Home राज्यवार दिल्ली स्वतंत्रता दिवस पर कोरोना की छाया, सभी मंत्रियों को नहीं मिलेगा न्योता,...

स्वतंत्रता दिवस पर कोरोना की छाया, सभी मंत्रियों को नहीं मिलेगा न्योता, राष्ट्रपति भवन के मेहमानों की सूची हुई छोटी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Wed, 12 Aug 2020 12:33 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के प्रभाव से राष्ट्रपति भवन का कार्यक्रम भी अछूता नहीं रहा है। कोविड-19 के कारण सामाजिक दूरी और अधिक लोगों के इकट्ठा न होने वाले प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए 15 अगस्त को राष्ट्रपति की ओर से ‘एट होम रिसेप्शन’ में कई कटौतियां की गई हैं। 

सामान्य स्थिति में इस तरह के कार्यक्रमों में मेहमानों की सूची काफी लंबी होती है। अमूमन इस तरह के कार्यक्रम में 1200-1300 मेहमान शिरकत फरमाते हैं, लेकिन कोरोना को देखते हुए इस बार ‘एट होम रिसेप्शन’ में 100 से ज्यादा मेहमान शामिल नहीं हो पाएंगे।  

मेहमानों से मुलाकात के दौरान सामाजिक दूरी का रखा जाएगा पूरा ख्याल
इस कार्यक्रम के दौरान पिछले वर्षों में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मेहमानों से मुलाकात करते थे। इसके लिए मेहमान एक कतार में लगे रहते थे, लेकिन इस बार सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए मेहमानों की सूची में कटौती की गई है। इसलिए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान मेहमान एक दूसरे से उचित दूरी बनाकर खड़े होंगे। इसके अलावा, दोनों गणमान्य व्यक्तियों के लिए खास व्यवस्था की गई है।

यह भी पढ़ें: 74 साल में पहली बार अलग तरह का होगा स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन, जानें कैसी रहेगी व्यवस्था

इस कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रपति भवन कन्वेंशन सेंटर (आरबीसीसी) में किया जाएगा। इस दौरान प्रवेश और निकास के लिए सख्त प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। मेहमानों के आगमन के दौरान उनके लिए मास्क, सैनिटाइजर आदि की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही मुख्य जगहों पर भी इसे रखा जाएगा, ताकि संक्रमण से बचाव हो सके। 

सभी मंत्रियों को नहीं मिलेगा न्योता
वहीं, इस बार कैबिनेट या मंत्रिपरिषद के सभी मंत्रियों की न्योता नहीं भेजा जाएगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, केवल चार मंत्रियों को इस कार्यक्रम के लिए निमंत्रण भेजा जाएगा। इन मेहमानों की सूची में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री एस जयशंकर, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और गृह मंत्री अमित शाह के नाम हैं। बताया गया है कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने के चलते अमित शाह के इस कार्यक्रम में शामिल होने की संभावना बहुत कम है। बता दें कि, कोरोना संक्रमित होने के बाद से शाह का इलाज चल रहा है। 

विदेशी दूतों को भी कम संख्या में भेजा जाएगा निमंत्रण
इस कार्यक्रम में शिरकत करने वाले विदेशी दूतों की संख्या में भी बड़ी कटौती की जाएगी। बता दें कि दिल्ली में 170 दूतावास/उच्च आयोग और अन्य प्रतिनिधियों की मौजूदगी है। लेकिन कोरोना वायरस को देखते हुए इनमें से कुछ ही दूतों को निमंत्रण भेजा जाएगा। बताया गया है कि इस बार निमंत्रण कार्ड जी-8, ब्रिक्स, यूरोपीय संघ जैसे क्षेत्रीय और वैश्विक ब्लॉकों के आधार पर होने जा रहा है। इस श्रेणी में 15 से अधिक मेहमानों को निमंत्रण नहीं भेजा जाएगा। 

