Home राज्यवार दिल्ली UGC Final Year Exam Hearing: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, अंतिम वर्ष...

UGC Final Year Exam Hearing: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के लिए यूजीसी गाइडलाइंस के विरोध में याचिका

Publish Date:Tue, 18 Aug 2020 08:25 AM (IST)

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। UGC Final Year Exam Hearing: देश भर के विश्वविद्यालयों एवं अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों में स्नातक एवं परास्नातक पाठ्यक्रमों की अंतिम वर्ष या सेमेस्टर की परीक्षाओं को 30 सितंबर तक करा लेने के यूजीसी के निर्देशों को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज, 18 अगस्त 2020 को फिर सुनवाई होनी है। इससे पहले मामले की 14 अगस्त 2020 को सुनवाई हुई थी। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली खण्डपीठ यूजीसी गाइडलाइंस मामले की सुनवाई कर रही है, जिसमें यूजीसी एवं सरकार का पक्ष सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता रख रहे हैं, जबकि छात्रों का पक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता डॉ. अभिषेक मनु सिंघवी रख रहे हैं। वहीं, इसी मामले से सम्बन्धित युवा सेना के एक अन्य मामले में छात्रों का पक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता श्याम दीवान रख रहे हैं।

यह भी पढ़ें – Final Year Exams 2020: सुप्रीम कोर्ट में यूजीसी गाइडलाइंस मामले में फैसले तक हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट ने परीक्षाओं पर लगायी रोक

क्या हुआ 14 अगस्त की सुनवाई के दौरान?

अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के लिए यूजीसी गाइडलाइंस मामले की पिछली सुनवाई के दौरान डॉ. अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि जब संस्थान कक्षाएं आयोजित कर पा रहे हैं तो परीक्षाओं का आयोजन कैसे करेंगे। साथ ही, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी शिक्षण संस्थानों को 31 अगस्त 2020 तक बंद रखने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि सामान्य हालात में कोई भी परीक्षाओं के विरोध में नहीं है। हम महामारी के बीच परीक्षाओं का विरोध कर रहे हैं। वहीं, अधिवक्ता श्याम दीवान ने कहा कि जब यूजीसी स्वयं कहता है कि ये यदि एडवाइजरी है तो इसे स्थानीय जरूरतों के हिसाब से बदला भी जा सकता है।

यह भी पढ़ें – UGC Final Year Exam Hearing: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई 18 अगस्त तक के लिए टली, देखें अपडेट्स

बता दें के यूजीसी द्वारा 6 जुलाई 2020 को जारी गाइंडलाइंस में अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों में फाइनल ईयर या सेमेस्टर की परीक्षाओं को 30 सितंबर तक करा लेने के निर्देश दिये गये थे। वर्तमान में फैली अनियंत्रित कोविड-19 महामारी के दौर में परीक्षाओं को फिजिकली आयोजित कराने का विरोध छात्रों द्वारा किया जा रहा है। छात्रों द्वारा दायर याचिका में मांग की गयी है कि अंतिम वर्ष या सेमेस्टर की परीक्षाओं को रद्द किया जाना चाहिए और छात्रों के रिजल्ट उनके इंटर्नल एसेसमेंट या पास्ट पर्फार्मेंस के आधार पर तैयार करते हुए जल्द से जल्द जारी होने चाहिए।

Posted By: Rishi Sonwal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

IPL 2020: मुंबई इंडियंस टीम का सरप्राइज पैकेज हो सकता है यह कैरेबियाई तेज गेंदबाज

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सीजन का आगाज होने में कुछ ही घंटे बचे हैं। डिफेंडिंग चैंपियन मुंबई इंडियंस का मुकाबला चिर...

UNGA: तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने कश्मीर पर फिर उगला जहर, बताया सबसे ज्वलंत मुद्दा

न्यूयॉर्कतुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैय्यप एर्दोगन ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के मंच से फिर एक बार कश्मीर को लेकर जहर उगला है। उन्होंने कहा...

Bihar election 2020: बिहार में शराबबंदी के बीच चुनाव के दौरान शराब तस्करों से निपटना बड़ी चुनौती

बिहार में 'कोरोना काल' में ही विधानसभा चुनाव होने हैं। इसी महीने किसी भी दिन चुनाव आयोग तारीखों की घोषणा कर सकता है। चुनाव...

गंभीर दुर्घटना विकलांगता ही नहीं मानसिक घाव भी देती है : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर स्पष्ट किया है कि अदालतों को वाहन दुर्घटना में मुआवजे के दावों का निस्तारण तय करते हुए किन बातों...

कोरोना हमारे डीएनए में मौजूद एसीई-2 रिसेप्टर पर अटैक करता है, पर 60% भारतीयों में ये जीन बहुत मजबूत है; इसीलिए हम ज्यादा सुरक्षित

एक घंटा पहलेलेखक: गौरव पांडेयकॉपी लिंकबीएचयू के प्रोफेसर ज्ञानेश्वर चौबे और उनकी टीम ने दुनियाभर के 483 लोगों के जीनोम की स्टडी कर पता...