Home कोरोना वायरस भारत के युवाओं के लिए रोज़गार की राह हुई और मुश्किल

भारत के युवाओं के लिए रोज़गार की राह हुई और मुश्किल

इमेज कॉपीरइट
Getty Images

कोरोना के आने से पहले भी दुनिया भर में यह बहुत बड़ा सवाल था कि आनेवाले दिनों में रोज़गार कैसे मिलेगा, कहाँ मिलेगा और किस किसको मिलेगा?

अर्थशास्त्र में नोबल पुरस्कार पानेवाले दंपती अभिजीत बनर्जी और एस्टर डूफलो तो तभी कह चुके थे कि अब दुनिया भर की सरकारों को अपनी बड़ी आबादी को सहारा देने का इंतज़ाम करना पड़ेगा, क्योंकि सबके लिए रोज़गार नहीं रह पाएगा.

मध्य प्रदेश सरकार का फ़ैसला, सरकारी नौकरियां राज्य के लोगों को ही मिलेगी

नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी क्या है, जिसे मोदी युवाओं के लिए वरदान कह रहे हैं

बड़ी बहस इस बात पर चल रही थी कि कृत्रिम मेधा यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के ज़रिए क्या-क्या हो सकता है और कौन से लोग हैं, जिनकी नौकरियाँ किसी कंप्यूटर या रोबोट के हाथ में नहीं जा पाएँगी.

एक तरफ़ दुनिया भर के उद्योगपति कनेक्टेड फ़ैक्टरी और पूरी तरह मशीनों से चलने वाले बिज़नेस के सपने देख रहे थे तो दूसरी तरफ़ समाज और सरकारें इस चिंता में थीं कि लाखों करोड़ों नौजवानों के रोज़गार का इंतज़ाम कैसे किया जाए.

युवाल नोआ हरारी अपनी महत्वपूर्ण किताब 21 Lessons for the 21st century में 21वीं सदी के जो 21 सबक गिनाते हैं, उनमें दूसरे ही नंबर पर है रोज़गार और आज की नई पीढ़ी के लिए यह खौफ़नाक चेतावनी कि- ‘जब तुम बड़े होगे तो शायद तुम्हारे पास कोई नौकरी न हो!’

हालाँकि वो यह मानते हैं कि निकट भविष्य में कंप्यूटर और रोबोट शायद बड़े पैमाने पर इंसानों को बेरोज़गार न कर पाएँ, लेकिन यह आशंका कोई बहुत दूर की कौड़ी भी नहीं है.

वो 2050 की दुनिया की कल्पना कर रहे थे.

इमेज कॉपीरइट
Amphol Thongmueangluang/SOPA Images/LightRocket vi

डेटा को ‘नया तेल’ कहने के पीछे वजह क्या है?

इसी तरह एलेक रॉस ने अगले 10 साल की चुनौतियों का हिसाब जोड़ा. उन्होंने इस बात को बारीकी से पढ़ा कि इस दौरान जो नई तकनीक आएगी और जो नई खोज होंगी या इस्तेमाल में लाई जाएँगी, उनसे हमारे घर यानी रहन सहन और हमारा दफ़्तर यानी काम करने का तरीक़ा कैसे-कैसे बदलेगा.

दुनिया कैसे बदलेगी, डेटा को नया तेल क्यों कहा जा रहा है और कंप्यूटर की प्रोग्रामिंग से बढ़कर इंसान की प्रोग्रामिंग तक का खाका खींचती रॉस की किताब The Industries of the future एक तरह की गाइड है. तेज़ी से बदलती दुनिया में न सिर्फ़ बचे रहने बल्कि तरक्की भी करते रहने के लिए.

कोरोना वायरस के दौर में बेरोजगारी: नौकरी जाने पर क्या क्या गुजरती है

कोरोना लॉकडाउन में हर दिन कितने हज़ार करोड़ का नुकसान?