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के प्रभाव से राष्ट्रपति भवन का कार्यक्रम भी अछूता नहीं रहा है। कोविड-19 के कारण सामाजिक दूरी और अधिक लोगों के इकट्ठा न होने वाले प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए 15 अगस्त को राष्ट्रपति की ओर से ‘एट होम रिसेप्शन’ में कई कटौतियां की गई हैं। 

सामान्य स्थिति में इस तरह के कार्यक्रमों में मेहमानों की सूची काफी लंबी होती है। अमूमन इस तरह के कार्यक्रम में 1200-1300 मेहमान शिरकत फरमाते हैं, लेकिन कोरोना को देखते हुए इस बार ‘एट होम रिसेप्शन’ में 100 से ज्यादा मेहमान शामिल नहीं हो पाएंगे।  

मेहमानों से मुलाकात के दौरान सामाजिक दूरी का रखा जाएगा पूरा ख्याल
इस कार्यक्रम के दौरान पिछले वर्षों में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मेहमानों से मुलाकात करते थे। इसके लिए मेहमान एक कतार में लगे रहते थे, लेकिन इस बार सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए मेहमानों की सूची में कटौती की गई है। इसलिए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान मेहमान एक दूसरे से उचित दूरी बनाकर खड़े होंगे। इसके अलावा, दोनों गणमान्य व्यक्तियों के लिए खास व्यवस्था की गई है।

यह भी पढ़ें: 74 साल में पहली बार अलग तरह का होगा स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन, जानें कैसी रहेगी व्यवस्था

इस कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रपति भवन कन्वेंशन सेंटर (आरबीसीसी) में किया जाएगा। इस दौरान प्रवेश और निकास के लिए सख्त प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। मेहमानों के आगमन के दौरान उनके लिए मास्क, सैनिटाइजर आदि की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही मुख्य जगहों पर भी इसे रखा जाएगा, ताकि संक्रमण से बचाव हो सके। 

सभी मंत्रियों को नहीं मिलेगा न्योता
वहीं, इस बार कैबिनेट या मंत्रिपरिषद के सभी मंत्रियों की न्योता नहीं भेजा जाएगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, केवल चार मंत्रियों को इस कार्यक्रम के लिए निमंत्रण भेजा जाएगा। इन मेहमानों की सूची में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री एस जयशंकर, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और गृह मंत्री अमित शाह के नाम हैं। बताया गया है कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने के चलते अमित शाह के इस कार्यक्रम में शामिल होने की संभावना बहुत कम है। बता दें कि, कोरोना संक्रमित होने के बाद से शाह का इलाज चल रहा है। 

विदेशी दूतों को भी कम संख्या में भेजा जाएगा निमंत्रण
इस कार्यक्रम में शिरकत करने वाले विदेशी दूतों की संख्या में भी बड़ी कटौती की जाएगी। बता दें कि दिल्ली में 170 दूतावास/उच्च आयोग और अन्य प्रतिनिधियों की मौजूदगी है। लेकिन कोरोना वायरस को देखते हुए इनमें से कुछ ही दूतों को निमंत्रण भेजा जाएगा। बताया गया है कि इस बार निमंत्रण कार्ड जी-8, ब्रिक्स, यूरोपीय संघ जैसे क्षेत्रीय और वैश्विक ब्लॉकों के आधार पर होने जा रहा है। इस श्रेणी में 15 से अधिक मेहमानों को निमंत्रण नहीं भेजा जाएगा। 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

अपराध संक्षिप्त

बातों में उलझाकर एटीएम बदला जासं, गुरुग्राम : साइबर सिटी में धोखाधड़ी के मामले कम होने का नाम नहीं। बृहस्पतिवार शाम भी एक...

यमुनापार में आनंद उत्सव के साथ विराजमान हुई मां दुर्गा

जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली : यमुनापार में 14 जगहों पर मां दुर्गा की मूर्ति की स्थापना हुई है। कुछ पंडालों में आनंद उत्सव हुआ...