Home क्राइम पुलिसकर्मियों ने खून देकर बचाई गैंगरेप पीड़िता की जान

पुलिसकर्मियों ने खून देकर बचाई गैंगरेप पीड़िता की जान

नारपोली पुलिस ने महिला को इलाज के लिए कलवा स्थित छत्रपति शिवाजी महाराज अस्पताल में भर्ती करा दिया था| लेकिन घटनास्थल पर काफी देर तक बेहोशी की हालत में पड़े रहने के कारण उस महिला का काफी खून बह गया था|

Navbharat Times | Updated:

महाराष्ट्र पुलिस

भिवंडी

सामूहिक बलात्कार की शिकार एक महिला खून की कमी के कारण कलवा अस्पताल में जीवन और मौत के बीच संघर्ष कर रही थी। उसकी मदद के लिए कोई भी आगे नहीं आया| ऐसे में नारपोली पुलिस स्टेशन के दो पुलिसकर्मियों ने खून देकर महिला की जान बचाई| मानवता की मिसाल पेश करने वाले दोनों पुलिसकर्मियों को पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे ने बधाई दी है| वहीं पूर्व विभाग के सहायक पुलिस आयुक्त नितिन कौसडीकर ने नारपोली पुलिस स्टेशन जाकर दोनों पुलिसकर्मियों को गुलदस्ता देकर सम्मानित किया|

बता दें कि लॉकडाउन के दौरान कामधंधा बंद हो गया है| इसके कारण एक 42 वर्षीय बेरोजगार महिला पिछले दिनों चरनीपाडा इलाके में रहने वाली अपनी पहचान की किसी महिला के पास काम की तलाश में गई थी| लौटते समय उसे रात हो गई थी। वह रेलवे लाइन के किनारे से गुजर रही थी, तभी झाड़ी के पास बैठे शराब पी रहे पांच लोगों ने उसे जबरन पकड़ लिया था और हथियार दिखाकर उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया| इससे महिला बेहोश हो गई थी| बलात्कारी बेहोशी की हालत में महिला को वहीं छोड़कर फरार हो गए| दूसरे दिन उस महिला ने नारपोली पुलिस स्टेशन में सामूहिक बलात्कार का मामला दर्ज कराया था| पुलिस ने मोबाइल ट्रेस करके सामूहिक बलात्कार करने वाले पांचों लोगों को दूसरे दिन ही गिरफ्तार कर लिया था|

इसके कारण उसे तत्काल एबी पॉजिटिव खून की आवश्यकता थी| लेकिन उस समय ठाणे के ब्लड बैंक में न तो एबी पॉजिटिव खून था और कोरोना संक्रमण के डर के कारण न ही कोई व्यक्ति उस महिला के लिए खून देने के लिए तैयार था| कलवा अस्पताल के डॉक्टरों ने नारपोली पुलिस से तत्काल एबी पॉजिटिव खून की व्यवस्था करने की जानकारी दी थी| सोशल मीडिया पर भी ब्लड डोनेट करने का अनुरोध किया गया था| लेकिन नारपोली पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक मालोजी शिंदे ने खून की कमी की सूचना मिलते ही तत्काल उसकी व्यवस्था कराई| नारपोली पुलिस स्टेशन के नाइक प्रमोद इशी एवं पुलिस कॉन्स्टेबल राहुल वाघ कलवा स्थित छात्रपति शिवाजी अस्पताल गए| जहां दोनों पुलिसकर्मियों ने अपना ब्लड डोनेट करके महिला की जान बचाई|

Web Title policemen saved the life of a gang rape victim by giving blood(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

रेप केस में आरोपी यूपी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को सुप्रीम कोर्ट में झटका

यूपी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति (फाइल फोटो).नई दिल्ली: रेप केस में आरोपी यूपी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति (Gayatri Prasad Prajapati)...

हिमाचल में कोरोना से छह और मौतें, शिमला समेत प्रदेशभर में 361 नए मामले

हिमाचल प्रदेश में मंगलवार को कोरोना वायरस से छह और लोगों की मौत हो गई। आईजीएमसी में कोरोना वायरस से शिमला के चक्कर निवासी 59...

IPL 2020 से पहले जानिए किस टीम में कौन सा खिलाड़ी खेलेगा, टीमों में हुए बदलाव

नई दिल्ली, जेएनएन। IPL 2020 के शुरू होने में अब महज कुछ घंटे बाकी हैं। इससे पहले आप जान लीजिए कि आइपीएल में...

बिहार का लेनिनग्राद बना क्राइम कैपिटल, बेगूसराय में NDA की राह आसान नहीं

कभी बिहार का स्टालिनग्राद तो कभी सूबे का क्राइम कैपिटल । दिनकर की धरती बेगूसराय इन उपनामों के इतर अलग पहचान भी रखती है।...