इसमें डेटा का दम भी दिखता है, रोबो का डर भी दिखता है, कंप्यूटर कोड का हथियार की तरह इस्तेमाल होने की आशंका भी है, ज़मीनी या आसमानी लड़ाई की जगह वर्चुअल या साइबर युद्ध का खौफनाक नज़ारा भी है और तीसरी दुनिया या विकासशील देशों के लिए यह चुनौती भी कि वो अमरीका की सिलिकॉन वैली के मुकाबले अपने देशों में वो क्या खड़ा कर पाएँगे, जहाँ नौजवानों की मेधा और कौशल का सही इस्तेमाल हो सके और वो अपने समाज का भविष्य सुरक्षित करने में मददगार बनें.

लेकिन यह सारी कहानी मार्च 2020 में काफ़ी बदल गई.

इमेज कॉपीरइट
Manuel Romano/NurPhoto via Getty Images

जो नहीं होना था वो हो चुका है. दुनिया भर के लोग अब तक के इतिहास के सबसे बड़े संकट से जूझ रहे हैं और वो तमाम आशंकाएँ सच हो चुकी हैं, जिनकी कल्पना की जा रही थी. आधी से ज़्यादा दुनिया एक साथ तालाबंदी की चपेट में आ चुकी है.

दुनिया भर में विमान सेवाएँ, होटल, टूरिज्म और ट्रेन या बसें तक एक साथ बंद हो जाना तो कल्पना से भी परे की चीज़ है.

कोरोना काल में ना रोज़गार और ना खाना, बढ़ती आत्महत्या

किसानों के किसी काम भी आ पाएगा मोदी का कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर फंड?

इसके साथ ही रोज़ी रोटी का संकट भी गहरा गया और उसके साथ जुड़े सवाल भी. अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन यानी ILO लगातार हिसाब लगा रहा है कि कोरोना से दुनिया भर में रोज़गार पर क्या असर पड़ा?

अप्रैल के अंत में उसने हिसाब जोड़ा कि इस साल की पहली तिमाही यानी जनवरी से मार्च तक दुनिया भर में क़रीब साढ़े 18 करोड़ नौकरियाँ जा चुकी थीं. यह फुल टाइम नौकरियों का हिसाब है, दिहाड़ी कामगारों का नहीं. लेकिन अगस्त में जारी उसकी कोरोना रिपोर्ट का पाँचवाँ संस्करण और खौफ़नाक तस्वीर दिखाता है.

उनका कहना है कि जैसा सोचा था, जैसा दिख रहा था, हाल उससे कहीं ज़्यादा ख़राब है. साल की दूसरी तिमाही यानी अप्रैल से जून के बीच दुनिया भर में 14 प्रतिशत काम नहीं हो पाया जो 40 घंटे के हफ़्ते के हिसाब से 48 करोड़ नौकरियाँ जाने के बराबर का नुक़सान है.

इसमें भारत का हिस्सा कितना है ये नहीं बताया गया, लेकिन भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका और बांग्लादेश यानी दक्षिण एशिया में कुल मिलाकर इन तीन महीनों में साढ़े तेरह करोड़ नौकरियाँ जाने का अंदाज़ा इस रिपोर्ट में लगाया गया है.

इमेज कॉपीरइट
Pradeep Gaur/SOPA Images/LightRocket via Getty Ima

अभी आगे क्या क्या हो सकता है

आईएलओ ने तीन संभावनाएँ जताई हैं.

अगर सब कुछ अच्छा रहता है, यानी कोरोना का संकट हल होने की तरफ़ बढ़ता है और इकोनॉमी पटरी पर लौटने लगती है. तो भी अक्तूबर से दिसंबर के बीच दुनिया भर में 34 लाख नौकरियाँ जाने जैसा नुक़सान होगा. अगर सब कुछ अच्छा नहीं होता, लेकिन हालात ख़राब भी नहीं हुए, तब यह संख्या 14 करोड़ हो सकती है.

मोदी 2 के 100 दिनः रोज़गार और निवेश कैसे लाएगी सरकार

कुवैत में भारतीयों के लिए राहत, नौकरी वाले क़ानून में छूट की घोषणा

अगर हालात बिगड़ते हैं, तब डर है कि 34 करोड़ और लोगों को रोज़गार से हाथ धोना पड़ सकता है. इनमें से कौन सी संभावना सच के ज़्यादा क़रीब है?

