‘लंबे समय से मुसलमानों के खिलाफ यह बात प्रचारित की जा रही है कि उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनाई थी, लेकिन सच्चाई यह है कि मुसलमान किसी अवैध कब्जे की जमीन पर मस्जिद नहीं बनाते.’

यह भी पढ़ें

उन्होंने कहा कि भारत के मुसलमान हमेशा से अपने वतन, यहां रहने वाले लोगों और उनकी आस्था का पूरा सम्मान करते रहे हैं. यह संदेश देने के लिए वक्फ बोर्ड को मिली जमीन पर मस्जिद के बजाय भगवान राम के पिता राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बनवाया जाए. उन्होंने कहा कि जहां तक मस्जिद का सवाल है, तो वह इसके निर्माण के लिए रायबरेली में सई नदी के किनारे अपनी साढ़े पांच बीघा जमीन देने को तैयार हैं. यह जमीन उनके बेटे तबरेज के नाम है.  राना ने पत्र में कहा ‘मैं चाहता हूं कि इस जमीन पर बाबरी मस्जिद की एक ऐसी शानदार इमारत बनाई जाए कि दुनिया के जो लोग इधर से गुजरें वे बाबरी मस्जिद का दीदार कर सकें.’

राना ने प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र में यह भी कहा कि जिस सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि के पक्ष में निर्णय दिया है, वह अपना सम्मान बढ़ाने के लिए देश में वक्फ संपत्तियों पर अवैध कब्जे को जल्द से जल्द खाली करवाए ताकि समुदाय उनका इस्तेमाल अपनी भलाई के लिए कर सके. 

साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किए जा चुके शायर राना ने बाबरी मस्जिद संबंधी मुकदमे में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की भूमिका पर भी संदेह व्यक्त किया.  शायर ने पत्र में प्रधानमंत्री से यह भी मांग की कि एक नए वक्फ बोर्ड का गठन कर तमाम वक्फ संपत्तियों को उससे संबद्ध कर दिया जाए.  उन्होंने कहा कि इसमें उनकी कोई निजी दिलचस्पी नहीं है और उन्हें बोर्ड में कोई पद भी नहीं चाहिए.  वह सिर्फ जमीन देने वाला व्यक्ति ही बने रहना चाहते हैं. 

 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

मुजफ्फरनगर में बनाई जाती थी अवैध पिस्टल, चार गिरफ्तार

नोट-- उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर फोटो नंबर 26 यूटीएम 45 बाहरी जिला पुलिस के एएटीएस ने जौला गांव में की छापेमारी और फैक्ट्री का...

संजय जायसवाल: राजद में हारे, भाजपा में आते ही हुआ भाग्योदय; माने जाते हैं सुशील मोदी की काट, नरेंद्र मोदी और अमित शाह से भी पा चुके हैं तारीफ

बिहार की राजनीति में कभी ‘हाशिए’ पर रहे संजय जायसवाल का भाजपा में आते ही भाग्योदय हो गया। साल 2005 में उन्होंने आरजेडी के...

शराब के नशे में टुल्ल शख्स ने NBT के कैमरे पर कहा- ‘हम दारू पीकर टंच हैं, मैं तेजस्वी सरकार को वोट दूंगा’

मखदुमपुरबिहार में शराबबंदी है और विधानसभा चुनाव में पहले चरण की वोटिंग से पहले प्रचार के अंतिम दिन यह मुद्दा नेताओं के भाषणों में...

टॉप-3 टीमों को हरा शीर्ष-5 में पहुंचा पंजाब, जानिए ऑरेंज और पर्पल कैप की रेस में कौन आगे

लगातार पांच मैच हारने वाली किंग्स इलेवन पंजाब ने मंगलवार यानी 20 अक्टूबर की रात जीत की हैट्रिक लगाई है। उसने इंडियन प्रीमियर लीग...

बिहार चुनाव पर वामन मेश्राम का यह दाव BJP का सरदर्द #BKM #BMP #WamanMeshram

बहुजन पोस्ट डॉट कॉम Bahujan HUB को आर्थिक मदद के लिए कृपया सहयोग करे ! UPI - [email protected] Let's Check out Bahujan Hub other Platform 👇 Facebook -...