Home बड़ी खबरें भारत किसानों को मिलेगा इस योजना का लाभ, मवेशी की मौत पर सरकार...

किसानों को मिलेगा इस योजना का लाभ, मवेशी की मौत पर सरकार देगी पैसा, जानें कैसे करें अप्लाई

Pashu bima yojana 2020- पशु की मौत से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए सरकार की पशुधन बीमा योजना है. यह केंद्र प्रायोजित योजना है जो देश के 100 चयनित जिलों में क्रियान्वित की गई थी.

Pashu bima yojana 2020- पशु की मौत से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए सरकार की पशुधन बीमा योजना है. यह केंद्र प्रायोजित योजना है जो देश के 100 चयनित जिलों में क्रियान्वित की गई थी.

किसानों के लिए पशु और खेती ही उनकी कमाई का एकमात्र जरिया होता है. किसान फसल को किसी भी प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान से बचने के लिए बीमा करवाता है. लेकिन कई बार खेती-किसानी का आधार माने जाने वाले पशुधन के बीमा (Pashu bima yojana 2020) के बारे में सोचते तक नहीं. बीमारी, मौसम या दुर्घटना से होने वाली पशु की मौत से एक किसान को बहुत ज्यादा नुकसान होता है. पशु की मौत से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए सरकार की पशुधन बीमा योजना है. यह एक केंद्र प्रायोजित योजना है जो देश के 100 चयनित जिलों में क्रियान्वित की गई थी. यह योजना देश के 300 चयनित जिलों में नियमित रूप से चलाया जा रहा है.

प्रीमियम का एक बड़ा हिस्सा केंद्र या राज्य सरकारें करती है वहन-
दूध देने वाली गाय-भैंस की कीमत की बात करें तो आज के समय में अच्छा दूध देनी वाली भैंस की कीमत लाख रुपये से ज्यादा है. वहीं अगर घोड़ा, ऊंट की बात की जाए तो इनकी कीमत कई लाख की होती है. इसलिए जरूरी है कि अन्य सामान की तरह भी पशुधन का बीमा कराया जाए.

हर राज्य में होती है अलग-बता दें कि राज्य सरकार पशुओं के बीमा के लिए समय-समय पर अलग-अलग योजनाएं निकालती हैं. खास बात ये है कि पशुओं के बीमा के प्रीमियम का एक बड़ा हिस्सा केंद्र या राज्य सरकारें वहन करती हैं. हर राज्य में पशुओं का बीमा प्रीमियम और कवरेज राशि भी अलग-अलग होती है. जैसे- उत्तर प्रदेश में गाय या भेंस के 50,000 बीमा कवरेज के लिए प्रीमियम राशि पशुओं की नस्ल के आधार पर 400 रुपये से लेकर 1000 रुपये तक है.

ये भी पढ़ें : किसानों के लिए अलर्ट! 20 दिन के अंदर बैंक को वापस करें कृषि लोन वरना…

जानिए कैसे होगा पशुओं का बीमा
>> किसानों को अपने पशु का इंश्योरेंस करवाने के लिए अपने जिले के पशु चिकित्सालय में बीमा के लिए जानकारी देनी होगी.
>> पशु डॉक्टर और बीमा कंपनी का एजेंट किसान के घर जाकर वहां पशु के स्वास्थ की जांच करता है.

>> पशु के स्वस्थ्य होने पर एक हेल्थ सर्टिफिकेट जारी किया जाता है.
>> पशु का बीमा करने के दौरान बीमा कंपनी द्वारा पशु के कान में टैग लगाया जाता है.
>> किसान की अपने पशु के साथ एक फोटो ली जाती है. इसके बाद बीमा पॉलिसी जारी की जाती है.

ये भी पढ़ें : 56 लाख किसानों को बिना प्रीमियम दिए मिलेगा 1 लाख रु तक का मुआवजा, यहां शुरू हुई नई योजना

योजना के अंतर्गत देशी/ संकर दुधारू मवेशियों और भैंसों का बीमा उनके वर्तमान बाजार मूल्य पर किया जाता है. बीमा का प्रीमियम 50 प्रतिशत तक अनुदानित होता है. अनुदान की पूरी लागत केंद्र सरकार द्वारा वहन की जाती है. अनुदान का लाभ प्रत्येक लाभार्थी को 2 पशुओं तक सीमित रखा गया है तथा एक पशु की बीमा अधिकतम 3 साल के लिए की जाती है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Delhi Air Pollution: प्रदूषण के खिलाफ जंग तेज, धूल के गुबार पर एंटी स्मॉग गन से होगा वार

नई दिल्ली । आने वाली सर्दियों में धूल से दिल्ली वासियों का दम न घुटे, इसके मद्देनजर दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) ने सख्त...

हिसा से पीड़ित महिलाओं को कानूनी सलाह के साथ मिलेगी चिकित्सीय सहायता

संवाद सहयोगी, कोडरमा: उपायुक्त रमेश घोलप की अध्यक्षता में सखी वन स्टॉप सेंटर के क्रियान्वयन के लिए जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक मंगलवार...

जिले के तीन केंद्रों पर परीक्षा आज से, एक घंटे पहले पहुंचने का निर्देश

संवाद सहयोगी, झुमरीतिलैया (कोडरमा): विनोबा भावे विश्वविद्यालय के तत्वावधान में 25 सितंबर से 15 अक्टूबर तक परीक्षा का दौर चलेगा। इसे लेकर गुरुवार...

मोबाइल पर नहीं आएगा अलर्ट और अपने से पैसा ट्रांसफर हो जाएगा, इस बैंक के खाते से 35 लाख रुपए ऑन लाइन गायब, डिजिटल बैंकिंग बना खतरा

Hindi NewsBusinessYes Bank Fraud, Online Banking Fraud Delhi Mumbai, Banking Fraud Digital Banking Fraud, Banking Transfer ICICI Bank, HDFC Bankमुंबई23 मिनट पहलेलेखक: अजीत सिंहकॉपी...