इसका जवाब अभी दुनिया में कहीं कोई नहीं दे सकता. जितने जानकारों से पूछो, सबका यही कहना है कि आप हमें बताइए कि कोरोना का ख़तरा कब ख़त्म होगा, उसके बाद हम आपको हर सवाल का जवाब दे सकते हैं. यानी जवाब किसी के पास है नहीं.

इसके बावजूद अंदाज़ा लगाना भी जारी है और अच्छे या ख़राब हालात के हिसाब से तैयारी करना भी. जैसा शुरू में बताया, नई दुनिया में नए अंदाज़ से जीने की तैयारी तो पहले से ही चल रही थी कोरोना ने बस इसकी शिद्दत और रफ़्तार बढ़ा दी है.

तो इस वक़्त सबसे बड़ा सवाल तो यह है कि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की जान कैसे बचाई जाए. और उसके बाद आता है यह सवाल कि लोगों को रोज़गार कैसे दिया जाए या जो लोग रोज़गार में हैं, उनका काम बचाया कैसे जाए? और अगर नौकरी चली ही जाए, तो नए रोज़गार का इंतजाम कैसे हो?

कोरोना के बाद यह सवाल और गंभीर इसलिए भी हो गया है क्योंकि बहुत से कारोबार तो बिल्कुल ठप ही हो गए हैं. जब शुरू भी होंगे तो कितना चलेंगे, इस पर शक है. और जो चलने लगे हैं, उनमें भी कहाँ कितनी नौकरियाँ निकलेंगी और किस तरह के लोगों को काम मिलेगा, इसी पर इस वक़्त सबसे ज़्यादा चिंता और विचार विमर्श हो रहा है.

जितनी भी रिसर्च रिपोर्ट आ रही हैं, उन सबमें एक लिस्ट है कोविड प्रूफ़ जॉब्स यानी ऐसे कामों की, जिन पर कोरोना संकट का कोई बुरा असर नहीं हुआ. इनमें ज़्यादातर एफ़एमसीजी, एग्रो केमिकल, केमिकल, ई कॉमर्स, हेल्थकेयर, हाईजीन, लॉजिस्टिक्स, ऑनलाइन ट्रेनिंग और एजुकेशन और आईटी शामिल हैं.

इन सबके साथ सरकारी नौकरियों को तो रख ही लीजिए. ख़ासकर भारत में.

लेकिन इसके साथ आप एक लिस्ट औऱ देख सकते हैं. वो उन कामों की यानी जॉब्स की है, जो इस वक़्त बेहद ज़रूरी हैं. यानी उनमें काम कर रहे लोगों की नौकरी को तो कोई ख़तरा नहीं है, लेकिन उनकी ज़िंदगी ही ख़तरे में है. वो भी काम की वजह से.

इसमें वो सारे लोग शामिल हैं, जो कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई में अगले मोर्चे पर हैं. यानी डॉक्टर, नर्स, हॉस्पिटल स्टाफ़, पुलिस, सफ़ाई कर्मचारी, पैथोलॉजी या डायगनोस्टिक टेस्ट सेंटर में काम करनेवाले लोग और फ़ील्ड में काम करनेवाला सरकारी अमला भी.

यहाँ लोगों की मांग भी है, उन्हें बनाए रखने के लिए अच्छे ऑफ़र भी दिए जा रहे हैं, लेकिन जोख़िम भी बड़ा है.

इमेज कॉपीरइट
Ashish Vaishnav/SOPA Images/LightRocket via Getty

लगातार बढ़ रही है अनिश्चितता

बार-बार कहा जा रहा है कि अभी किसी भी नतीजे पर पहुँचने का वक़्त नहीं आया है. लेकिन हर बार ये सुनते ही पता चल जाता है कि अनिश्चितता लगातार बढ़ रही है यानी और ज़्यादा रोज़गार या नौकरियों पर तलवार लटकने लगी है.

हालाँकि भारत की सबसे बड़ी स्टाफिंग कंपनी टीमलीज़ के चेयरमैन मनीष सभरवाल कहते हैं, “लॉकडाउन के दौर में बेरोज़गारी के आँकड़े का हिसाब लगाना ही सही नहीं है. ऐसे देखें तो संडे की दोपहर को तो बेरोज़गारी हमेशा सबसे ऊपर होती है.”

