Home राज्यवार दिल्ली दिल्ली हाईकोर्ट का DU को आदेश, स्नातक फाइनल ईयर की परीक्षाएं 14...

दिल्ली हाईकोर्ट का DU को आदेश, स्नातक फाइनल ईयर की परीक्षाएं 14 सितंबर से शुरू करें

नयी दिल्ली
दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) ने सोमवार को दिल्ली विश्वविद्यालय (Delhi University) को निर्देश दिया कि वह अंतिम वर्ष के स्नातक छात्रों की 14 सितंबर से फिजिकल एग्जाम ही परीक्षा शुरू करे और उन दिव्यांग छात्रों के ठहरने तथा परिवहन की व्यवस्था के तौर-तरीकों पर काम करे जो कोविड-19 (Coronavirus Lockdown) लॉकडाउन के कारण दिल्ली छोड़कर (Lockdown) चले गए हैं।

अदालत का आदेश दिव्यांग छात्रों का लगाएं पता
अदालत ने डीयू से कहा कि वह उन दिव्यांग छात्रों की संख्या का पता लगाए जो ऑनलाइन ओपन बुक परीक्षा नहीं दे पाए और जो भौतिक रूप से परीक्षा में बैठेंगे। न्यायमूर्ति हिमा कोहली और न्यायमूर्ति सुब्रमण्यम प्रसाद की पीठ ने कहा, ‘आपको (डीयू) पता लगाना होगा कि दिव्यांग छात्र कहां हैं। उन्हें यात्रा के लिए पर्याप्त नोटिस देना होगा।’ पीठ ने पूछा, ‘क्या यह संभव हो सकता है कि वे वहीं परीक्षा दे सकें जहां वे हैं?’

परीक्षा देने वाले दिव्यांग छात्रों को काफी कठिनाई होगी
डीयू की ओर से पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता सचिन दत्ता ने कहा कि इस संबंध में विशिष्ट निर्देश जारी करने होंगे। याचिकाकर्ताओं में से एक ‘नेशनल फेडरेशन ऑफ ब्लाइंड’ की ओर से पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता एस के रूंगटा ने कहा कि खास परिस्थितियों में राज्य का दायित्व है । और भौतिक रूप से परीक्षा देने वाले दिव्यांग छात्रों को काफी कठिनाई होगी क्योंकि हॉस्टल अब भी बंद हैं और दिल्ली पहुंचकर वे कहां ठहरेंगे। इसके साथ ही, इस समय उचित परिवहन व्यवस्था भी उपलब्ध नहीं है।

नलाइन ओपन बुक परीक्षा 10 अगस्त को शुरू हुई थी
अदालत ने कहा, ‘दिल्ली विश्वविद्यालय को निर्देश दिया जाता है कि वह भौतिक रूप से परीक्षा में बैठने वाले दिव्यांग छात्रों की संख्या का पता लगाए और उनके ठहरने तथा परिवहन इत्यदि के तौर-तरीकों पर काम करे।’ अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए ऑनलाइन ओपन बुक परीक्षा 10 अगस्त को शुरू हुई थी और यह 31 अगस्त को खत्म होगी। शुरू में विश्वविद्यालय के वकील ने कहा कि भौतिक रूप से परीक्षा 20 सितंबर से शुरू की जाएगी।

पहले सप्ताह में छात्र को अस्थायी प्रमाणपत्र की आवश्यकता होगी
इस पर अदालत ने प्रक्रिया तेज करने और आठ सितंबर से परीक्षा आयोजित करने का सुझाव दिया। विश्ववविद्यालय की ओर से पेश हुए अन्य वकील मोहिंदर रूपाल ने इस पर कहा कि उन्हें परीक्षा शुरू करने के लिए 31 अगस्त से कम से कम दो सप्ताह के समय की आवश्यकता है। अन्य याचिकाकर्ता की ओर से पेश हुए वकील माणिक डोगरा ने कहा कि सितंबर के पहले सप्ताह में छात्र को अस्थायी प्रमाणपत्र की आवश्यकता होगी क्योंकि उसने एक निजी विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर के लिए आवेदन किया है।

प्रमाणपत्र के लिए दबाव न बनाएं
अदालत ने पूछा कि क्या विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने कोई ऐसा परामर्श या निर्देश दिया है कि विश्वविद्यालय परीक्षाएं पूरी होने तक अस्थायी प्रमाणपत्र के लिए दबाव न बनाएं। वकील ने इस पर कहा कि ऐसा कोई परामर्श जारी नहीं किया गया है। उन्होंने मुद्दे पर निर्देश लेने के लिए समय मांगा। अदालत ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग को परामर्श जारी करने और स्थिति स्पष्ट करने का निर्देश दिया और कहा कि अनेक छात्रों का भविष्य दांव पर है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

UP News: प्रेमिका से शादी करने को यूपी के शख्स ने रची खुद के अपहरण की साजिश, पुलिस ने राजस्थान से दबोचा

आगरायूपी के मैनपुरी जिले में एक 32 साल के शादीशुदा व्यक्ति ने अपने ही अपहरण की साजिश रची, ताकि वह लेनदारों के 12 लाख...

जलजमाव और जलापूर्ति योजना पर जमकर हंगामा

पटना। जलजमाव, जलापूर्ति और नाली-गली योजना पर पार्षदों ने जमकर हंगामा किया। वार्ड 35, 39, 44 और 62 के लिए उच्च क्षमता की जलापूर्ति...

चौपालः इंसाफ की राह

देश ‘निर्भया’ के दोषियों को सजा दिला कर हाल ही में मुक्त हुआ ही था कि उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में एक और...

Gold-Silver Price Today: फिर से सस्ता हुआ सोना-चांदी, नई कीमतें देख चमक उठेंगी आंखें

Gold-Silver Price Today: फिर से सस्ता हुआ सोना-चांदी, नई कीमतें देख चमक उठेंगी आंखेंवैश्विक कीमतों में नरमी के रुख और रुपये के मूल्य सुधरने...