Home दुनिया चीन के साथ तनातनी के बीच बिना किसी रुकावट तीसरे रास्ते ऐसे...

चीन के साथ तनातनी के बीच बिना किसी रुकावट तीसरे रास्ते ऐसे लद्दाख पहुंचेगी भारतीय सेना

अगले महीने 9.02 किलोमीटर रोहतांग ला सुरंग चालू होने के लिए तैयार है। लेकिन, राष्ट्रीय सुरक्षा योजनाकारों को लद्दाख के लिए एक और सामरिक लिहाज से सभी मौसम के अनुकूल रास्ते की तलाश है, जो हिमाचल के दरचा से जंस्कार घाटी में पदुम के माध्यम से नीमू को जोड़ता हो। नीमू लेह शहर से करीब 35 किलोमीटर दूर है और पूर्वी लद्दाख और सियाचिन ग्लेशियर की रक्षा के लिए जिम्मेदार XIV कोर का मुख्यालय है।

एक तरफ जहां पाकिस्तान और उसके सदाबहार दोस्त की नजर सियाचिन और दौलत बेग ओल्डी पर है, वरिष्ठ सैन्य कमांडरों को लगता है कि लद्दाख को सड़क से जोड़ने का तीसरा रास्ता उच्च पहाड़ी इलाकों के साथ होना चाहिए और इसके लिए दरचा-पदुम-निमु ट्रैकिंग मार्ग को पक्की सड़क बनाया जाना चाहिए। लद्दाख तक जाने वाले अन्य दो मार्ग हैं जम्मू कश्मीर के जोजी ला और दूसरा मनाली-उप्शी-लेह के माध्यम से।

हालांकि, इस प्रोजेक्ट को रक्षा मंत्रालय की तरफ से दारचा-पदम मार्ग पर करीब साढे चार किलोमीटर शिन्गो ला सुरंग बनाकर दो साल में पूरा करना है, लेकिन नितिन गडकरी की अगुवाई में भूतल परिवहन मंत्रालय और जनरल वी.के. सिंह पिछले दो महीने से इस नए मार्ग के लिए भारी दबाव बना रहे हैं। रक्षा मंत्रालय का यह प्रोजेक्ट पाइप लाइन में करीब एक दशक से पड़ा हुआ है। भूतल परिवहन मंत्रालय का यह प्रस्ताव है कि सुरंग निर्माण का काम उस कंपनी को दिया जाना चाहिए जिसने रोहतांग ला सुरंग बनाई है, लेकिन वह भी दो साल के भीतर होना चाहिए।

ये भी पढ़ें: दुश्मनों की नजरों में आए बिना सेना पहुंचेगी लद्दाख, मनाली से बन रही नई सड़क

सैन्य कमांडर के मुताबिक, सड़क को पूरे वर्ष खुले रखे जाने के लिए तीसरे मार्ग के निर्माण की आवश्यकता महसूस की गई थी, और इसके लिए रोहतांग में अटल सुरंग के अलावा मौजूदा मनाली-लेह मार्ग में चार और ऊंचे पहाड़ी दर्रों के नीचे सुरंग बनाने की जरूरत महसूस हुई।

ये चार दर्रे हैं- बरालचा ला (16500 फीट), नाकी ला (15547 फीट) लाचुंग ला (16616 फीट) और तांगलांग ला (17480 फीट) ये दर्रे रास्तों के लिए मध्य मई से लेकर मध्य नवंबर तक खोले जाते हैं और साल के बाकी समय बर्फ के नीचे दबे रहते हैं।

हालांकि, दारचा-पदुम-निमू मार्ग पर 16570 फीट शिंगो ला के नीचे दारचा और पदुम मार्क के बीच केवल आठ सुरंगों की आवश्यकता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सड़क केवल सर्दियों में दो महीने के लिए बंद है। दारचा मनाली से 147 किलोमीटर दूर है और रोहतांग ला के जिस्पा और कीलोंग के बाद लेह तक राजमार्ग पर स्थित है।

ये भी पढ़ें: क्या सचमुच चीन पूर्वी लद्दाख में बातचीत से समाधान निकालने का पक्षधर है?



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

लालच में गंवा सकते हैं लाखों रुपये

मुंबईबोरीवली के साईं बाबा नगर में रहने वाले 36 वर्षीय रामचंद्र पांडेय के मोबाइल पर करीब 15 दिन पहले किसी अनजान व्यक्ति का एक...

दिल्ली में 30 सितंबर तक सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक जमावड़े पर रोक : डीडीएमए

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।भाषा | Updated: 21 Sep 2020,...

सब्जियों के थोक और फुटकर भाव में जानें कितना बड़ा है अंतर

गली-मोहल्लों में कई जगह आलू-प्याज जहां 50 रुपये किलो बिक रहे हैं, वहीं टमाटर 80 से 100 रुपये किलो। तुरा में तो टमाटर 120...

अनलॉक में भी नहीं लौटे पटना के 8 लाख लोग, इनमें से 5 लाख तो कोचिंग-स्कूल से जुड़े हुए हैं

पटना2 घंटे पहलेकॉपी लिंक3 हजार से अधिक घर और 400 से अधिक बड़े हॉस्टल खाली, शिक्षा से जुड़े कारोबार में 80% तक गिरावटचिंता :...

कृषि सुधार 21 वीं सदी के भारत की जरूरत, किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के प्रयास जारी रहेंगे – मोदी

नयी दिल्ली (भाषा) - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को संसद से पारित कृषि सुधारों से संबंधित विधेयकों को ऐतिहासिक करार देते हुए सोमवार...