कहने का मतलब यह है कि बेरोज़गारी का असली हिसाब तभी लग पाएगा, जब सारे काम धंधे दोबारा शुरू हो जाएँ और उसके लिए ज़रूरी है कि कोरोना ख़त्म हो जाए. उसका इलाज मिल जाए या फिर टीका आ जाए.

लेकिन एक बात अब तय है. दुनिया पहले जैसी नहीं रहेगी.

कोरोना का ख़तरा टल भी गया तो आने वाले कई साल तक हमारे दिमाग़ पर और हमारे रहन सहन और काम काज के तौर तरीक़ों पर ये छाया रहेगा. यानी सब कुछ बदलने जा रहा है. और इस बदलाव के बाद कौन से काम धंधे तेज़ होंगे. कौन से मंदे पड़ेंगे. यह समझना बेहद ज़रूरी है.

हालात कितने चिंताजनक हैं, इसका अंदाज़ा इस बात से लगाइए कि टीमलीज़ पिछले कई साल से जो इंप्लॉयमेंट आउटलुक रिपोर्ट बनाता रहा है, लेकिन इस बार उसे पढ़ने का तरीक़ा बदल दिया गया है.

इसमें नौकरी देनेवाली कंपनियों से पूछा जाता है कि वो कितने लोगों को नौकरी देने की सोच रहे हैं. अब तक ये देखा जाता था कि कंपनी ने पिछले साल इसी छमाही के दौरान जितनी नौकरियाँ दीं, इस बार उससे कितनी ज़्यादा या कितनी कम नौकरियाँ देने की सोच रही है.

लेकिन इस बार यह सवाल बदल कर सिर्फ़ इतना भर रह गया है कि कंपनियाँ किसी को भी नौकरी देने पर विचार कर रही हैं या नहीं.

और ऐसे में सबसे ज़रूरी बात यह हो जाती है कि कौन लोग, कौन सी नौकरियाँ देंगे और किसे देंगे. तो इसका जो जवाब आपको अपनी आँखों से दिख रहा है, वही सभी कंसल्टेंसी कंपनियों और अध्ययन संस्थानों की रिपोर्ट में भी है. यानी सबसे पहले और सबसे तेज़ी से नौकरियाँ वहाँ मिलेंगी, जो धंधे तेज़ी से चल रहे हैं.

ख़बर है कि अमेजॉन ने मई के महीने में ही 50 हज़ार लोगों को टेंपरेरी काम पर रखा. इससे पहले कंपनी एलान कर चुकी है कि 2025 तक वो भारत में 10 लाख लोगों को काम देगी.

इमेज कॉपीरइट
MANJUNATH KIRAN/AFP via Getty Images

लॉकडाउन में जिस रफ़्तार से लोग घर से ही ख़रीदारी कर रहे हैं, उसका असर ई कॉमर्स पर, फूड डिलिवरी करने वाले ऐप चलाने वाली कंपनियों पर तो पड़ना ही है. खाने पीने के सामान और साबुन तेल जैसी जिन चीज़ों के बिना आप रह नहीं सकते, उन्हें बनाने वाली कंपनियों को भी स्टाफ़ की ज़रूरत बनी हुई है.

इसी तरह वर्क फ्रॉम होम के लिए आपको जो कुछ चाहिए, उस सबके लिए लोगों की ज़रूरत है. इंटरनेट और फ़ोन का इस्तेमाल बढ़ना टेलीकॉम कंपनियों के लिए अच्छी ख़बर भी है और वहाँ रोज़गार के मौक़े भी हैं. तमाम कंपनियाँ इस वक़्त पैसा बचाना चाहती हैं, तो उन्हें कंसल्टेंट्स की ज़रूरत है.

नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म लिंक्डइन ने एक ब्लॉग में 10 ऐसे चुनिंदा कामों की लिस्ट बनाकर लगाई है, जिनमें आज भी लोगों की ज़रूरत है और आने वाले वक़्त में भी इनमें तरक्की की गुंज़ाइश बनी रहेगी. ये हैं- सॉफ्टवेयर इंजीनियर, सेल्स रिप्रेजेंटेटिव, प्रोजेक्ट मैनेजर, आईटी एडमिनिस्ट्रेटर, कस्टमर सर्विस स्पेशलिस्ट, डिजिटल मार्केटियर, आईटी सपोर्ट या हेल्प डेस्क, डेटा एनालिस्ट, फ़ाइनेंशियल एनालिस्ट और ग्राफिक्स डिज़ाइनर.

