Home राज्यवार मुंबई साईबाबा की पैरोल याचिका पर राज्य से जवाब-तलब

साईबाबा की पैरोल याचिका पर राज्य से जवाब-तलब

पूर्व प्रोफेसर साईबाबा 90 प्रतिशत तक दिव्यांग हैं और व्हीलचेयर पर हैं। उन्होंने हाई कोर्ट की नागपुर पीठ के समक्ष भी इस आधार पर जमानत याचिका दायर की थी कि उनकी मां बीमार हैं और उनका अपना स्वास्थ्य भी बिगड़ता जा रहा है।

नवभारत टाइम्स | Updated:

बॉम्बे हाई कोर्ट

मुंबई

मंगलवार को दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर जी.एन साईबाबा की एक याचिका पर बॉम्बे हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। याचिका में साईबाबा ने अपनी दिवंगत मां के अंतिम संस्कार के बाद की रस्मों में शामिल होने के लिए आपात-स्थिति पैरोल देने का अनुरोध किया है। माओवादियों से संबंध रखने के अपराध में नागपुर स्थित केंद्रीय कारागार में उम्रकैद काट रहे साईबाबा की मां का एक अगस्त को निधन हो गया था।

पिछले सप्ताह जेल के अधिकारियों ने साईबाबा द्वारा मां के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए दिए गए पैरोल संबंधी आवेदन को खारिज कर दिया था। इसके बाद उन्होंने अपने वकील मिहीर देसाई के जरिए हाई कोर्ट का रुख किया और आपात-स्थिति पैरोल पर रिहा किए जाने का अनुरोध किया ताकि वह अपनी मां के अंतिम संस्कार के बाद के रीति-रिवाजों में शामिल हो सकें। इस पर सुनवाई के दौरान विशेष लोक अभियोजक पी के सतियानाथन ने याचिका पर जवाब देने के लिए हाई कोर्ट से समय मांगा। न्यायमूर्ति ए.एस. चंदुरकर और न्यायमूर्ति ए.बी. बोरकर की खंड पीठ ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर 18 अगस्त तक इस पर जवाब देने का निर्देश दिया। इससे पहले भी उन्होंने हैदराबाद में अपनी मां से मिलने के लिए जेल अधिकारियों से अनुमति मांगी थी लेकिन उसे खारिज कर दिया गया था।

हाई कोर्ट ने 28 जुलाई को जमानत याचिका खारिज कर दी थी। मार्च 2017 में गढ़चिरौली की सेशन कोर्ट ने साईबाबा और एक पत्रकार तथा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के एक विद्यार्थी समेत चार अन्य को माओवादियों से संपर्क रखने और देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने जैसी गतिविधियों में लिप्त होने का दोषी पाया था। सेशन कोर्ट ने साईबाबा और अन्य को भारतीय दंड संहिता (भादंसं) और गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम कानून (यूएपीए) के प्रावधानों के तहत दोषी ठहराया था। दोषी करार दिए जाने के बाद से साईबाबा नागपुर केंद्रीय कारागार में बंद हैं।

Web Title answer from the state on the parole petition of saibaba(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Earthquake in Delhi NCR News: दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटकों पर केंद्रीय मंत्री ने दिया बड़ा बयान

Earthquake in Delhi NCR News लोकसभा में एक लिखित जवाब में हर्षवर्धन ने कहा कि पिछले तीन साल (सितंबर-2017 से अगस्त-2020) के दौरान नेशनल...

विपक्षी दलों ने कृषि विधेयकों को लेकर संसद भवन परिसर में प्रदर्शन किया

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।भाषा | Updated: 23 Sep 2020,...

Kangana Ranaut VS Urmila Matondkar: उर्मिला मातोंडकर समर्थन से हुईं ख़ुश, लोगों को ऐसे कहा थैंक्यू

Publish Date:Sat, 19 Sep 2020 09:17 AM (IST) नई दिल्ली, जेएनएन। Kangana Ranaut VS Urmila Matondkar:  कंगना रनोट और उर्मिला मातोंडकर इस वक्त आमने-सामने हैं।...

UN में चीन पर बरसे ट्रंप, कोरोना संक्रमण के लिए ठहराया जिम्मेदार, बोले-WHO पर भी इसका कब्जा

न्यूयॉर्कसंयुक्त राष्ट्र की स्थापना के 75 साल पूरे होने के अवसर पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को खूब खरीखोटी सुनाई है। उन्होंने अपने...