Home अर्थव्यवस्था एक छोटी सी गलती से दुनिया के इस बड़े बैंक के डूब...

एक छोटी सी गलती से दुनिया के इस बड़े बैंक के डूब गए 6,750 करोड़ रुपये, अब भारतीय ग्राहकों पर क्‍या होगा असर

सिटी बैंक में लोन ऑपरेशंस स्‍टाफ ने गलती से एक कॉस्‍मेटिक्‍स कंपनी का कर्ज उसके विभिन्‍न कर्जदाताओं को चुका दिया है.

सिटीग्रुप (Citigroup Inc.) ने कई कर्जदाताओं से लिया गया कॉस्‍मेटिक्‍स कंपनी रेवलॉन (Revlon) का 90 करोड़ डॉलर का कर्ज गलती से चुका दिया. न्‍यूयॉर्क का सिटी बैंक इसे अपने किसी कर्मचारी से हुई गलती (Clerical Error) बता रहा है, लेकिन ब्रिगेड, एचपीसी और सिम्‍फनी जैसे रेवलॉन के कर्जदाता (Lenders) अब अपने खाते में आ चुके पैसे लौटाने को तैयार नहीं हैं.

नई दिल्‍ली. सिटी बैंक (Citi Bank) कई बार अपने कर्मचारियों की गलती से उपभोक्‍ताओं के अकाउंट में बड़ी रकम ट्रांसफर करने के कारण सुर्खियों में रह चुका है. दिसंबर 2019 में बैंक ने गलती से अमेरिका (US) के नॉर्थ टेक्‍सास (North Texas) की एक महिला के खाते में 3.7 करोड़ डॉलर ट्रांसफर कर दिए थे. इस बार मामला किसी व्‍यक्तिगत उपभोक्‍ता के खाते में रकम के ट्रांसफर का नहीं है. इस बार किसी कर्मचारी की ये गलती (Clerical Error) सिटी बैंक को 90 करोड़ डॉलर की पड़ी है. भारतीय ग्राहकों पर इसके असर को लेकर विशेषज्ञों का कहना है कि इसका भारत में कोई असर नहीं होगा.

डिफॉल्‍टर घोषित की जा चुकी थी कॉस्‍मेटिक्‍स कंपनी रेवलॉन
न्‍यूयॉर्क के सिटी बैंक में लोन ऑपरेशंस स्‍टाफ ने इस बार गलती से कॉस्‍मेटिक्‍स कंपनी रेवलॉन (Revlon) का 90 करोड़ डॉलर का कर्ज उसके विभिन्‍न कर्जदाताओं को चुका दिया है. अब कॉस्‍मेटिक कंपनी के कर्जदाता अपने खातों में आ चुके इस पैसे को लौटाने को तैयार नहीं हैं. बता दें कि ये भारी-भरकम रकम ठीक तब कर्जदाताओं के अकाउंट्स में पहुंची है, जब अमेरिकी बैंकर रोनाल्ड पिरिलमन की रेवलॉन को डिफॉल्टर कंपनी घोषित कर दिया गया था. ऐसे में कर्जदाता कंपनी को दिए गए कर्ज के वापस मिले पैसों को वापस नहीं करना चाह रहे हैं.

ये भी पढ़ें- 3 हजार रुपये मंथली पेंशन वाली इस स्कीम पर पड़ी कोरोना की मार, जुलाई में सबसे कम हुआ रजिस्ट्रेशनसिटी बैंक को अब तक वापस मिल पाई है आधी ही रकम

कर्मचारी की गलती से मुसीबत में पड़े सिटी बैंक को 90 करोड़ डॉलर में से अब तक आधी रकम ही रेवलॉन के कर्जदाताओं से वापस मिल पाई है. रकम नहीं लौटाने वालों में ब्रिगेड कैपिटल मैनेजमेंट, एचपीएस इंवेस्‍टमेंट पार्टनर्स और सिम्‍फनी एसेट मैनेजमेंट ऐसी कंपनियां शामिल हैं. रेवलॉन ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि कंपनी की ओर से कर्ज वापस नहीं लौटाया गया है. कंपनी ने अपने कर्जदाताओं को भी इसकी जानकारी दे दी है. सिटी ग्रुप ने मामले की जांच शुरू कर दी है.

ये भी पढ़ें- नितिन गडकरी ने कहा- MSME सेक्टर 5 साल में पैदा करेगा 5 करोड़ नौकरियां, अब तक 11 करोड़ को दिया जॉब

कर्जदाताओं ने रेवलॉन पर कर्ज वापसी के लिए किया था केस
दरअसल, खस्‍ताहाल रेवलॉन और उसके कर्जदाताओं के बीच कर्ज वापसी की लड़ाई सबसे खराब दौर में पहुंच चुकी थी. कर्जदाताओं ने कॉस्‍मेटिक्‍स कंपनी पर मुकदमा ठोक दिया था और टर्म तत्‍काल भुगतान करने की मांग की. कंपनी के कर्जदाता उम्‍मीद कर रहे थे कि कोर्ट कंपनी को कर्ज लौटाने का आदेश देगा. इस मुकदमे में रेवलॉन के कर्ज के एडमिनिस्‍ट्रेटिव एजेंट सिटी बैंक को भी डिफेंडेंट बनाया गया था. हालांकि, बैंक एजेंट की भूमिका से इस्‍तीफा देने की प्रक्रिया में था. इसी बीच सिटी बैंक की ओर से गलती से कर्ज लौटाने का मामला हो गया.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

चुनावी हलफनामे में गड़बड़ी: उद्धव, आदित्य और सुप्रिया सुले के खिलाफ आरोप निकले सही तो हो सकती है 6 महीने की जेल

हाइलाइट्स:महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे, उनके बेटे आदित्य ठाकरे और एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले की मुश्किलें बढ़ींउद्धव, आदित्य और सुप्रिया पर चुनावी हलफनामे में...

Realme 7 और Realme C11 की आज सेल, कम कीमत में धांसू फोन खरीदने का मौका

नई दिल्लीटेक ब्रैंड रियलमी की ओर से बीते दिनों दो अलग-अलग सीरीज में धांसू स्मार्टफोन्स लॉन्च किए गए हैं। कंपनी अपनी बजट C-सीरीज में...

प्रसारण से पहले कार्यक्रम पर पाबंदी लगाना न्यूक्लियर मिसाइल की तरह : सुप्रीम कोर्ट

सिविल सेवा में कथित तौर पर मुस्लिम अभ्यर्थियों की घुसपैठ से संबंधित एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम के दो एपिसोड के प्रसारण पर रोक...