इस लिस्ट में जोड़ घटाने की गुंज़ाइश हमेशा बनी रह सकती है. लेकिन हाल फ़िलहाल ये वो काम हैं, जिनमें लगे लोग चैन की बंसी बजा सकते हैं. या नए लोग इन कामों को सीखने पर ज़ोर दे सकते हैं.

लेकिन ये फ़िलहाल की कहानी ही है. इसमें आप हेल्थकेयर, ऑनलाइन एजुकेशन या ट्रेनिंग और ई कॉमर्स के सभी काम जोड़ सकते हैं. साथ ही लॉजिस्टिक्स यानी ट्रक, ट्रेन और हवाई जहाज़ से लेकर शहर के भीतर खाना, किराना और शराब की बोतलों की सप्लाई से लेकर एक जगह से दूसरी जगह पार्सल या डॉक्यूमेंट पहुँचाने का काम भी अभी काफ़ी तेज़ होनेवाला है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

लॉकडाउन में कैसे तबाह हुई चाय बाग़ान मज़दूरों की ज़िंदगी

लेकिन लंबे दौर में इसमें से कितना काम रोबोट या कंप्यूटरों के हाथों चला जाएगा पता नहीं.

तब की सोचनी है तो अतुल जालान की किताब Where will Man take us? मनुष्य और उसकी बनाई टेक्नोलॉजी के बीच द्वंद्व पर एक शानदार टिप्पणी है और यह भी आनेवाली दुनिया का एक ऐसा खाका खींचती है जो आपको थोड़ा डराता भी है और थोड़ा हौसला भी देता है.

दुनिया की सबसे बड़ी कंसल्टिंग कंपनियों में से एक गार्टनर का कहना है कि कोविड के बाद काम का तौर तरीक़ा तो बदलने ही जा रहा है. कंपनियाँ ज़्यादा से ज़्यादा काम अब टेंपरेरी स्टाफ से करवाएँगी. पक्की नौकरियाँ कम से कम होती जाएँगी.

कोरोना के बाद के हालात पर उनकी एक रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार 32 प्रतिशत कंपनियाँ पैसा बचाने के लिए अपने स्टाफ़ की छँटनी करके उनकी जगह टेंपररी या गिग वर्कर रख रही हैं.

साइकी (SCIKEY) ऐसे ही लोगों के लिए एक टैलेंट कॉमर्स प्लेटफ़ॉर्म है. यानी जॉब पोर्टल का नया अवतार. वो भी यही हिसाब लगा रहा है और उसने भी पाया कि अब पक्की नौकरियाँ बहुत कम हो जाएँगी और एसाइनमेंट का पैसा लेकर काम करनेवाले गिग वर्कर ही असली कामगार हो जाएँगे.

डिज़िटल और रिमोट वर्क तो तेज़ होगा लेकिन साथ में अब तनख्वाह भी फ़िक्स नहीं रहेगी, ऊपर नीचे होती रहेगी.

चीन के अलावा एशिया के दूसरे देशों में इंडस्ट्रियल वर्कर के लिए भी बहुत से रोज़गार भी पैदा हो सकते हैं, अगर चीन से निकलनेवाली फ़ैक्टरियाँ यहाँ आ जाएँ. इसके अलावा भी कई तरह के नए रोज़गार सामने आएँगे और आगे कंपनियों का ज़ोर कैंडिडेट की डिग्री या सर्टिफ़िकेट देखने से ज़्यादा इस बात पर होगा कि वो उनकी ज़रूरत पर खरे उतरते हैं या नहीं.

इसी के साथ पुराने लोगों के लिए बार-बार लगातार नई चीज़ें सीखते रहना ज़रूरी हो जाएगा. और सीधे कॉलेज या विश्वविद्यालय से आ रहे नौजवानों को भी काम के लिए ज़रूरी हुनर ख़ुद ही सीख कर आना पड़ेगा, ये रिवाज़ अधिक दिन तक नहीं चलनेवाला है कि कंपनियाँ नौकरी देने के बाद साल दो साल तक काम भी सिखाएँगी.

इसकी तैयारी भी चल रही है. अप्रैल में लिंक्डइन के एक सर्वे में पता चला कि नौकरी कर रहे 63% लोग ई लर्निंग पर अधिक समय बिता रहे हैं. 60 प्रतिशत जिस इंडस्ट्री में हैं, उसके बारे में अपनी जानकारी बढ़ाना चाहते हैं, जबकि 57 प्रतिशत अपनी तरक्की के गुर सीखना चाहते हैं. यहीं 45% लोग ऐसे भी हैं, जो अपनी बात सही तरीक़े से रखने या कम्युनिकेशन स्किल में सुधार करने की कोशिश में जुटे हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पाकिस्तान भी दुनिया में कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित 10 देशों में शामिल है.

उनकी कोशिश कितना रंग लाएगी, ये निर्भर करता है उन कंपनियों पर, जहाँ वो काम करते हैं. डिलॉयट ने उन कंपनियों के लिए इस साल एक बड़ी चुनौती खड़ी कर दी है. उसका कहना है कि कंपनियों को अपने गिरेबान में झाँककर देखना होगा कि आज जब इंसान और टेक्नोलॉजी आमने-सामने खड़े दिख रहे हैं तो टेक्नोलॉजी की होड़ में जुटी दुनिया के बीच भी कोई कंपनी कैसे अपनी इंसानियत को बनाकर रख सकती है.

और शायद इसी से आनेवाली दुनिया की वो कंपनियाँ भी सामने आएँगी, जो कमाई करने के साथ साथ कुछ ऐसा भी करती रहें जो उन्हें ‘ग्रेट प्लेसेज़ टू वर्क’ बनाकर रख सके.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Zoom वीडियो कॉल के दौरान बैकग्राउंड की चिंता करने की जरूरत नहीं, यूज करें ये नया फीचर – The Bharatnama

Share Tweet Share Share Email नई दिल्ली: एंड्रॉयड यूजर्स (Android users)अब जूम ऐप (Zoom app) पर वीडियो कॉल के दौरान वर्चुअल बैकग्राउंड (virtual backgrounds)जोड़ पाएंगे. लेटेस्ट जूम ऐप अपडेट...

काबू में आ रहा कोरोना! UP में बीते 5 दिनों में 5069 एक्टिव केस कम हुए, 32895 हुए ठीक

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण पर काबू में आने लगा है इस बात के संकेत बीते पांच दिनों के आंकड़ों से मिलते...

चीन के ग्लोबल टाइम्स में आर्टिकल, इजरायल के स्पायवेयर और अजीत डोभाल के साथ बातचीत…राजीव शर्मा की Inside Story

नई दिल्लीदिल्ली पुलिस स्पेशल सेल (Delhi Police Special Cell) ने आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम (OSA) के तहत पीतमपुरा के रहने वाले फ्रीलांस जर्नलिस्ट राजीव शर्मा...

जानिए POCSO अधिनियम के बारे में खास बातेंं

भारत के कुल जनसंख्या का 37% हिस्सा बच्चों का है और विश्व की कुल जनसंख्या में 20% हिस्सा बच्चों का है। बच्चों का यौन...

ओमप्रकाश राजभर ने BJP को बताया No-1 झूठ पार्टी, कहा- अपनी पुलिस को सुधार लो वरना हम सुधार देंगे…

1. उत्तराखंड: अब 3 नहीं बल्कि सिर्फ एक दिन का मॉनसून सत्र, 10 विधायक बैठेंगे गैलरी मेंकोरोना संक्रमण के चलते उत्तराखंड विधानसभा का मानसून...

Delhi Metro News: मेट्रो के चलने से दिल्ली के बाजारों में बढ़ा कारोबार

नई दिल्ली । Delhi Metro News: दिल्ली में मेट्रो ट्रेन सेवा बहाल होने से बाजारों तक ग्राहकों, दुकानदारों और कर्मचारियों की पहुंच आसान हुई...